स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

Corruption in Firozabad: पत्रिका स्टिंग में फंस गया भ्रष्ट लेखपाल, पट्टा आवंटन के लिए ली रिश्वत

suchita mishra

Publish: Jul 20, 2019 18:43 PM | Updated: Jul 20, 2019 18:43 PM

Firozabad

जसराना में पट्टा आवंटन के लिए किसान से ली रिश्वत

एक हजार रुपये लेकर चश्म के कवर में रख लिए

500 रुपये बाद में देने की बात कही, बन गया वीडियो

फिरोजाबाद। ‘साहब पट्टा चाहिए। रहने को जगह नहीं है।‘ ‘अभी मैं व्यस्त हूं, दोपहर को डेढ़ से दो बजे के बीच में मिलना। डेढ़ हजार लगेंगे, पैसे साथ लेकर आना। कागज भी साथ लेकर आना। तब देखता हूं।‘ कुछ ऐसी ही बातचीत एक लेखपाल और ग्रामीण के बीच हुई। जिसमें लेखपाल पट्टे के नाम पर रिश्वत लेने की बात कर रहा था।

जसराना का है मामला
जसराना में किसी रिश्तेदार के यहां रह रहे रामवीर मिश्रा ने खड़ीत गांव में आवास के लिए पट्टा आवंटन का आवेदन दिया था। फिर लेखपाल सतेन्द्र श्रीवास्तव से मांग की थी। लेखपाल ने उसे बाद में फोन करने की बात कहते हुए टरका दिया था। दो दिन बाद शुक्रवार को पीड़ित तहसील पहुंच गया। लेखपाल ने अभी व्यस्त होने की बात कहते हुए खड़ीत निवासी रोशनलाल के घर पर दोपहर को डेढ़ से दो बजे के बीच में मिलने को कहा।

मौके पर पहुंचा पीड़ित
पीड़ित बताए गए स्थान पर पहुंच गया। जहां उसके दो साथी और भी थे। जहां लेखपाल पहले से कुर्सी पर बैठा था। पीड़ित ने दो पांच—पांच सौ के दो नोट निकालकर लेखपाल को दिए और पांच सौ रुपये बाद में देने की बात कही। लेखपाल फिर एक हजार रुपए की और मांग करने लगा। इसका पीड़ित ने विरोध किया और काम होने पर 500 रुपये देने की बात कहते हुए एक हजार रुपये दे दिए। लेखपाल ने एक हजार रुपए चश्मे के कवर में रख लिए। फिर उसका काम होने की बात कहते हुए चलता बना।

Corruption in  <a href=Firozabad " src="https://new-img.patrika.com/upload/2019/07/20/lekhpal2_4864662-m.jpg">

क्या कहना है जिलाधिकारी ने

इस पूरे घटनाक्रम का पत्रिका ने स्टिंग कर लिया। पूरी रिकॉर्डिंग को अधिकारियों के सामने रखा। पत्रिका ने यह वीडियो वायरल भी किया है, ताकि सबको पता चल सके कि जसराना तहसील के लेखपाल किस तरह से भ्रष्टाचार में विप्त हैं। इस मामले में फिरोजाबाद के जिलाधिकारी चन्द्र विजय का कहना है कि वीडियो की जांच कराई जा रही है। उसके बाद कार्रवाई की जाएगी।

क्या कहना है पीड़ित का
जसराना निवासी रामवीर मिश्रा ने बताया कि हमारे हल्के का लेखपाल सतेन्द्र श्रीवास्तव है। वह बहुत भ्रष्ट है। इसने चारागाह की जमीन को भी घिरवा दिया है। इसे बर्खास्त किया जाना चाहिए। पट्टे के आवंटन के लिए लेखपाल ने रिश्वत ली है। लेखपाल द्वारा पट्टे के आवंटन के लिए डेढ़ हजार रुपए की मांग की थी। एक हजार रुपए दे दिए थे, बाकी काम होने पर 500 रुपये देने की बात हुई।

Corruption in Firozabad

रिश्वतखोरी का ये तीसरा वीडियो
फिरोजाबाद में विगत एक माह के अंदर तीन लेखपाल रिश्वत लेते हुए कैमरे में कैद हो चुके हैं। इनमें पहला फिरोजाबाद के मक्खनपुर, दूसरा शिकोहाबाद और तीसरा अब जसराना के लेखपाल पकड़ में आया है। दो लेखपाल निलंबित किए जा चुके हैं। इसका अन्य लेखपालों पर कोई असर नहीं है। वे रिश्वतखोरी जमकर कर रहे हैं।