स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

बेटी ने बढ़ाया मान, कल तक घर में फेंकती थी 'तस्तरी' आज उसी से पाया मुकाम

arun rawat

Publish: Nov 11, 2019 10:36 AM | Updated: Nov 11, 2019 10:36 AM

Firozabad

— फिरोजाबाद जिले की टूंडला तहसील क्षेत्र के गांव मौहम्मदाबाद में रहने वाली बेटी 'तस्तरी' फेंक प्रतियोगिता में राष्ट्रीय स्तर पर खेलेगी।

फिरोजाबाद। बेटी बेटों से किसी भी क्षेत्र में कम नहीं हैं। ऐसा हर बार कहा जाता है लेकिन अब फिरोजाबाद जिले की एक बेटी ने ऐसा साबित भी कर दिया है। घर में तस्तरी फेंककर परिवारीजनों को परेशान करने वाली बेटी ने 'तस्तरी' (डिस्कश थ्रो) फेंक प्रतियोगिता को ही अपने जीवन का उद्देश्य बना लिया है। इस प्रतियोगिता में छात्रा ने जनपद और मंडल स्तरीय प्रतियोगिता को जीता और अब राष्ट्रीय टीम में भी उसका चयन हुआ है। छात्रा की इस सफलता से अन्य बच्चों को भी सीख लेनी चाहिए।

[MORE_ADVERTISE1]

मौहम्मदाबाद की रहने वाली है छात्रा
थाना टूंडला के गांव मोहम्मदाबाद निवासी धर्मेन्द्र सुभाष चौराहे पर कपड़ों पर प्रेस कर बच्चों का पालन कर रहे हैं। उनकी 15 वर्षीय बेटी कु.सीमा राजकीय बालिका इंटर कॉलेज में हाईस्कूल की छात्रा है। वह विगत तीन वर्षो से प्रतियोगिता के लिए कड़ी प्रक्टिस कर रही है। उसने सबसे पहले अक्टूबर में फिरोजाबाद में होने वाली जिला स्तरीय प्रतियोगिता में प्रथम स्थान प्राप्त किया था। उसके बाद दाऊदयाल स्टेडियम में हुई मंडल स्तरीय प्रतियोगिता में भी प्रथम स्थान प्राप्त किया। छह नवंबर को इलाहाबाद में हुई प्रदेश स्तरीय प्रतियोगिता में भी जीत का क्रम बरकरार रखा।

प्रदेश स्तरीय प्रतियोगिता भी जीती
प्रदेश के बाद उसका चयन राष्ट्रीय प्रतियोगिता के लिए किया गया है। सीमा ने पूरी तैयारी कोच सुरेन्द्र सिंह नोहवार के नेतृत्व में ठाकुर बीरी सिंह स्टेडियम में की थी। उसके बड़े व छोटे भाई भी पढ़ाई कर रहे हैं। बेटी की सफलता से परिजनों की खुशी का ठिकाना नहीं हैं। सीमा ने बताया कि वह राष्ट्रीय प्रतियोगिता जीतने के लिए हर रोज ठाकुर बीरी सिंह स्टेडियम में कोच सुरेन्द्र सिंह नोहवार के नेतृत्व में तीन से चार घंटे प्रक्टिस कर रही है। उसका सपना अन्तर राष्ट्रीय स्तर पर खेलना है। वह खेलों में ही अपना भविष्य बनाना चाहती है। उसे परिवार का भी पूरा सहयोग मिल रहा है। खेल के साथ ही वह पढ़ाई को भी अपना पूरा समय देती हैं।

[MORE_ADVERTISE2]