स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

VIDEO: मगध एक्सप्रेस के पार्सल कोच से सामान फेंकने वाले दो आरोपियों को आरपीएफ ने किया गिरफ़्तार, सरगना अभी भी फरार

arun rawat

Publish: Jan 12, 2020 14:14 PM | Updated: Jan 12, 2020 14:14 PM

Firozabad

— दो दिन पहले रात्रि के अंधेरे में झाड़ियों में फेंका गया था पार्सल कोच से सामान, आरपीएफ की सक्रियता से बच गया था सामान।

फिरोजाबाद। दो दिन पूर्व मगध एक्सप्रेस के पार्सल कोच से सामान चोरी करने का प्रयास करने वाले दो आरोपियों को टूंडला आरपीएफ ने गिरफ़्तार कर लिया जबकि इसका सरगना अभी भी फरार है। आरपीएफ फरार चल रहे तीन अन्य आरोपियों की तलाश कर रही है। चोरों ने पार्सल का ताला तोड़कर सामान को झाड़ियों में फेंक दिया था, उठाने से पहले ही आरपीएफ पहुंच गई और चोर मौके से भाग गए थे।

[MORE_ADVERTISE1]
[MORE_ADVERTISE2]

यह था पूरा मामला
गुरुवार रात्रि को मगध एक्सप्रेस के एसएलआर कोच से 10 नग सामान को झाड़ियों में फेंक दिया गया था। आरपीएफ इंस्पेक्टर अमित यादव ने बताया कि गश्त के दौरान आरपीएफ ने सात नगों को झाड़ियों से बरामद कर लिया था। तभी से आरपीएफ मामले के खुलासे में जुट गई थी। शनिवार को टूंडला—मितावली के मध्य रेलवे लाइन के किनारे सरसों के खेत से आरपीएफ को तीन नग और बरामद हुए।

दो लोगों को पकड़ा
आरपीएफ ने सामान के पास से दो लोगों को भी गिरफ़्तार कर लिया। जिन्होंने अपने नाम मोहम्मद सलाउद्दीन मोमिन पुत्र मोहम्मद नजरुल इस्लाम निवासी अरुण विश्वास पारा रानूचक शेरसही थाना क्लचक जिला मालदा (पश्चिम बंगाल) और अनिल कुमार कठेरिया पुत्र हरद्वारी लाल निवासी दिलावरपुर थाना मोहम्मदी जिला लखीमपुर उत्तर प्रदेश बताया। पूछताछ करने पर पकड़े गए आरोपियों ने बताया कि उनके अलावा तीन अन्य साथी इस पूरे मामले में शामिल हैं। उन्होंने मगध एक्सप्रेस के फ्रंट एसएलआर से कुल 10 पैकेट चलती ट्रेन से गिराए थे जिनमें से तीन पैकेज को हम लाइन से उठाकर सरसों के खेत में ले आए थे और सात पैकेट वहीं लाइन के किनारे ही पड़े रह गए थे। उन 3 पैकेटों का बारदाना बदल रहे थे कि उसी दौरान पुलिस वालों की गाड़ी दिखाई देने के कारण पांचों लोग तीनों पेकेटों को वहीं छोड़कर भाग गए थे।

उठाने आए थे पैकेट
आज हम पांचों लोग उन्हीं तीनों पैकेजों को मौका पाकर उठाने आए थे कि हम दो लोग पकड़े गए और हमारे तीन साथी जिनमें मुख्य सरगना रामनरेश उर्फ राजू उर्फ भूरा और दो अन्य जिनका नाम पता हम नहीं जानते रामनरेश जानता है मौके से भाग गए। आरपीएफ इंस्पेक्टर ने बताया कि फरार आरोपियों की भी शीघ्र गिरफ़्तारी की जाएगी।

[MORE_ADVERTISE3]