स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

Patrika Special: हाथों की लकीरों से नहीं, विश्वास और दृढ़संकल्प से बनता है भविष्य, यकीन न हो पढ़िए इस दिव्यांग युवक के जीवन की कहानी

Amit Sharma

Publish: Oct 20, 2019 15:28 PM | Updated: Oct 20, 2019 15:29 PM

Firozabad

— शिकोहाबाद निवासी युवक के जन्म से ही नहीं हैं हाथ पैर, बायोलॉजी से कर चुका है बीएससी।
— पैर से करता है जीवन के सभी जरूरी काम, तीन हजार पर करता है प्राइवेट नौकरी।

फिरोजाबाद। कहते हैं कि इंसान में अगर कुछ कर गुजरने का जज्बा हो तो दिव्यांगता कभी भी उसकी तरक्की में बाधा नहीं बन सकती है। कुछ लोग शरीर से ठीक होने के बाद भी काम करने में असमर्थ होते हैं लेकिन फिरोजाबाद के शिकोहाबाद में रहने वाला एक युवक जन्मजात से दिव्यांग होने के बाद भी सभी काम आसानी से कर लेता है। युवक हाथ की बजाय पैर से सभी काम करता है।

यह भी पढ़ें—

अनोखी पहल: कैंडल March निकाल सड़क हादसों में मरे लोगों को दी गई श्रद्धांजलि, देखें वीडियो

शिकोहाबाद का रहने वाला है अजय
फिरोजाबाद जनपद के शिकोहाबाद में रहने वाले अजय ने जिसके दोनों हाथ नहीं है। बावजूद इसके वह अपने सभी काम पैरों से करता है। अजय ने पैरों से ही पढ़ाई लिखाई कर बायो से बीएससी भी कर ली है। शिकोहाबाद के आंव गंगा रोड पर रहने वाला अजय जब पैदा हुआ था, तभी उसके दोनों हाथ नहीं थे। अजय के पैदा होते ही परिजनों में खुशी की बजाय मायूसी देखने को मिली कि आखिर अजय अब अपनी जिंदगी कैसे गुजर बसर करेगा क्योंकि उसके हाथ ही नहीं है लेकिन अजय जब समझदार हुआ तो उसने कभी अपनी दिव्यांगता को बोझ नहीं समझा।

यह भी पढ़ें—

VIDEO: तिरंगे में लिपटकर पहुंचा शहीद का शव, अंतिम संस्कार में आंखों से बह निकली अश्रुधारा

सभी काम करता है अजय
आज अजय अपने घर के सभी काम अपने पैरों से करता है और तो और उसने बायोलॉजी से बीएससी भी कर ली है। अजय के पिता नहीं है और उसकी आर्थिक स्थिति भी ठीक नहीं है। लिहाजा वह एक निजी स्कूल में तीन हजार रुपए प्रति माह की नौकरी कर अपनी मां का भी पालन पोषण करता है। अजय किराए के मकान में रहता है और आज की इस महंगाई में उसका तीन हजार में गुजारा भी नहीं हो पाता है लेकिन उसे आज तक एक भी रुपए की वित्तीय सहायता सरकार से नहीं मिली। अजय चाहता है कि सरकार उसकी तरफ भी ध्यान दे लेकिन सरकारी सिस्टम से उसका भरोसा इस कदर उठ गया कि अब अजय सरकारी सहायता के नाम से मना करने लगा है क्योंकि उसकी कोई भी सुनने वाला नहीं है।