स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

8 दिन बाद आने वाली है शनि जयंती, चाहते हैं प्रसन्न करना तो आज से ही कर लें ये तैयारी

Shyam Kishor

Publish: May 25, 2019 15:30 PM | Updated: May 25, 2019 15:30 PM

Festivals

शनि जयंती 3 जून 2019 सोमवार

प्रत्येक वर्ष ज्येष्ठ माह की अमावस्या तिथि को न्याय दे देवता शनि देव की जयंती का पर्व आता है। इस साल 2019 में शनि जयंती 3 जून दिन सोमवार को मनाई जायेगी। अगर आप शनि देव को प्रसन्न कर उनकी कृपा पाना चाहते हैं तो उसके लिए अभी से ही मन बना लें। इस बार सोमवार को अमावस्या यानी की सोमवती अमावस्या और शनि अमावस्या शनि जयंती एक साथ पड़ने के कारण इसका अपने आप में खास महत्व बढ़ जाता है। जानें इस शनि जयंती पर किस विधि से कैसे करें शनि देव का विशेष पूजन, जिससे वे प्रसन्न होकर आपकी सभी इच्छाएं पूरी कर सके।

 

शनि जंयती 3 जून को ऐसे करें शनिदेव का पूजन

न्याय के देवता शनिदेव की पूजा भी अन्य देवी-देवताओं की पूजा-पाठ की तरह ही सामान्य होती है। इस दिन सूर्योदय से पूर्व उठकर शौचादि से निवृत होकर किसी पवित्र नदी या अपने घर पर गंगाजल मिले जल से स्नान करना चाहिए। अब पूजा के लिए लकड़ी के एक पाट पर काला वस्त्र बिछाकर उस पर शनिदेव की प्रतिमा, फोटो, एक काला पत्थर या फिर एक पूजा सुपारी स्थापित कर उसके दोनों तरफ एक शुद्ध घी का एवं एक सरसों के तेल का दीपक जलाकर चंदन की सुंगंधित धूप भी जलाएं। शनिदेवता के इस प्रतीक स्वरूप का पंचगव्य, पंचामृत, इत्र आदि से स्नान करें।

 

अपने घर पर शनि देव का शनिवार को अभिषेक करने से तुरंत होती है मनोकामना पूरी

 

स्नान के बाद अबीर, गुलाल, सिंदूर, कुमकुम व काजल लगाकर नीले या काले फूल अर्पित करें। इमरती एवं तेल में तली वस्तुओं का नैवेद्य के रूप में भोग लगायें, नारियल व ऋतुफल भी अर्पित करें। उपरोक्त विधि से पूजन करने के बाद श्री शनि मंत्र का जप रुद्राक्ष या लाल चंदन की माला से 1008 या 108 बार जप भी करें। मंत्र जप पूरा होने के बाद श्री शनि चालीसा का पाठ एवं शनि महाराज की आरती भी श्रद्धा पूर्वक करें।

 

शनि जंयती के दिन इनका विशेष ध्यान रखें

1- इस दिन शनि देव का पूजन करने से पूर्व शरीर पर तेल से मालिश कर स्नान करना चाहिये।
2- इस दिन शनि मंदिर के अलावा हनुमान जी के दर्शन भी करना चाहिये।
3- इस दिन ब्रह्मचर्य का पालन विशेष रूप से करना चाहिये।
4- इस दिन अगर संभव हो तो कहीं बाहर की यात्रा न करें।
5- किसी जरूरतमंद गरीब व्यक्ति को तेल में तले खाद्य पदार्थों का दान जरूर करें।

 

कहीं आपका विवाह ऐसा तो नहीं हुआ

 

**********

shani jayanti