स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

ईरान के साथ तनाव कम करने को ब्रिटेन राजी, जब्त टैंकर छोड़ने को तैयार

Anil Kumar

Publish: Jul 15, 2019 16:43 PM | Updated: Jul 16, 2019 15:35 PM

Europe

UK-Iran Talks: ब्रिटेन के शीर्ष राजनयिक ने कहा कि यूरोपीय देशों ने फारस की खाड़ी में तनाव कम करने के लिए बातचीत का आह्वान किया है।

लंदन। अमरीका और ईरान के बीच बढ़ते तनाव के बाद अब ब्रिटेन के साथ भी ईरान का विवाद बढ़ता जा रहा है। बीते महीने ओमान की खाड़ी में तेल टैंकरों पर हुए हमले के बाद ब्रिटेन से भी तेल टैंकरों को लेकर ईरान के साथ तनाव बढ़ गया है।

हालांकि अब ब्रिटेन की ओर से एक बड़ा बयान सामने आया है। ब्रिटेन ने कहा है कि वह जब्त किए गए एक ईरानी टैंकर को छोड़ने के लिए तैयार है, यदि ईरान गारंटी दे सकता है कि जहाज सीरिया के लिए तेल शिपमेंट पर यूरोपीय प्रतिबंधों का उल्लंघन नहीं करेगा।

ब्रिटेन के शीर्ष राजनयिक ने कहा कि यूरोपीय देशों ने फारस की खाड़ी में तनाव कम करने के लिए नई वार्ता का आह्वान किया। विदेश सचिव जेरेमी हंट की इस टिप्पणी से हाल के दिनों में हुए तनाव को कम करने में मदद मिल सकती है।

ईरान-अमरीका परमाणु समझौते पर सवाल, ट्रंप-ओबामा कितने जिम्मेदार?

ब्रिटिश सरकार ने कहा कि ईरानी अर्धसैनिक जहाजों ने स्ट्रेट ऑफ होर्मुज के माध्यम से एक ब्रिटिश तेल टैंकर के मार्ग को बाधित करने की कोशिश की, जिसके जवाब में कार्रवाई करते हुए ईरानी तेल टैंकर को जब्त किया गया था।

ब्रिटेन ने ईरान से की बातचीत

जेरेमी हंट ने कहा कि उन्होंने ईरान के विदेश मंत्री मोहम्मद जवाद जरीफ के साथ एक फोन पर बातचीत की और उन्हें आश्वस्त किया कि हमारी चिंता तेल की नहीं, गंतव्य की थी।

विदेश कार्यालय ने एक बयान में विस्तार से कहा कि यह यूरोपीय संघ सीरिया प्रतिबंधों के प्रवर्तन के बारे में था। कार्रवाई इसलिए की गई क्योंकि जहां तेल जा रहा था वह क्षेत्र एक सीरियाई स्वीकृत इकाई था, इसलिए नहीं कि यह ईरान से जा रहा था।

रविवार को ब्रिटेन, फ्रांस और जर्मनी के नेताओं ने क्षेत्र में बढ़ते तनाव को समाप्त करने का आह्वान किया। इस क्षेत्र में यह तनाव राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प द्वारा विश्व शक्तियों के साथ ईरान के परमाणु समझौते से अमरीका को बाहर निकालने के एक साल बाद आया है।

खाड़ी में ब्रिटिश टैंकर को कब्जे में लेने की कोशिश, रॉयल नेवी के आने पर पीछे हटा ईरान

एक दिन पहले ईरान ने अपनी मांगों को दोहराया था कि ब्रिटिश नौसेना ने टैंकर को रिहा कर दिया और लंदन पर दोहरी राजनीति करने और प्रतिशोध की धमकी देने का आरोप लगाया गया था।

हसन रुहानी

क्या है मामला

बता दें कि इस महीने की शुरुआत में ईरानी सुपरटनर 2.1 मिलियन बैरल हल्के कच्चे तेल को लेकर जा रहा था तभी स्पेन के दक्षिणी सिरे पर स्थित ब्रिटिश विदेशी क्षेत्र जिब्राल्टर से ब्रिटिश रॉयल मरीन की मदद से उसे जब्त किया गया था।

इसके बाद से ईरान और ब्रिटेन के बीच तनाव बढ़ गया। हंट ने शनिवार को कहा कि उन्होंने जरीफ से बात करते हुए कहा कि यदि ब्रिटेन को इस बात की पर्याप्त गारंटी मिल सकती है कि ईरान ने सीरिया के लिए टैंकर का नेतृत्व नहीं किया गया था, तो हम जिब्राल्टर की अदालतों में उचित प्रक्रिया के बाद स्थिति को हल करने में सक्षम होंगे।

इससे पहले जिब्राल्टर में पुलिस ने कहा कि शुक्रवार को उन्होंने ईरानी जहाज के चार चालक दल को गिरफ्तार किया, जिसमें उसके कप्तान और मुख्य अधिकारी भी शामिल थे। ये सभी भारतीय नागरिक हैं।

Read the Latest World News on Patrika.com. पढ़ें सबसे पहले World News in Hindi पत्रिका डॉट कॉम पर. विश्व से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter पर.