स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

ब्रिटेन ने अनुच्छेद 370 के हटने पर जताई आपत्ति, शांति बनाए रखने का आह्वान किया

Mohit Saxena

Publish: Aug 07, 2019 10:21 AM | Updated: Aug 07, 2019 14:38 PM

Europe

  • ब्रिटेन के विदेश मंत्री डॉमिनिक राब को मानवाधिकारों को लेकर एक पत्र लिखा
  • ब्रिटेन सितंबर में संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में इस मुद्दे को उठा सकता है

लंदन। देश पर दो सौ साल तक राज करने वाले ब्रिटेन ने मंंगलवार को अनुच्छेद 370 को हटाने संबंधी फैसले पर आपत्ति जाहिर की है। यहां पर ब्रिटिश सांसद बंटी हुई दिखाई दी। गौरतलब है कि भारत ने जम्मू कश्मीर को विशेष दर्जा देने वाले अनुच्छेद 370 संबंधी ज्यादातर प्रावधानों को समाप्त कर दिया है। इसके साथ राज्य को दो केन्द्र शासित प्रदेशों जम्मू -कश्मीर और लद्दाख में बांटने का प्रस्ताव पेश किया था।

आर्टिकल 370: भारत के कदम से बौखलाया पाकिस्तान, इमरान खान ने पुलवामा जैसे हमले की दी चेतावनी

 

boris

घटनाक्रम पर बारीकी से गौर कर रहे

इस मुद्दे पर ब्रिटिश सांसदों ने गंभीर चिंता व्यक्त की है। वहीं कुछ समर्थन किया है। विदेश और राष्ट्रमंडल कार्यालय (एफसीओ) के एक प्रवक्ता ने कहा कि वे घटनाक्रम पर बारीकी से गौर कर रहे हैं और स्थिति को शांत बनाये रखने का आह्वान करते है। कश्मीर पर ब्रिटेन के 'ऑल पार्टी पार्लियामेंट्री ग्रुप" (एपीपीजी) ने ब्रिटेन के विदेश मंत्री डॉमिनिक राब को मानवाधिकारों की चिंताओं को लेकर एक पत्र लिखा है। इसमें उन्होंने पूछा है कि क्या ब्रिटेन सितंबर में संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में इस मुद्दे को उठाएगा।

विपक्षी लेबर पार्टी की सांसद और कश्मीर पर एपीपीजी की अध्यक्ष डेबी अब्राहम ने एक पत्र लिखकर इस पर चिंता जाहिर की है। उन्होंने कहा कि अनुच्छेद 370 को हटाने संबंधी भारत सरकार द्वारा लिया गया एकतरफा निर्णय जम्मू कश्मीर के लोगों के विश्वास के साथ धोखा है। उन्होंने चेताया कि इससे क्षेत्र में तनाव और बढ़ सकता है। यह अंतरराष्ट्रीय कानून का भी उल्लंघन करता है।

विश्व से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter पर ..