स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

निर्भया केस से जुड़ी वो 10 बातें जिसकी चीख से गूंज उठा था देश ,जल्दी ही मिलेगी सजा ए मौत

Pratibha Tripathi

Publish: Dec 10, 2019 11:09 AM | Updated: Dec 10, 2019 11:11 AM

Dus Ka Dum

  • सभी आरोपियों को फांसी की सजा सुनाई जा चुकी है
  • दोषी विनय,पवन और मुकेश की याचिका SC से खारिज

नई दिल्ली। 16 दिसंबर 2012 की वो काली रात जब लोग कड़ाके की ठंड से रात अपने अपने घरों पर थे तब राजधानी दिल्ली के बसंतविहार इलाके के पास एक चलती हुई प्राइवेट बस में एक पैरामेडिकल छात्रा निर्भया के साथ 6 दरिंदों ने बर्बरतापूर्वक गैंगरेप कर उसे बीच सड़क पर छोड़ दिया था। सिंगापुर के माउन्ट एलिजाबेथ अस्पताल में 29 दिसंबर 2012 को इलाज के दौरान पीड़िता की मौत हो गई थी। जब यह खबर चारों ओर फैली तो हर को/ई सिहर उठा। दिल्ली की तमाम जनता ना केवल महिलाएं बल्कि पुरुष भी दोषियों के खिलाफ कारवाई की मांग लिए सड़कों पर उतर आये और ना जाने कितने कैंडल मार्च हुए। जिसका असर ये हुआ कि दिल्ली के रोहिंदी में फास्टट्रैक कोर्ट ट्रैक का गठन किया गया। फास्टट्रैक कोर्ट इस मामले में मात्र 173 दिन में सजा सुना दी लेकिन बाद में दिल्ली हाईकोर्ट ने भी 180 दिन मतलब छह महीने के अंदर फांसी की सज़ा पर मुहर लगा दी थी।


इसके बाद कोर्ट ने पांच आरोपियों को फांसी की सजा सुनाई थी, लेकिन आरोपी राम सिंह ने तिहाड़ जेल में कथित तौर पर आत्महत्या कर ली थी। आरोपियों में एक नाबालिग भी शामिल था, उसे किशोर न्याय बोर्ड ने दोषी ठहराया और तीन साल के लिए सुधार गृह में रखे जाने के बाद रिहा कर दिया गया था। आइए नजर डालते हैं, इस मामले से जुड़ी दस बड़ी बातों पर...

[MORE_ADVERTISE1]

1.लोगों ने विरोध में दिल्ली की प्रमुख जगहों पर पम्फलेट ले कर सरकार से न्याय की गुहार लगाई।

2.ये देश का पहला मामला है जब स्त्री अस्मिता पर लोगों की आवाज ना सिर्फ देश में गूंजी बल्किन विदेशों में भी पहुंची।

3.भारत में अपनी तरह का यह पहला गैंगरेप का मामला है जब पीड़ित लड़की के मां बाप आरोपियों के खिलाफ खुल कर देश के सामने आये और अपनी बेटी के अपराधियों के खिलाफ कड़ी से कड़ी सजा की मांग की।

4.लोगों की जारुकता का असर ये हुआ कि पोलिस ने जल्द ही उस प्राइवेट बस को खोज लिया जिसका वारदात में प्रयोग हुआ था। गैंगरेप की इस दिल दहला देने वाली घटना के बाद लड़कियों को अपने घर से निकलने में डर लगने लगा।

5.निर्भया को इलाज के लिए सिंगापुर के अस्पताल ले जाया गया था, जहां उसका इलाज चल रहा था। लेकिन उसके अंदुरुनी अंग इतने क्षतिग्रस्त हो चुके थे कि 29 दिसम्बर 2012 को उसने सिंगापुर में आखिरी सांस ली।

[MORE_ADVERTISE2]

6.जनवरी, 2013 में पुलिस ने पांच बालिग अभियुक्तों के खिलाफ हत्या, गैंगरेप, हत्या की कोशिश, अपहरण, डकैती आदि आरोपों के तहत चार्जशीट दाखिल की। फ़ास्ट ट्रैक अदालत ने पांचों अभियुक्तों पर आरोप तय किए।

7.इस केस के मुख्य आरोपी राम सिंह ने तिहाड़ जेल में आत्महत्या की। ऐसा माना गया कि आत्मग्लानि के चलते उसने ऐसा किया।

8. 31 अक्टूबर, 2013 को जुवेनाइल बोर्ड ने नाबालिग को गैंगरेप और हत्या का दोषी माना और उसे बाल सुधार गृह में तीन साल रहने का आदेश दिया।

9. सितंबर, 2013 को फ़ास्ट ट्रैक अदालत ने चार आरोपियों को 13 अपराधों के लिए दोषी करार दिया। सितंबर को दोषी मुकेश, विनय, पवन और अक्षय को फांसी की सजा सुनाई गई।

10. सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार निर्भया के दोषियों को उसी दिन सजा दी जा सकती है जिस तारीख को उसके साथ घिनौना कृत्य किया गया था जिसमें उसकी जान चली गई। कहा जा रहा है कि निर्भया के दोषियों 16 दिसंबर को ही सुबह पांच बजे फांसी दी जा सकती है।

[MORE_ADVERTISE3]