स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

'कुछ लोग शौकिया फोटोग्राफी को बना लेते हैं करियर'

Mahendra Pratap Singh

Publish: Jan 22, 2020 13:03 PM | Updated: Jan 22, 2020 13:03 PM

Etawah

इटावा मे पहली दफा आयोजित इुई फोटोग्राफी वर्कशाप
फोटोग्राफी में ट्रेनिंग कला को निखारेगी : शैलेन्द्र शर्मा
फोटोग्राफी में प्रकाश का रोल काफी अहम : सुनील दत्ता

इटावा. इटावा मे पहली दफा आयोजित हुई फोटोग्राफी वर्कशाप को लेकर लोगों में खासा उत्साह रहा। सदर विधायक सरिता भदौरिया ने कहाकि अपनी भावनाओं को चित्रित करने के लिए कुछ लोग शौकिया फोटोग्राफी करते हैं और आगे चलकर अक्सर वे अपने इस शौक को ही अपना करियर बना लेते हैं।

भूमिजा फाउंडेशन के रोजगार के लिए फोटोग्राफी की कार्यशाला का शुभारंभ सदर विधायक श्रीमती सरिता भदौरिया, विशिष्ट अतिथि इतिहास प्रोफेसर डा.शैलेन्द्र शर्मा फाउंडेशन के संस्थापक रवीन्द्र चौहान व कोरियोग्राफर शिलेन्द्र प्रताप सिंह के दीप प्रज्वलित कर प्रेस क्लब इटावा शुरू हुआ।

फोटोग्राफी कार्यशाला में मुख्यातिथि सदर विधायक श्रीमती सरिता भदौरिया ने कहा कि जनपद में यह प्रथम कार्यशाला है। फोटोग्राफी खुद को व्यक्त करने का एक माध्यम है। फोटोग्राफी व्यक्ति के अंदर छुपी कला और रचनात्मकता की अभिव्यक्ति का जरिया है। अपनी भावनाओं को चित्रित करने के लिए कुछ लोग शौकिया फोटोग्राफी करते हैं और आगे चलकर अक्सर वे अपने इस शौक को ही अपना करियर बना लेते हैं।

विशिष्ट अतिथि के.के.कालेज के इतिहास विभाग के प्रमुख डा.शैलेन्द्र शर्मा ने कहा कि नैसर्गिक फोटोग्राफर बनने के लिए जरूरी है कि आपमें फोटोग्राफी के माहौल को पढ़ने और अपनी रचनात्मकता के जरिये किसी क्षण को कैमरे में कैद करने की कला हो। इस क्षेत्र में ट्रेनिंग बेशक आपकी कला को निखारेगी।

कार्यशाला अनुदेशक वरिष्ठ फोटोग्राफर सुनील दत्ता ने फोटोग्राफी विषय पर प्रकाश डालते हुए कहा कि फोटोग्राफी में आपको जो भी करना है। प्रकाश यानी लाइट की मदद से करना है। चित्रकार अपनी चित्रकारी ‘रोशनी में’ करता है, लेकिन फोटोग्राफर अपनी चित्रकारी ‘रोशनी से‘ करता है। फोटोग्राफी में रोशनी एक रा-मटीरियल (कच्चा माल) की तरह है जिसका इस्तेमाल कर फोटो बनाई जाती है। इस तरह फोटोग्राफी रोशनी के उपयोग की कला है। आप लाइट यूज करने का स्किल जितना विकसित करेंगे आपकी फोटोग्राफी उतनी विकसित होगी। आमतौर पर एक नया फोटोग्राफर यही सोचता है कि बढ़िया फोटो वह है जो शार्प हो और जिसमें भरपूर डीटेल्स हों। लेकिन नहीं, सही मायने में एक बढ़िया फोटो वह होती है जो देखने वाले के ऊपर प्रभावी असर पैदा करती है।

कार्यशाला में प्रेस क्लब इटावा के अध्यक्ष दिनेश शाक्य, एकलव्य स्टडी सर्किल के राहुल तोमर, नेल्स फाउंडेशन के रंजीत यादव, प्ले वे स्कूल के आदित्य शर्मा,हंगर अड्डा के मोहित दुबे, रेड चिल्ली के शीलेन्द्र प्रताप, आटो पेण्ट के ध्रुव पुरवार, ब्यूटी मंत्रा की श्रद्धा वर्मा एसोसिएट है। कार्यशाला में 5 दर्जन से अधिक लोगों ने फोटोग्राफी के गुर सीखे। मंच संचालन कवि अवनीश त्रिपाठी ने किया। कार्यशाला में भूमिजा फाउंडेशन की हरि शंकर पटेल, कल्पना, रन्नो शर्मा, प्रत्युष शुक्ला, प्रशांत जैन, मुदित, पवन यादव आदि उपस्थित रहे।

[MORE_ADVERTISE1]