स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

मैनपुरी नवोदय छात्रा हत्याकांड की एसआईटी जांच शीघ्र होगी पूरी: डीजीपी

Mahendra Pratap Singh

Publish: Dec 04, 2019 17:55 PM | Updated: Dec 04, 2019 17:55 PM

Etawah

पुलिस महानिदेशक ओ.पी.सिंह ने कहकि मैनपुरी नवोदय छात्रा हत्या मामले में मुख्यमंत्री स्तर से एसआईटी जांच की जा रही है।

इटावा . उत्तर प्रदेश के पुलिस महानिदेशक ओ.पी.सिंह ने इस बात को स्वीकार किया है कि मैनपुरी के बहुचर्चित नवोदय छात्रा की हत्या मामले में मुख्यमंत्री स्तर से एसआईटी जांच की जा रही है जो बहुत ही जल्द पूरी होगी। जिसके बाद घटना से जुड़े हुए आरोपियों के खिलाफ कार्यवाही का रास्ता खुल जाएगा।

इटावा के दौरे पर मंगलवार देर रात पहुंचे डीजीपी ओ.पी.सिंह ने बुधवार को पुलिस लाइन स्थित सभागार मे एक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा कि मैनपुरी मे प्रशासन से लापरवाही हुई है, इसी वजह से मुख्यमंत्री के निर्देश पर डीएम प्रमोद कुमार उपाध्याय व एसएसपी अजय शंकर राय को हटाने की कार्यवाही अमल मे लाई गई है। पीड़ित के परिजनों की शुरू से सुनवाई न होने के सवाल पर डीजीपी ने कोई जवाब नहीं दिया और कहा अब मैनपुरी मामले पर कोई सवाल नहीं पूछिए।
उन्होंने कहा कि मैनपुरी घटनाक्रम को लेकर एसआईटी जांच तकनीकी आधार पर तथ्यात्मक ढंग से की जा रही है। इससे इतर अभी कुछ भी कहने से जांच पर असर पड सकता है इसलिए जांच का इंतजार जरूरी है।

अब मैनपुरी मामले पर कोई सवाल नहीं पूछिए :-

उन्होंने कहा कि कि पूरे मामले की जांच के लिए एसआईटी का गठन किया गया है। इसमें कानपुर जोन के आईजी मोहित अग्रवाल की अध्यक्षता वाली टीम जांच कर रही है। डीजीपी ने कहा कि मैनपुरी मामले की जांच जल्द पूरी हो जाएगी, हालांकि कोई समय सीमा तय करने से उन्होने साफ साफ इंकार किया। उन्होंने कहा कि एसआईटी को पूरी छूट दी गई है कि वो निष्पक्षता से जांच करके रिपोर्ट दे। पूरे मामले में 16 सितंबर के घटनाक्रम के बाद आईजी आगरा ने समय-समय पर समीक्षा की थी। पीड़ित के परिजनों की शुरू से सुनवाई न होने के सवाल पर डीजीपी ने कोई जवाब नहीं दिया और कहा अब मैनपुरी मामले पर कोई सवाल नहीं पूछिए।

काफी हद तक प्रदेश में क्राइम कंट्रोल करने में सफल :-

उन्होंने कहा कि आज हम काफी हद तक प्रदेश में क्राइम कंट्रोल करने में सफल हुए है। उन्होंने कहा कि आश्चर्य होगा कि हमने पूरे प्रदेश में अपने पुलिसबल व अधिकारियों के बेहतर आपसी तालमेल द्वारा 70 हजार से भी अधिक जुलूस सफलता पुर्वक सम्पन्न कराए है, जिसमें होली, दिवाली, ईद, बकरीद व विभिन्न पार्टियों के भी जुलूस शामिल थे। पुलिस ने पिछले ढाई वर्षों में यही प्रयास किए है कि कानून व्यवस्था में शिथिलता से किसी भी प्रकार का समझौता नही किया जाएगा। हमने पूरे प्रयास किए है कि कभी किसी भी निर्दोष व्यक्ति को सजा न मिले और अपराधी खुलेआम कतई न घूमे।

महिलाओं की सुरक्षा के प्रति अपनी जिम्मेवारी समझें :-

उन्होंने कहा कि महिलाओं की सुरक्षा के प्रति अपनी जिम्मेवारी को समझते हुए हमने अलग से संज्ञान लेकर 12 जून के बाद से त्वरित इन्वेस्टिगेशन में जनपद औरैया से शुरुवात करते हुये बलात्कार के एक मामले में मात्र 28 दिन में ही प्रासिक्यूशन व कनविक्शन पूरा कराया। हाल ही में जनपद सिद्धार्थनगर के एक मामले में मात्र 5 दिन में ही कनविक्शन पूर्ण कराया व सारी कार्यवाही 5 दिनों में ही पूरी की जो अपने आप मे देश मे इतने कम समय मे की गई पहली रिकार्ड कार्यवाही भी है ।
उन्होंने कहा कि खुशी है कि इटावा में जनता व पुलिस के बीच अच्छा सामंजस्य बना है व गली मोहल्ले के अपराधी अब नही दिखाई दे रहे है। प्रदेश के पुलिस मुखिया होने के नाते हम प्रदेश की कानून व्यवस्था को बेहतर से बेहतर बनाने के पूरे प्रयास कर रहे है जिसमे हमे आपके सहयोग की भी बेहद आवश्यकता है। उन्होंने कहा कि हम चाहते है कि आप सभी लोग कभी थानों में जाकर देखे जानकारी लें तो आपको सारी स्थिति स्पष्ट हो जाएगी।

