स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

ये हैं दिल दहला देने वाले 10 सबसे चर्चित रेप केस, जिन्हें आज भी नहीं भूल पाया है ये देश

Prakash Chand Joshi

Publish: Dec 03, 2019 13:30 PM | Updated: Dec 03, 2019 13:30 PM

Dus Ka Dum

  • आज भी लोगों को डराते हैं ये केस
  • निर्भया का केस क्रूरतम रेप केस था

नई दिल्ली: देश मौजूदा समय में हैदराबाद ( Hyderabad ) में महिला डॉक्टर के साथ हुए दुष्कर्म और हत्या की आग में जल रहा है। लोगों में आरोपियों के प्रति गुस्सा है। लोग आरोपियों को फांसी की सजा की मांग कर रहे हैं। कहीं कैंडल मार्च निकाला जा रहा है, तो कहीं धरना-प्रदर्शन किया जा रहा है ताकि देश की बोटी दिशा को इंसाफ मिल सके। ऐसे में हम आपको देश में हुए उन 10 चर्चित रेप केस के बारे में बताने जा रहे हैं, जिन्हें आज भी देश भुला नहीं पाया है।

[MORE_ADVERTISE1]rapee1.png[MORE_ADVERTISE2]

हैदराबाद गैंगरेप-मर्डर केस: 'दिशा' के हत्यारों में से एक है किडनी का मरीज, लेकिन अभी नहीं किया जाएगा इलाज...

- साल 1973 में हुए देश के पहले और सबसे चर्चित रेप केस अरुण शानबाग रेप केस है। इस केस में मुंबई की एक अस्पताल में काम करने वाली नर्स अरुणा का अस्पताल के ही एक सफाई कर्मचारी सोहनलाल भर्था वालमीकि ने सोडोमी (अप्राकृतिक सेक्स) रेप किया था। लेकिन उस वक्त सोडोमी कानून में अपराध की श्रेणी में नहीं रखा गया था जिससे सोहनलाल पर रेप का केस नहीं दर्ज हो सका था। हालांकि अरुणा रेप के आरोपी सोहनलाल के खिलाफ लूट और हत्या का प्रयास करने का मामला दर्ज कियास गया था जिसके तहत उसे मात्र सात साल की जेल हुई। सात साल जेल में गुजारने के बाद सोहनलाल बेखौफ अपनी जिदगी जी रहा है।

- साल 1972 में महाराष्ट्र जिले में मथुरा नामकी आदिवासी लड़की का दो सिपाहियों ने बलात्कार किया था। इस मामले में उस लड़की के बारे में कहा गया उसे कई लोगों से संबंध बनाने की आदत है ‌और इसे मानते हुए जिला अदालत ने पुलिस वालों को बरी करने का फैसला सुनाया, लेकिन महाराष्ट्र हाईकोर्ट ने जिला अदालत के फैसले पर रोक लगाते हुए फैसला सुरक्षित रख लिया। लेकिन हाईकोर्ट के फैसले पर रोक लगाते हुए सुप्रीम कोर्ट ने फैसला सुरक्षित रख लिया था जिससे उन सिपाहियों को कोई सजा नहीं हो पाई थी।

[MORE_ADVERTISE3]rapee2.png

- साल 1996 में 25 साल की प्रियदर्शिनी मट्टू का पहले रेप और फिर हत्या का मामला सामने आया। मट्टू दिल्ली में कानून की पढ़ाई कर रही थी जिसका सतोष कुमार सिंह नामके शख्स ने उसी के घर में बलात्कार करके उसकी हत्या कर दी थी। इस केस में भी स्‍थानीय अदालत ने संतोष कुमार सिंह को बरी कर दिया था लेकिन मीडिया के दबाव के चलते दिल्ली हाई कोर्ट ने स्‍थानीय अदालत के फैसल पर रोक लगाते हुए आरोपी को फांसी की सजा सुनाई।

 - वहीं साल 1999 में अंजना मिश्रा रेप केस भी सामने आया। ये हाइप्रोफाइल केस था जो कि उड़ीसा में हुआ था। अंजना मिश्रा एक आईएफएस अधिकारी की पत्नी थीं जिन्होंने उड़ीसा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक से राज्य के महान्यायाधिवक्ता इंद्रजीत राय के खिलाफ 1972 में रेप का प्रयास करने की शिकायत दी थी।

 - सौम्या केरल के एर्नाकुलम से शोर्नूर एक रेल से जा रही थीं तभी गोविंदाचामी नामके शख्स ने उन्हें लूटने के उद्येश्य से हमला किया था। इस मामले में आरापी ने सौम्या का सिर रेल के दरबाजे में दबाकर कुचल दिया था और फिर से उसे ट्रेन से नीचे फेक दिया था।

rapee3.png

- वहीं साल 2015 में मुंबई में 22 साल की महिला पत्रकार के साथ 5 दरिदों ने गैंगरेप किया था। एक महिला पत्रकार जब अपने एक दोस्त के साथ एक पिछड़े इलाके में अपने असाइमेंट के लिए फोटोग्राफी के लिए गई तभी पांच युवकों कासिम बंगाली, सलीम अंसारी, चांद शेख, सिराज रहमान और विजय जाधव ने बारी- बारी से महिला से रेप किया।

- महिला विकास कार्यक्रम की एक छोटी सी कार्यकर्ता भंवरी देवी राजस्‍थान के भतेरी गांव में काम कर रही थीं। 1992 में जब उन्होंने बाल विवाह के खिलाफ बोलना शुरू किया तो ऊंची जाति के पांच लोगों ने उनके साथ बलात्कार किया।

disha1.png

- वहीं अब तक का सबसे ज्यादा भयानक और क्रूरतम रेप केस देश की राजधानी दिल्ली में हुआ था। 16 दिसंबर 2012 की रात एक चलती बस में एक नाबालिग समेत 6 लोगों ने मेडिकल की छात्रा निर्भया का रेप किया। यही नहीं इन लोगों ने क्रूरतम की सारी हदें पार कर दी थी। निर्भया ने 2-3 दिन बाद दम तोड़ दिया और देश के लोगों का गुस्सा सातवें आसमान पर था। सरकार को कानून में बदलवा करने पड़े, लेकिन स्थिति आज भी बदलती हुई नहीं नजर आ रही।

- देश में एक बार फिर से कुछ ऐसा ही माहौल नजर आ रहा है जैसा कि ठीक निर्भया गैंग रेप केस के समय आया था। लोग गुस्से में है, सड़कों पर कैंडल मार्च किया जा रहा है क्योंकि लोग चाहते हैं कि 27 वर्षीय पशु चिकित्सक महिला को इंसाफ मिले। हैदराबाद में हुई इस घटना लोगों को सदमे में डाल दिया है। महिला डॉक्टर रात में लगभग 8 बजे के आसपस जब अपनी क्लिनिक से घर वापस आ रही थी। तब अचानक रास्ते में उनकी स्कूटी पंचर हो गई। इसके बारे में उन्होंने अपनी बहन को बताया, जिस पर बहन ने स्कूटी को टल प्लाजा पर छोड़ने को कहा और कैब लेकर घर आने की सलाह दी। वहीं महिला इस बारे में कुछ सोच पाती उससे पहले वहां 2 लोग आए और मदद करने के लिए कहा। वहीं कुछ देर बाद महिला का फोन स्विच ऑफ हो गया। पुलिस के मुताबिक, महिला को मारकर उसकी डेडबॉडी को कुछ किलोमीटर दूर स्थित निर्माणधीन पुल के पास ले जाकर जला दिया।