स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

इराक में फंसे युवकों के परिजनों से मिली सुषमा स्वराज

Yuvraj Singh Jadon

Publish: Jul 16, 2017 17:35 PM | Updated: Jul 16, 2017 17:35 PM

Faridkot

मोसुल में नहीं बादुश में बंधक हैं भारतीय, इराक में फंसे युवकों के परिजनों से मिली सुषमा स्वराज

चंडीगढ़। भारत की विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने आज इराक में फंसे युवकों के परिजनों से मुलाकात करके उन्हें बताया कि भारतीयों के मोसुल शहर की बजाए बादुश में होने के संकेत मिले हैं। विदेश राज्य मंत्री वी.के.सिंह इराक पहुंच चुके हैं। भारत सरकार बहुत जल्द बंधकों की रिहाई करवाएगी।

इराक में पिछले तीन वर्षों से 39 भारतीय फंसे हुए हैं। उनमें अधिकतर पंजाब के रहने वाले हैं। विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने आज पंजाब से पहुंचे बंधकों के परिजनों से मुलाकात करके जल्द से जल्द रिहाई की मांग उठाई। सुषमा ने परिजनों को आश्वासन दिया कि सरकार लापता भारतियों की स्वदेश वापसी का पूर्ण प्रयास कर रही है। परिजनों से मुलाकात के बाद सुषमा स्वराज ने सभी को पूर्ण मदद का आश्वासन दिया है।सुषमा स्वराज ने कहा कि जिस दिन इराक के प्रधानमंत्री ने आईएसआईएस से मोसुल को मुक्त कराया था, उसी दिन राज्य मंत्री जनरल वी के सिंह 39 भारतीयों की स्वदेश वापसी के लिए इराक जाने के निर्देश दे दिए थे।

वीके सिंह इराक के दौरे पर हैं। इराक में भारत के राजदूत और एरबिल में हमारे कौंसिल जनरल को निर्देश दिया गया है कि वह प्राथमिकता से भारतीयों की तलाश की कोशिश जारी रखें। वी के सिंह ने बुधवार को इराक से सोशल मीडिया पर बताया था कि वह मोसुल का दौरा कर चुके हैं। पूरा क्षेत्र आतंकित है। विदेश मंत्री ने कहा कि क्षेत्रीय कुर्द सेना से मिली जानकारी हमारे अभियान के लिए अतिमहत्वपूर्ण है।