स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

इंडियन नेशनल लोकदल और जननायक जनता पार्टी को एक करने के लिए प्रदर्शन, दोनों दलों से युवओं ने की यह अपील

Prateek Saini

Publish: Jun 10, 2019 20:11 PM | Updated: Jun 10, 2019 20:11 PM

Faridabad

फतेहाबाद के कुछ युवाओं ने दोनों दलों के एक होने की कामना के साथ मीठे पानी की छबील लगाई और वहां पहुंचने वाले लोगों से दोनों दलों के एक होने की कामना व्यक्त की...

(फतेहाबाद,फरीदाबाद): हरियाणा के पूर्व मुख्य विपक्षी दल इंडियन नेशनल लोकदल और जननायक जनता पार्टी को फिर एक करने के लिए हरियाणा में युवाओं ने प्रदर्शन शुरू किया है। इस तरह का प्रदर्शन आज प्रदेश के फतेहाबाद में दिखाई दिया।


फतेहाबाद के कुछ युवाओं ने दोनों दलों के एक होने की कामना के साथ मीठे पानी की छबील लगाई और वहां पहुंचने वाले लोगों से दोनों दलों के एक होने की कामना व्यक्त की। पिछले साल दिसम्बर में इंडियन नेशनल लोकदल के विभाजन से जननायक जनता पार्टी का गठन किया गया था। इस विभाजन के बाद दोनों ही दलों का चुनावी प्रदर्शन खराब रहा है। जहां जननायक जनता पार्टी अपने गढ जींद में विधानसभा उपचुनाव हार गई वहीं इंडियन नेशनल लोकदल प्रत्याशी मात्र 3500 वोट ही हासिल कर पाया।

 

हाल के लोकसभा चुनाव में भी दोनों दलों को एक भी सीट हासिल नहीं हुई। जननायक जनता पार्टी ने आम आदमी पार्टी से गठबंधन कर प्रदेश की कुल दस लोकसभा सीटों में से साल सीटों पर चुनाव लडा था लेकिन पार्टी कोई नई सीट हासिल करना तो दूर अपनी हिसार सीट भी भाजपा के मुकाबले हार गई। वर्ष 2014 के लोकसभा चुनाव में अविभाजित इंडियन नेशनल लोकदल के टिकट पर दुष्यंत चौटाला ने यह सीट मोदी लहर में भी जीत ली थी। लेकिन इस बार दुष्यंत चौटाला जननायक जनता पार्टी प्रत्याशी के रूप में हिसार सीट से हार गए। इसी तरह वर्ष 2014 में इंडियन नेशनल लोकदल ने सिरसा लोकसभा सीट भी जीती थी लेकिन इनेलो सांसद चरणजीत रोडी इस बार सिरसा सीट हार गए।

 

चुनावी नाकामियों के चलते दोनों दलों के युवा कार्यकर्ता निराश है और चिंता व्यक्त कर रहे है। फतेहाबाद में सोमवार को ऐसे युवाओं ने छबील लगाकर दोनों दलों के एक होने की कामना व्यक्त की और इसके लिए जननायक जनता पार्टी नेता अजय सिंह चौटाला व इंडियन नेशनल लोकदल नेता अभय सिंह चौटाला के फोटो भी लगाए। अजय सिंह और अभय सिंह के बीच कलह के चलते ही पिछले साल इंडियन नेशनल लोकदल का विभाजन हुआ था।