स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

'मोदी 2.0' सरकार में भारत होगा और ज्यादा 'आयुष्मान', बढ़ने जा रहा हैै योजना का दायरा

Saurabh Sharma

Publish: May 25, 2019 18:48 PM | Updated: May 25, 2019 18:48 PM

Economy

  • आर्थिक जनगणना रिपोर्ट 2011 के बाद जन्म लेने वाले बच्चों को भी मिलेगा फायदा
  • 157 बीमारियों के पैकेज को निजी अस्पतालों के लिए भी खोल दिया गया
  • 1300 तरह के पैकेज में मरीजों का हो रहा है निजी अस्पतालों में उपचार
  • मौजूदा समय में देश के 10.74 करोड़ परिवार इस योजना का ले सकते हैं लाभ

नई दिल्ली। लोकसभा चुनाव 2019 में देश की जनता नरेंद्र मोदी और बीजेपी को एक बार फिर से आयुष्मान भव: का आशीर्वाद दे दिया है। ऐसे में अब नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में बनने वाली 'मोदी 2.0' सरकार में देश को और अधिक आयुष्मान बनाने की जिम्मेदारी भी होगी। चर्चा है कि नरेंद्र मोदी की महत्वकांक्षी आयुष्मान भारत योजना को एक्सपेंड करने की प्लानिंग चल रही है। वहीं हाल ही में इस योजना के तहत सरकार ने 303 बीमारियों के पैकेज को केवल सरकारी अस्पतालों के लिए आरक्षित रखा था उनमें 157 को अब निजी अस्पतालों के लिए भी खोल दिए हैं। आइए आपको भी बताते हैं कि आखिर मोदी की नई सरकार में आयुष्मान भारत योजना में किस तरह के बदलाव देखे जा सकते हैं...

यह भी पढ़ेंः- ITR फाॅर्म में हुए बड़े बदलाव, इन सिंपल स्टेप्स से भरनी होगी पूरी जानकारी

बढ़ाया जा रहा है एबीवाई का दायरा
जानकारी के अनुसार आर्थिक जनगणना रिपोर्ट 2011 के बाद शादी करने और जन्म लेने वाले बच्चों को भी अब प्रधानमंत्री आयुष्मान भारत योजना देने के बारे में काम हो रहा है। सरकार ने मानकों में बदलाव किया है। जिससे लाभार्थियों का दायरा बढ़ाया जा सके। मौजूदा समय में 2011 के आर्थिक जनगणना रिपोर्ट के आधार पर पात्र लोगों को ही योजना का लाभ दिया जा रहा है। जानकारों की मानें तो लोकसभा चुनाव 2019 के समाप्त होने का इंतजार था। अब इसे सरकार के गठन के बाद लागू कर दिया जाएगा।

यह भी पढ़ेंः- हिंदुजा ग्रुप ने दी सफाई, टेस्ला के साथ नहीं होगी कोई साझेदारी

अब 157 पैकेज निजी अस्पतालों में खुले
वहीं खुशी की एक बात और है कि अब 157 बीमारियों के पैकेज को निजी अस्पतालों के लिए भी खोल दिया गया है। वास्तव में सरकार ने जिन 303 बीमारियों के पैकेज को केवल सरकारी अस्पतालों में ही आरक्षित रखा था उनमें से 157 पैकेज निजी अस्पतालों में खोल दिए गए हैं। प्राप्त जानकारी के अनुसार आंखों के सफेद मोतिया से लेकर पित्ते की पथरी, हर्निया का आपरेशन, डेंगू, मलेरिया, निमोनिया, डायबिटीज, दौरे और यहां तक की स्नेक बाइट जैसी बीमारियों का इलाज भी निजी अस्पताल में करा पाएंगे। इससे पहले इन बीमारियों का इलाज आयुष्मान योजना में पहले सिर्फ सरकारी अस्पताल में ही निश्शुल्क था। इससे पहले 1300 तरह के पैकेज में मरीजों का उपचार निजी अस्पतालों में हो रहा है।

यह भी पढ़ेंः- पहली बार चला रेरा का डंडा, अरण्या हाउसिंग प्रॉजेक्ट का रजिस्ट्रेशन रद्द, बायर्स परेशान

इतने लोगों को मिल चुका है एबीवाई का लाभ
आयुष्मान भारत योजना देश में को जबरदस्त रिस्पॉन्स मिला है। इस योजना के तहत अबतक करीब 18 लाख से अधिक लोगों को फायदा ले चुके हैं। आयुष्मान भारत की सरकारी वेबसाइट https://www.pmjay.gov.in/ पर दी गई जानकारी के अनुसार 2 अप्रैल तक आयुष्मान स्कीम से अब तक 18,20,686 लोग लाभ ले चुके हैं। इसके अलावा 2,88,07,760 ई-काड्र्स भी दिए जा चुके हैं। इस योजना के तहत 15,256 अस्पतालों को जोड़ा जा चुका है।

यह भी पढ़ेंः- विजय माल्या खिलाफ लंदन की अदालत में हुई 17.5 करोड़ डाॅलर की वसूली को लेकर सुनवाई

क्या हैं आयुष्मान भारत योजना की विशेषताएं

  • योग्य लाभार्थियों को 5 लाख रुपए का फ्री बीमा मिलेगा।
  • मरीज के अस्‍पताल में भर्ती होने से पहले और अस्पताल से डिस्चार्ज होने तक का पूरा खर्च सरकार वहन
  • करेगी।
  • 15 हजार से ज्यादा अस्पतालों को योजना से जोड़ दिया गया है।
  • टीबी मरीजों के लिए 600 करोड़ का बजट है।
  • मौजूदा समय में देश के 10.74 करोड़ परिवार इस योजना का लाभ ले सकते हैं।
  • योजना का लाभ लेने के लिए परिवार के आकार या उम्र की कोई सीमा तय नहीं है।
  • कैशलेस एवं पेपरलेस इलाज के लिए नीति आयोग आईटी फ्रेमवर्क विकसित कर चुका है।

Business जगत से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter पर और पाएं बाजार, फाइनेंस, इंडस्‍ट्री, अर्थव्‍यवस्‍था, कॉर्पोरेट, म्‍युचुअल फंड के हर अपडेट के लिए Download करें patrika Hindi News App.