स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

बालाजी दर्शन को गए श्रद्धालु फल खाने के बाद हो गए बीमार, देखें वीडियो

Amit Sharma

Publish: Oct 15, 2019 11:39 AM | Updated: Oct 15, 2019 11:52 AM

Firozabad

— शिकोहाबाद स्थित बालाजी मंदिर दर्शनों के लिए गए दर्जनों श्रद्धालु, श्रद्धालुओं को कराया गया अस्पताल में भर्ती।

फिरोजाबाद। शिकोहाबाद स्थित बालाजी मंदिर में दर्शन करने आए एक दर्जन से अधिक श्रद्धालु फल खाने के बाद बीमार हो गए। एक के बाद एक करके उन्हें उल्टी और दस्त होने लगे। सभी बीमार श्रद्धालुओं को अस्पताल में भर्ती कराया गया। जहां सीएमएस सहित एसडीएम ने मौके पर पहुंचकर बीमार लोगों का हाल लिया।

यह था पूरा मामला
नारखी थानान्तर्गत पचवान कॉलोनी के लोग शिकोहाबाद स्थित मंदिर में बालाजी के दर्शन को गए थे। दोपहर लगभग एक बजे दर्शन करने के बाद बच्चे किसी पेड़ से फल तोड़ लाए उसे सभी ने खा लिया। फल खाने के कुछ देर बाद ही अचानक किसी को चक्कर आने, किसी के पेट में दर्द तो किसी को उल्टी शिकायत शुरू हो गई। देखते ही देखते अधिकांश लोग बीमारी का शिकार होने लगे। एक साथ सभी की हालत बिगड़ते देखकर उन्हें बड़े वाहन द्वारा तत्काल ट्रॉमा सेंटर पहुंचाया गया। बड़ी संख्या में मरीजों को पहुंचता देखकर चिकित्साकर्मियों में हड़कंप मच गया। बीमारों में कई बच्चे अचेत हो गए। इससे चिकित्सकों के हाथ-पांव फूल गए। बीमार लोगों में मासूम बच्चे, महिलाएं और वृद्ध भी शामिल थे।

नहीं बता सके फल का नाम
फल तो सभी ने खाया लेकिन कोई भी उसका नाम नहीं बता सका। कुछ लोग उस फल को अपने साथ भी लेकर आए लेकिन उसकी पहचान करना मुश्किल हो गया। मौके पर पहुंची पुलिस और परिचितों ने बीमार श्रद्धालुओं को जिला अस्पताल में भर्ती कराया।जहां सीएमएस डॉ. आरके पांडे और एसडीएम राजेश कुमार ने मौके पर पहुंचकर उनका हाल चाल लिया।

ये हुए बीमार
बीमारों में अनू पुत्र भगवानदास, मोना पुत्र श्यामलाल, सुशीला पत्नी श्यामलाल, श्यामलाल पुत्र गंगादास, माधुरी पत्नी इंद्रजीत उसका मासूम पुत्र मोहित, शुएब पुत्र सिराजुद्दीन, नदीम पुत्र राजू, रिजवान पुत्र राजू, पुष्पा पत्नी भूरेसिंह, अलफेश पुत्र नदीम, मिथलेश पत्नी ब्रह्मस्वरूप, प्रियंका पुत्री जागेश्वर, अमन, सूरज एवं सृष्टि पुत्रगण मुकेश, आदित्य पुत्र पप्पू, रचना, शंभो पुत्रगण प्रमोद, राजनदेवी पत्नी महेंद्र आदि शामिल थे। तीन-चार लोग उपचार के बाद घर चले गए।