16 पुलिस रेंज में खुलेगा साइबर क्राइम थाना :-

साइबर क्राइम पर बोलते हुए उन्होंने कहा कि यूपी में नोयडा लखनऊ की तर्ज पर ही 16 पुलिस रेंज में एक एक साइबर क्राइम थाना खोलने जा रहे है। अयोध्या मुद्दे पर हमने सफल सोशल मीडिया पेट्रोलिंग की एवं हर जिले में हमारी सोशल मीडिया सेल काम करती है जो हर गतिविधि पर नजर भी रखती है। हम कह सकते है की हमारी पुलिस अच्छा कार्य कर रही है। सबसे ज्यादा खुशी मुझे इस बात की है कि पुलिस कर्मियों के व्यवहार में 40 फीसदी तक अच्छा सकारात्मक सुधार हुआ है जो की एक बहुत ही अच्छी बात है में नही कह सकता कि 100 फीसदी होगा लेकिन 40 फीसदी अच्छे सकारात्मक व्यवहार के सुधार के लिए लिए मैंने जो हाल ही में जो थर्ड पार्टी एसिस्टमेंट कराया था उस रिपोर्ट में यह बात सामने निकल कर आई है । जिसका ज्वलन्त उदाहरण हाल ही में सम्पन्न हुआ कुंभ मेला रहा जिसमे 24 से 25 करोड़ जनता आई और किसी भी पुलिसकर्मी की गलत व्यवहार की या कोई भी शिकायत सामने नही आई जो कि पूरे विश्व में चर्चा का विषय भी बना है।

बजट में इजाफा :-

उन्होंने कहा कि सूबे के मुख्यमंत्री जी ने इस बार के हमारे बजट में इजाफा किया है। प्रदेश में क्वालिटी मैनेजमेंट पर अपना विशेष ध्यान भी दे रहे है। खुशी है कि हम अपराध को कम करने में काफी हद तक सफल हो चुके है। बुधवार की सुबह इटावा सफारी पार्क घूमने के बाद डीजीपी ओ.पी.सिंह ने पुलिस लाइन में काननू व्यवस्था की समीक्षा बैठक भी की। पुलिस महानिदेशक ओपी सिंह मंगलवार देर रात ही इटावा पहुंच गए थे। उनके साथ आईजी कानपुर मोहित अग्रवाल, एसएसपी संतोष कुमार मिश्रा, एएसपी सिटी रामयश सिंह व एएसपी ग्रामीण ओमवीर सिंह, सीओ एसएन वैभव पांडेय मौजूद रहे।

इटावा सफारी पार्क गए डीजीपी :-

डीजीपी आज तड़के इटावा सफारी पार्क के आफीशियल दौरे पर भी अधिकारियों के साथ गए। जहां पर उन्होने ईको पर्यटक सेंटर, सफारी पार्क और झरने देखे। डीजीपी और अन्य पुलिस अफसरो ने दो गाडियों में बैठकर डियर व एंटीलोप सफारी देखा। सफारी को देखने के बाद उन्होंने कहा कि इटावा सफारी पार्क की जमकर तारीफ करते हुए इसे बेहद खूबसूरत बताया। सफारी पार्क की सुरक्षा इंतजाम के बारे में जानकारी ली और चैकी खोलने को लेकर चर्चा की। सफारी घूमने के बाद डीजीपी रिजर्व पुलिस लाइन पहुंचे। यहां पर उन्होंने मैदान पर महिला रिक्रूट की परेड का निरीक्षण किया और आवासीय सुविधा, मैस व बैरिक का जायजा लिया। पुलिस लाइन में 278 महिला रिक्रूट प्रशिक्षण प्राप्त कर रही हैं।

समीक्षा बैठक में चार जिलों के एसपी :-

उन्होंने महिला रिक्रूट से व्यवस्थाओं के बारे में पूछताछ की। यहां से वह पुलिस लाइन सभागार में गए, जहां पर पुलिस अधिकारियों के साथ समीक्षा बैठक शुरू की है। समीक्षा बैठक में सिर्फ चार जिलों के एसपी आए हैं। इटावा, औरैया फिरोजाबाद, कन्नौज जनपद की कानून व्यवस्था की समीक्षा की गई। प्रेस वार्ता में पुलिस महानिरीक्षक कानपुर परिक्षेत्र मोहित अग्रवाल, एसएसपी संतोष कुमार मिश्रा, एसपी औरैया सुनीति सिंह एसएसपी फिरोजाबाद, एसपी सिटी डा. रामयश सिंह, एसपी क्राइम महेश अत्री व अन्य कई पुलिस अधिकारी मौजूद रहे।

[MORE_ADVERTISE1]