दस पुश अप में ही निकल जाती है जान तो खाएं ये चीजें, बढ़ेगा स्टैमिना

Soma Roy

Publish: Feb 04, 2019 14:11 PM | Updated: Feb 04, 2019 14:11 PM

Dus Ka Dum

आयुर्वेद विज्ञान के अनुसार माका रूट समेत इन चीजों के नियमित सेवन से शरीर को एनर्जी मिलती है।

नई दिल्ली। कई लोग देखने में भले ही फिट लगते हो, लेकिन उनकी शारीरिक क्षमता बहुत कम होती है। तभी तो महज दस पुश अप मारने या ज्यादा तेज दौड़ने से उनकी हालत खराब हो जाती है। अगर आप अपना स्टैमिना बढ़ाना चाहते हैं तो हम आपको आयुर्वेद में बताए गए कुछ कारगर टिप्स के बारे में बताएंगे।

1.आयुर्वेद विज्ञान के मुताबिक कॉफी का सेवन स्टैमिना बढ़ाने में मदद करता है। क्योंकि यह आपके मस्तिष्‍क को उत्‍तेजित और सक्रिय करता है जिससे मानसिक स्‍वास्‍थ्‍य में वृद्धि होती है।

2.शारीरिक क्षमता बढ़ाने के लिए माका रूट भी बहुत फायदेमंद होता है। ये एक आयुर्वेदिक औषधी है। ये पीले रंग की होती है। देखने में ये शलजम जैसा लगता है। इसकी सब्जी खाने से कोशिकाएं ए
क्टिवेट हो जाती हैं।

3.स्टैमिना बढ़ाने के लिए मछली का सेवन अच्छा मान जाता है। क्योंकि ये प्रोटीन का अच्छा स्त्रोत होता है। साथ ही इसमें विटामिन, खनिज पदार्थ और ओमेगा-3 फैटी एसिड भी होते हैं। नियिमत रूप से मछली को अपने आहार में शामिल करने से दिल की बीमारी दूर होती है। साथ ही इससे तंत्रिका तंत्र भी ठीक से काम करते हैं।

4.ब्राउन राइस खाने से भी शारीरिक क्षमता विकसित होती है। क्योंकि इसमें प्रचुर मात्रा में विटामिन बी कॉमप्लेक्स होता है। साथ ही इसमे स्टार्च भी होता है। इससे शक्ति मिलती है।

5.चुकंदर में पोटेशियम, फाइबर, विटामिन सी और विटामिन ए प्रचुर मात्रा में होता है। इसलिए इसके सेवन से शरीर को एनर्जी मिलती है। रोजाना एक गिलास इसका जूस पीने से रनिंग और वर्कआउट में फायदा होता है।

6.चूंकि चिकन प्रोटीन का अच्छा स्त्रोत है इसलिए इसके सेवन से भी स्टैमिना बढ़ता है। ये मांसपेशियों के विकास में मदद करता है। इससे हड्डियां भी मजबूत होती हैं।

7.केले में कार्बोहाइड्रेट, फाइबर, पोटेशियम और फ्रुक्‍टोज आदि की अच्‍छी मात्रा होती है। इसके नियमित सेवन से बॉडी को तुरंत शक्ति मिलती है।

8.बादाम में विटामिन ई और ओमेगा-3 फैटी एसिड की अच्‍छी मात्रा होती है। ये फैटी एसिड हमारे शरीर को पर्याप्‍त ऊर्जा दिलाने में सहायक होते हैं और वसा को शरीर में जमा होने से रोकते हैं।

9.खट्टे फलों में सबसे अधिक विटामिन सी होता है। विटामिन सी हमारे शरीर के लिए एंटीऑक्‍सीडेंट का काम करता है। यह हमारे शरीर के लिए भोजन से आयरन को अवशोषित करने में मदद करता है।

10.सेब में एंटीऑक्‍सीडेंट की मात्रा काफी होती है। इसके अलावा सेब में घुलनशील फाइबर, विटामिन और खनिज पदार्थ भी अच्‍छी मात्रा में जो रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने में सहायक होते हैं।