स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

dungarpur.हेड कांस्टेबल के बेटे पर जानलेवा हमले के तीन आरोपी गिरफ्तार

Harmesh Kumar Tailor

Publish: Aug 08, 2019 10:27 AM | Updated: Aug 08, 2019 10:27 AM

Dungarpur

dungarpur. कोतवाली थाने में कार्यरत हेडकांस्टेबल के बेटे पर जानलेवा हमला करने वाले तीन हमलावरों को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। इन्होंने गत छह जुलाई रात नौ बजे पुलिस लाइन में घुसकर हेड कांस्टेबल प्रवीण सिंह के पुत्र युवराजसिंह और नवलखा कंपा निवासी यशवर्धन पुत्र हरिसिंह शक्तावत पर हमला किया था।

dungarpur.हेड कांस्टेबल के बेटे पर जानलेवा हमले के तीन आरोपी गिरफ्तार
गिरफ्तारी: जानलेवा हमले के आरोपी आज होंगे कोर्ट में पेश...
dungarpur.हेड कांस्टेबल के बेटे पर जानलेवा हमले के तीन आरोपी गिरफ्तार
पुलिस लाइन में घुसकर मारी थी तलवार
dungarpur. कोतवाली थाने में कार्यरत हेडकांस्टेबल के बेटे पर जानलेवा हमला करने वाले तीन हमलावरों को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। इन्होंने गत छह जुलाई रात नौ बजे पुलिस लाइन में घुसकर हेड कांस्टेबल प्रवीण सिंह के पुत्र युवराजसिंह और नवलखा कंपा निवासी यशवर्धन पुत्र हरिसिंह शक्तावत पर हमला किया था। तब दोनों युवक पुलिस लाइन परिसर में टहल रहे थे। इसी दौरान पीछे से कार लेकर पहुंचे वागदरी के नागेंद्र सिंह पुत्र विक्रम सिंह, माथुगामड़ा के हाल हाउसिंग बोर्ड सत्यपाल सिंह पुत्र कल्याण सिंह और खांदू कॉलोनी बांसवाड़ा हाल हाउसिंग बोर्डनिवासी शक्तिसिंह पुत्र रणजीतसिंह ने तलवार लेकर युवराज सिंह और यशवर्धन सिंह पर हमला कर दिया। दोनों पर तलवार से ताबड़तोड़ वार करने लगे। दोनों ने अपने आप का बचाव करते हुए इधर - उधर भागे। इस दौरान उनके हाथ और सिर पर तलवार से चोट लगी। हाथ कटते कटते रह गया। इस मामले की रिपोर्ट कोतवाली में दर्ज कराई थी। सीआई चांदमल सिंगारिया ने बताया कि आज कोर्ट में पेश करेगे।
गिरफ्तारी से बचने के लिए तीनों हो गए अलग - अलग
वारदात को अंजाम देने के बाद तीनों ही डूंगरपुर से कार लेकर निकल गए। दो दिन बाद गिरफ्तारी से बचने के लिए अलग अलग हो गए। पुलिस के अनुसार सत्यपालसिंह हिम्मतनगर, शक्तिसिंह वड़ोदरा और अहमदाबाद में नागेंद्र सिंह पहुंच गया।
इस तरह से तीनों आपस में लोकल फोन से ही संपर्क में रहे, लेकिन मोबाइल का उपयोग नहीं किया। दूसरी ओर कोतवाली पुलिस ने इन्हें पकडऩे के लिए अपने स्तर पर कोशिश शुरू कर दी। आखिर एक के हिम्मतनगर में होने की जानकारी मिली। इस पर सीआई चांदमल सिंगारिया, एसआई बाबूलाल डामोर, कांस्टेबल धर्मवीरसिंह और नवीनचंद्र की टीम पहुंची और एक को गिरफ्तार किया। इसके बाद बाकी दो भी पकड़ में आ गए।
रिश्तेदारों पर लगाया हत्या का आरोप, एसपी को दिया परिवाद
डूंगरपुर ञ्च पत्रिका. बिछीवाड़ा थाना क्षेत्र के तहत करौली निवासी रमणलाल पुत्र कोदर पटेल की मौत को लेकर परिजनों ने थाणा और बोरी निवासी कुछ रिश्तेदारों के ऊपर हत्या का आरोप लगाते हुए एसपी को परिवाद दिया। मृतक की पत्नी भूरी, पिता कोदर और लाला पटेल ने बताया कि 28 जून की रात 10 बजे रमणलाल का शव थाणा और करौली के मध्य एक रिसोर्ट के निकट पड़ा हुआ था।
मामले में दूसरे दिन पुलिस ने पोस्टमार्टम कर शव परिजनों को सौंप दिया था। लेकिन परिजनों का दावा है कि हकीकत बाद में सामने आई। पत्नी के अनुसार मृतक कुवैत से आया था और वह कुवैत में ही रोजगार करता था। थाणा और बोरी निवासी रिश्तेदारों को रुपए उधार दिए थे। इस कारण उस दिन की शाम को वह मिलने गया था। लेकिन आते वक्त उसकी हत्या कर शव सड़क पर डाल दिया, ताकि लगे दुर्घटना हुई है। मामले में परिजनों ने थाणा के तीन और बोरी के एक जनें के खिलाफ हत्या का आरोप लगाते हुए नामजद परिवाद दिया है। वहीं परिजनों ने आरोपियों की गिरफ्तारी करने की मांग की है।
घटना के दूसरे दिन अस्पताल की मोर्चरी में बड़ी संख्या में समाजजन एकत्रित हुए थे और युवा भी। उस दिन पुलिस की समझाइश के बाद परिजनों ने शव उठा लिया था।