स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

ट्रेड वॉर पर चीन ने भारत का मांगा साथ, कहा- दूर करेंगे व्यापारिक असंतुलन

Shivani Sharma

Publish: Jul 21, 2019 10:14 AM | Updated: Jul 21, 2019 10:14 AM

Economy

  • Trade war में चीन ने मांगी भारत की मदद
  • ट्रेड वॉर के कारण चीन को काफी नुकसान भी उठाना पड़ रहा है

नई दिल्ली। चीन और अमरीका ( America-china ) के बीच लंबे समय से ट्रेड वॉर ( Trade War ) चल रहा है। ट्रेड वॉर के कारण चीन को काफी नुकसान भी उठाना पड़ रहा है। इसके साथ ही चीन ने ट्रेड वॉर में भारत से साथ मांगा है। इसके साथ ही चीन ने कहा है कि वह व्यापारिक असंतुलन को लेकर भारत की चिंताओं को समझता है और वह उसके साथ इस संबंध में वार्ता के लिए तैयार है।


चीन ने व्यापारिक मुद्दों पर भारत से की बातचीत

भारत में चीनी राजनयिक के तौर पर अपना कार्यभार ग्रहण करने नई दिल्ली आ रहे सुन वेइडोंग ने बीजिंग में भारतीय मीडिया के साथ सीमा पर जारी तनाव, व्यापार में नुकसान और अमरीकी ट्रेड वॉर के साथ राष्ट्रपति शी जिनपिंग व भारतीय पीएम नरेंद्र मोदी के साथ होने वाली अनौपचारिक बैठक समेत विभिन्न मुद्दों पर बात की। इसके साथ ही चीन ने ट्रेड में 'एकपक्षीयता और संरक्षणवाद' के खिलाफ भारत के भी साथ आने की अपील की।


ये भी पढ़ें:


भारत की परेशानियों को समझता है चीन

इसके साथ ही चीन के नए राजदूत सन वेइडोंग ने कहा, 'व्यापारिक असंतुलन को लेकर भारत की चिंताओं को चीन बखूबी समझता है। लेकिन हम यह कहना चाहेंगे कि चीन ने कभी भी भारत के मुकाबले ट्रेड सरप्लस के लिए कोई योजनापूर्वक प्रयास नहीं किया।' सन ने कहा कि चीन ने भारत से चावल और चीनी के आयात में इजाफे की कोशिशें शुरू कर दी हैं। इसके अलावा भारतीय दवाओं और कृषि उत्पादों के इम्पोर्ट पर भी विचार किया जा रहा है।


भारतीय प्रोडक्ट के आयात में 15 फीसदी का हुआ इजाफा

आंकड़ों से मिली जानकारी के अनुसार आपको बता दें कि चीन में भारतीय उत्पादों के आयात में 15 फीसदी का इजाफा हुआ है। इसके अलावा बीते साल चीन के बाजार में भारतीय कृषि उत्पादों के निर्यात में भी दोगुने तक का इजाफा हुआ है। भारत लंबे समय से चीन पर अपने फार्मास्युटिकल मार्केट को भारतीय दवाओं के लिए खोलने का दबाव बनाता रहा है। चीन से भारत का व्यापारिक असंतुलन 95.5 बिलियन डॉलर के मुकाबले 57 अरब डॉलर के करीब ही है।


ये भी पढ़ें:


चीन का व्यापार घाटा बढ़ा

भारत में चीनी राजदूत वेंग ने कहा, 'इस साल की पहली छमाही में चीन के साथ भारत के व्यापारिक घाटे में 5 फीसदी तक की कमी आई है। इसलिए मुझे यकीन है कि लगातार इस संबंध में प्रयास किए जाने से भारत और चीन के बीच व्यापारिक संतुलन को नियंत्रित किया जा सकता है।'

Business जगत से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter पर और पाएं बाजार,फाइनेंस,इंडस्‍ट्री,अर्थव्‍यवस्‍था,कॉर्पोरेट,म्‍युचुअल फंड के हर अपडेट के लिए Download करें patrika Hindi News App