स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

मेडिटेशन करते समय ध्यान रखें ये 10 खास बातें, बढ़ जाएगी मेमोरी पावर

Soma Roy

Publish: Aug 17, 2019 17:28 PM | Updated: Aug 17, 2019 17:28 PM

Dus Ka Dum

  • Meditation tips : सिद्वासन या पद्मासन में बैठकर ध्यान करना अच्छा होता है
  • ध्यान करते समय एकांत जगह का चुनाव करें

नई दिल्ली। मेडिटेशन यानि ध्यान को मन शांत करने का सबसे अच्छा तरीका माना गया है। इससे कई बीमारियों से छुटकारा पाया जा सकता है। मगर ध्यान में बैठना इतना आसान नहीं है। क्योंकि हमेशा हमारे दिमाग में कई तरह के विचार चलते रहते हैं ऐसे में किस तरह करें मेडिटेशन आइए जानते हैं।

ये 10 टिप्स दिला सकते हैं सफेद बालों की टेंशन से छुटकारा, ऐसे करें इस्तेमाल

1.मेडिटेशन करने के लिए सबसे पहले सिद्धासन में बैठें। अब सांस का गहराई से बाहर निकालें। अब कुछ समय के लिए आंखें बंदकर केवल सांस लेने की क्रिया पर ध्यान दें।

2.जब भी ध्यान करें तो कोशिश करें ये एकांत या खुली जगह में किया जाए। सिद्धासन में आंखे बंद करके मेडिटेशन करते वक्त शरीर को ढीला छोड़ दें।

3.ध्यान करते समय दिमाग में आने वाले विचारों पर नियंत्रण रखें। अब चेहरे पर हल्की मुस्कुराहट रखकर एक अवस्था में करीब 10 मिनट तक बैठें। ऐसा करने से आपकी मेमोरी पावर तेज होगी।

4.मेडिटेशन करते समय अपने अपने एक-एक अंग पर फोकस करें। आप महसूस करें कि आपकी सेहत अच्छी है और ये अंग बहुत सुंदर है। इससे आपको स्वास्थ लाभ होगा।

5.क्रांतिकारी विधि के जरिए भी ध्यान किया जाता है। इसमें साक्षी भाव या दृष्टा भाव में रहना होता है। इसके तहत आप आंखों से चीजों को देख सकते हैं लेकिन कुछ सोचे नहीं। इससे आपकी खुद पर कंट्रोलिंग बढ़ेगी।

dhyan karna

6.मन को ध्यान के लिए तैयार करने के लिए शारीरिक रूप से सक्षम होना भी जरूरी है। इसके लिए सात्विक भोजन करें और शारीरिक स्वच्छता का पालन करें।

7.ध्यान के लिए सबसे अच्छा समय सुबह 3 बजे से लेकर 7 बजे तक होता है। वहीं रात में आप 10 बजे के बाद किसी भी समय ध्यान कर सकते हैं। क्योंकि इस वक्त वातावरण शांत होता है।

8.ध्यान करने के लिए घर में बेहतर जगह आपका पूजा स्थल हो सकता है। क्योंकि यहां का वातावरण पवित्र और सकारात्मकता से भरा हुआ होता है।

9.मेडिटेशन करते समय जमीन पर कम्बल या ऊनी आसन बिछाकर बैठना अच्छा माना जाता है। क्योंकि शास्त्रों में ध्यान को एक पूजा माना गया है।

10.आप चाहे तो चटाई या कुश के आसन में सुखासन या पद्मासन की अवस्था में बैठकर भी ध्यान कर सकते हैं।