स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

VIDEO: दुष्कर्म के मामले में विरोधियों को फंसाना चाहता था हिस्ट्रीशीटर, अपने जाल में खुद ही फंस गया

arun rawat

Publish: Dec 07, 2019 12:26 PM | Updated: Dec 07, 2019 12:26 PM

Firozabad

— सामूहिक दुष्कर्म के मामले में पचोखरा पुलिस ने प्रेमी—प्रेमिका सहित तीन को जेल भेजा।

फिरोजाबाद। झूठे दुष्कर्म के मामले में प्रेमिका प्रेमी के विरोधियों को फंसाना चाहती थी लेकिन प्रेमी के साथ खुद ही इसमें फंस गई। पुलिस ने तीनों को जेल भेज दिया। प्रेमी—प्रेमिका का सहयोग करने वाले प्रेमी के दोस्त को भी पुलिस ने जेल भेजा है। प्रेमी हिस्ट्रीशीटर है, जिस पर हाथरस और गाजियाबाद थाने में कई मामलों में मुकदमा दर्ज हैं।

यह भी पढ़ें—

दुष्कर्म का आरोप लगाने वाली छात्रा सहित तीन के विरुद्ध रिपोर्ट दर्ज

[MORE_ADVERTISE1]
[MORE_ADVERTISE2]

ऐसे खुला राज
एसएसपी सचिन्द्र पटेल ने बताया कि विगत बुधवार को छात्रा ने फिरोजाबाद के पचोखरा के गांव गढ़ी जोरी स्थित मंदिर से यूपी-112 को फोन कर कहा था कि आगरा के कोचिंग जाते समय आगरा के खंदारी से बोलेरो कार में चार युवकों ने उसका अपहरण किया। वे उसके भाई के दोस्त हैं। उन्होंने कहा था कि भाई दुर्घटना में घायल हो गया है, साथ चलो, इसलिए चली गई थी। छात्रा ने कहा था कि उसके साथ एत्मादपुर में खेत में सामूहिक दुष्कर्म किया गया। पुलिस ने ज्ञानेंद्र कुमार, गीतम सिंह, राजा उर्फ रोबिन निवासी मेंडू हाथरस के विरुद्ध रिपोर्ट दर्ज कर ली थी। छात्रा का मेडिकल परीक्षण करा लिया था। आरोपियों के गांव दबिश दी तो चारों दुकान पर बैठे मिले। सर्विलांस पर उनकी लोकेशन गांव की ही मिली।

यह भी पढ़ें—

FakeGangrape: पुलिस ने हिस्ट्रीशीटर प्रेमी सहित दो आरोपियों को किया गिरफ्तार

फर्जी निकला रेप केस
छात्रा के भाई ने कहा कि वे इन्हें जानता तक नहीं है। छात्रा की कॉल डिटेल में इसी गांव के अनिल का मोबाइल नंबर मिला। उसके बारे में जानकारी की तो वह हिस्ट्रीशीटर निकला। छात्रा ने जिन्हें नामजद कराया, उनसे उसकी रंजिश चल रही है। अनिल के परिचित की एक रिकार्डिंग मिली। इसमें वह कह रहा था कि चारों पर दुष्कर्म का फर्जी केस दर्ज कराएगा। हाथरस के मेंडू निवासी हिस्ट्रीशीटर अनिल के कहने पर आगरा के सिकंदरा की बीए की छात्रा ने चार युवकों के खिलाफ सामूहिक दुष्कर्म का फर्जी केस दर्ज करा दिया। आठ घंटे की जांच में सच्चाई सामने आ जाने पर छात्रा ने कुबूल कर लिया कि उसने अनिल के कहने पर तहरीर दी। अनिल पर 12 केस दर्ज हैं। इनमें से हत्या के एक मामले में जो चार युवक उसके खिलाफ पैरवी कर रहे हैं, छात्रा ने उन्हें ही नामजद कराया।

[MORE_ADVERTISE3]