स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

निर्भया कांड के दोषियों की उड़ चुकी है नींद,जेल के अंदर किस तरह से की जा रही है तैयारियां, जाने उनसे जुड़ी 10 बातें

Pratibha Tripathi

Publish: Dec 11, 2019 10:58 AM | Updated: Dec 11, 2019 11:06 AM

Dus Ka Dum

  • जेल में शुरू होने लगी हैं तैयारियां
  • चारों दोषियों की उड़ चुकी है नींद

नई दिल्ली। १६ दिस्ंबर की वो काली रात जब देश की सड़क पर हो रहे दुष्कर्म से पूरा देश तार तार हो गया था। और उसके बाद उसे मौत की नींद सुलाकर भागने वाले निर्भया के दुष्कर्मियों को पुलिस ने अपनी हिरासत में लेकर जेल भेज दिया। इसके बाद से उन लोगों की फांसी की सजा की मांग पूरे देश में होने लगी। अब वो दिन भी नजदीक आ गया है जब उन दोषियो को फांसी के फंदे पर लटकाया जाना हैं। जानकारी के मुताबिक अब उन्हें फांसी देने के लिए तिहाड़ जेल के अंदर फांसी का चबूतरा तैयार कर लिया गया है। गौरतलब है कि तिहाड़ में इन दिनों जहां फांसी दी जानी है उस कक्ष की सफाई चल रही है। ऐसा तभी किया जाता है जब किसी कैदी को फांसी जल्द ही लगने वाली हो। हालांकि इस पर अब भी जेल प्रशासन कुछ भी साफ-साफ कहने से इनकार कर रहा है। बैसे कहा जा रहा है कि अभी तक राष्ट्रपति भवन से कोई पुष्टि नहीं आई है कि दया याचिका खारिज हुई है या नहीं।
किन देशों में, किस तरह से दिया जाता है मृत्युदंड, जानें इसके बारे में

[MORE_ADVERTISE1]lihad_jail-2.jpg[MORE_ADVERTISE2]

जेल के अदंर चारों कैदियों के लिये किस तरह की चल रही है तैयारियां जानें इनके बारे में

निर्भया के साथ हैवानियत की सारी हदें पार करने वाले चारों दोषियों की नींद उड़ चुकी है। बताया जाता है कि मीडिया में चल रही फांसी की खबरें दोषियों तक पहुंच रही हैं। हालांकि अभी उन्हें अलग सेल में रखा गया है, लेकिन दिनचर्या के दौरान जब वे दूसरे कैदियों से मिलते हैं, तो कोई न कोई उनके सामने फांसी का जिक्र कर देता है। नतीजा, वे अब घबराने लगे हैं। चारों दोषी ठीक से खाना नहीं खा पा रहे हैं।

निर्भया केस से जुड़ी वो 10 बातें जिसकी चीख से गूंज उठा था देश ,जल्दी ही मिलेगी सजा ए मौत

[MORE_ADVERTISE3]lihad_jail-33.jpg

मिली जानकारी के अनुसार जिस सेल में ये दोषी बंद हैं, वहां पर कि जा रही अतिरिक्त सुरक्षा व्यवस्था देख वो लोग और भी बेचैन होते जा रहे है। इनके सेल में सीसीटीवी लगाने के अलावा देर रात तक पूरी जांच पड़ताल करने जेलकर्मी भी वहां आते रहते हैं। रात का खाना भी सेल में ही पहुंचाया जा रहा है। इन सभी तरीकों को देखते हुए अब उन्हें भी पूरी तरह से अभास होने लगा है कि उन्हें जो खबर मिल रही है, वह सही है।

बता दें कि अभी तक चारों दोषियों के डेथ वारंट जारी नहीं हुए हैं, लेकिन बताया जा रहा है कि इन पर किसी भी वक्त साइन हो सकते हैं। निर्भया के चार दोषियों में से एक पवन को तिहाड़ की जेल में शिफ्ट कर दिया गया है। इसी जेल में निर्भया के चार दोषियों में से दो अक्षय और मुकेश भी बंद हैं। चौथे आरोपी विनय शर्मा को जेल में रखा गया है।

tihad_jail_.jpg

फांसी वाले प्लेटफार्म पर परिवर्तन भी किया जा रहा है। जैसे खासतौर से लीवर खींचने वाले उपकरण की सही जांच-पड़ताल और लकड़ी वाले फट्टे को भी बदलने की बात कही गई है।

लीवर के हैंडल और शॉफ्ट, जैसे उपकरण जो पानी आने के कारण जाम हो चुके थे, उन्हें दोबारा से खोलकर ठीक किया जा रहा है। क्योकि जिस जगह पर फांसी का प्लेटफार्म है वो खुले में स्थित है और इस वजह से यहां बरसात का पानी आता रहता है। लंबे समय से यहां कोई फांसी नहीं दी गई है, इसलिए लीवर आदि उपकरण जंग खा चुके हैं। रस्सी का ऑर्डर भी दे दिया गया है।

फांसी की खबर सुनकर चारों दोषी को पूरी देख रेख में रखा जा रहा है वे लोग इतने बैचेन है कि अपने सेल में देर रात तक चक्कर काटते रहते हैं। अब इनका खाना भी अलग से आता है।


प्रतिदिन सेल की मैनुअल जांच हो रही है, इन सबके चलते ये चारों इतना तो समझ गए हैं कि अब किसी भी वक्त कोई आदेश आ सकता है। बताया तो यह भी जा रहा है कि दोषियों में से अक्षय और पवन ने खाना भी छोड़ दिया है खाना ठीक से नहीं खा पा रहे हैं।

इन चारों को जेल मैनुअल के हिसाब से ही खाना दिया जा रहा है। दो सप्ताह पहले तक दोषी मुकेश और विनय शर्मा की जो डाइट थी, अब उसमें कुछ बदलाव देखा गया है।

जब भी कोई सुरक्षाकर्मी इनके सेल में पहुंचता है, तो वे तुरंत ही डरकर खड़े हो जाते हैं। उसके बाद बहुत धीमी आवाज में पूछते हैं कि कोई आदेश आया है। रूटीन से हटकर की जा रही मेडिकल जांच ने भी इनकी चिंता बढ़ा दी है। सुरक्षाकर्मी की रिपोर्ट पर एक दिन में कई बार मेडिकल जांच हो सकती है। यदि इनके व्यवहार में कोई बड़ा बदलाव नजर आता है, तो डॉक्टर बिना कोई देरी किए सेल में पहुंच जाता है।

जानकारी के मुताबिक अभी तक किसी भी दोषी को कोई दवा नहीं दी गई है, लेकिन इन्हें तरल पदार्थ और ठोस भोजन इस तरह से दिया जा रहा है कि इनका रक्तचाप संतुलन में रहे। जेल में डेथ वारंट पहुंचने के बाद इनके परिजनों को सूचित किया जाएगा।