स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

पैराएथलिट खिलाड़ी की हत्या का चौंकाने वाला खुलासा, सरपंच चुनाव में मिली हार का बदला लेने के लिए कराई हत्या

kamlesh sharma

Publish: Sep 13, 2019 18:05 PM | Updated: Sep 13, 2019 18:05 PM

Dungarpur

डूंका गांव में करीब तीन माह पूर्व पैराएथलिट खिलाड़ी की धारदार हथियार से वार कर हत्या करने के मामले का खुलासा करते हुए पुलिस ने दो जनों को गिरफ्तार किया है।

धंबोला। डूंका गांव में करीब तीन माह पूर्व पैराएथलिट खिलाड़ी की धारदार हथियार से वार कर हत्या करने के मामले का खुलासा करते हुए पुलिस ने दो जनों को गिरफ्तार किया है। पुलिस का दावा है कि डूंका निवासी जेसा पुत्र रामा डामोर ने पिछले सरपंच चुनाव में तीन वोट से मिली हार का बदला लेने और अगले चुनाव से पहले उसे रास्ते से हटाने के लिए अपनी साथी जेसा पुत्र धीरा डामोर के साथ मिलकर वारदात को अंदाज किया था। वहीं जेसा के मृतक की पत्नी से अवैध संबंध होना भी सामने आया है।

यह हुई थी घटना
तीन जून 2019 की रात को कुबेरसिंह पुत्र नाना पगी डामोर, उसकी मां मणि तथा बेटी भानुमति आंगन में सोए थे। रात करीब साढ़े 12 बजे अज्ञात व्यक्ति ने कुबेर की तलवार से वार कर हत्या कर दी थी। वहीं उसकी मां के हाथ से चांदी का कड़ा छीन लिया था।

यूं हुआ खुलासा
जिला पुलिस अधीक्षक जय यादव ने बताया कि वारदात के बाद एएसपी व डीएसपी के निर्देशन तथा थानाधिकारी बृजेशकुमार के नेतृत्व में टीम गठित की। टीम ने गहन छानबीन और कॉल डिटेल के आधार पर जेसा पुत्र रामा और जेसा पुत्र धीरा को हिरासत में लेकर पूछताछ की। दोनों ने वारदात करना कबूल कर लिया है।

फिर चुनाव लडऩा चाहता था जेसा
एसपी ने बताया कि वर्ष 2015 के पंचायतीराज चुनाव में जेसा रामा, कुबेर तथा कल्याणसिंह सरपंच का चुनाव लड़े थे। इसमें कल्याणसिंह को 303, जेसा को 300 और कुबेर को 250 वोट मिले थे। जेसा का मानना था कि एक ही गांव के होने से कुबेर की वजह से वह हारा।

इसलिए वह कुबेर से रंजिश रखता था। अगले साल होने वाले चुनाव में जेसा फिर से सरपंच के लिए खड़ा होना चाहता था। उसे डर था कि अगर कुबेर फिर चुनाव लड़ेगा तो उसे नुकसान होगा, उधर कुबेर की पत्नी से अवैध संबंध थे, इसलिए उसने उसे पहले ही रास्ते से हटाने की ठान ली।

योजनाबद्ध ढंग से दिया वारदात को अंजाम
वारदात को लेकर जेसा रामा ने पूरी योजना बनाई। गांव के ही जेसा धीरा को शराब पीला कर और डरा धमका कर अपने पक्ष में किया। तीन जून की रात को दोनों मोटरसाइकिल पर बैठकर कुबेर के घर गए। इससे पहले पीठ गांव की एक दुकान से काला कपड़ा खरीदा। कुबेर का घर पहाड़ी पर होने से जेसा रामा मोटरसाइकिल लेकर नीचे खड़ा रहा। जेसा धीरा तलवार लेकर ऊपर गया। मुंह पर काला कपड़ा बांध दिया। जाते ही वहां जल रहा बल्ब फोड़ा इसके बाद वारदात को अंजाम दिया। इसके बाद जेसा धीरा मोटरसाइकिल लेकर चला गया और जेसा रामा तलवार लेकर गुजरात की ओर से निकल गया।

पार्टी रखी, ताकि शक न हो
जेसा रामा ने उसी रात अपनी और से मृतक के घर से करीब एक किमी दूर एक शराब पार्टी भी रखी। वारदात के बाद सीधे वहां चला गया, ताकि अपनी लोकेशन वहां बता सके। पुलिस ने छानबीन के दौरान दोनों आरोपितों के मोबाइल की लोकेशन मृतक के घर के आसपास पाई। बाद में पुलिस ने मोटरसाइकिल से उस पार्टी वाली जगह पर पहुंच कर देखा तो मात्र 5 से 7 मिनट का समय लगा। इससे पुलिस का शक पुख्ता हो गया कि वारदात से पहले वे वहीं से आए।

कुबेर की छवि स्वच्छ, जेसा दबंग
पुलिस ने बताया कि जेसा का गांव में खासा दबदबा है। उससे लोग डरते थे। वहीं दूसरी ओर कुबेर की स्वच्छ अच्छी बनी हुई थी। इसी वजह से जेसा को चुनाव में हार का डर था।

इस टीम को मिली सफलता
वारदात का खुलासा करने वाली टीम में थाना अधिकारी सहित हेड कांस्टेबल प्रदीपसिंह, नेपालसिंह, राकेश, कांस्टेबल लोकेन्द्रसिंह, जीतमल, साइबर सेल के राजेन्द्र कुमार व अभिषेक शामिल रहे। एसपी ने टीम को प्रशंसा पत्र व रिवार्ड की घोषणा की।