स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

फिर बना बाढ़ का पानी आफत, कई गांव का आवागमन ठप

Neeraj Patel

Publish: Sep 12, 2019 19:58 PM | Updated: Sep 12, 2019 20:06 PM

Etawah

कोटा बैराज के बांध से छोड़े गए पानी के चलते चंबल नदी ने रौद्ध रूप धारण कर लिया है।

इटावा. कोटा बैराज के बांध से छोड़े गए पानी के चलते चंबल नदी ने रौद्ध रूप धारण कर लिया है। एसडीएम चकरनगर इंद्रजीत सिंह ने बताया कि बाढ़ पर पूरी तरह से नजर रखी जा रही है। चंबल में पानी के बहाव ने यमुना की जलधारा को रोक दिया है। जिससे क्षेत्र के कुछ गांवों के रास्तों में पानी भरने से आवागमन ठप हो गया और किसानों की जमीन भी जलमग्न होने से फसल नष्ट हो रही है। वहीं उक्त पानी से क्षेत्र के लोग भयभीत दिखाई दे रहे है।

चारों ओर पानी ही पानी

बीहड क्षेत्र चकरनगर में बह रही चंबल नदी में कोटा बैराज के बांध से पानी छोड़े जाने से नदी ने विशाल रूप धारण कर लिया है। नदी के घारे से लेकर बीहड के खार खरैंयों में चारों ओर पानी ही पानी दिखाई दे रहा है। उक्त पानी से क्षेत्र के किसानों की कछार में बोई गई बाजरे की फसल जलमग्न होने से नष्ट हो गई है। इधर चंबल नदी की तेज जलधारा ने यमुना नदी की जलधारा को रोक दिया है। जिससे यमुना किनारे बसे गांवों के रास्तों में पानी भर गया है और कछार बाली भूमि में बाजरे की फसल पानी से नष्ट हो रही है। क्षेत्र के गांव कांयछी, निवी, गढाकास्दा, हरौली, नदा आदि के रास्तो में पानी भरने से ग्रामीणों का आवागमन ठप हो गया है।

चंबल नदी का पानी बाबा सिद्धनाथ मंदिर के रास्ते में भरने से मंदिर पर मौजूद महात्माओं से संपर्क टूट गया है। उक्त क्षेत्र में पांच नदियां होने से चारों तरफ फैला पानी आम जनता के लिए आफत बन गया है। पहले भी चंबल नदी में बाढ का पानी लोगों के लिए आफत बन गया था और शेष बची फसल को नदियों का पानी नष्ट कर रहा है। ऐसी हालत में क्षेत्र का किसान भुखमरी की कगार पर खडा हो जाएगा।

पढ़ाई का कार्य भी बाधित

बताते चलें कि नदियों का पानी आम रास्तों में भरने से पढ़ाई का कार्य भी बाधित हो रहा है, यदि आज रात्रि में पानी और बढ़ता है, तो कई गांव के रास्ते अवरुद्ध हो जाएंगे और गांव में पानी भर जाएगा जिसके चलते प्रशासन को पुनः पहले की भांति ही नौकाओं की व्यवस्था करनी पड़ेगी। जिससे ग्रामीणों का आवागमन हो सकेगा। एसडीएम चकरनगर इंद्रजीत सिंह ने बताया कि बाढ़ पर पूरी तरह से नजर रखी जा रही है।

ये भी पढ़ें - योगी सरकार ने लिया बहुत बड़ा फैसला, यूपी में गुटका, बीड़ी, सिगरेट तम्बाकू बंद