स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

हरे-भरे जंगलों के बीच सबसे ऊंची चोटी पर सिद्ध टेकरी, दूर-दूर से आते हैं श्रद्धालु

Rajkumar Yadav

Publish: Oct 21, 2019 16:49 PM | Updated: Oct 21, 2019 16:49 PM

Dindori

हरे भरे जंगलों के बीच सबसे ऊंची चोटी पर है स्थान

मेंहदवानी. मुख्यालय मेंहदवानी से मात्र 3 किमी तथा जिला मुख्यालय से लगभग 60 से 65 किमी दूर स्थित सिद्ध तपोभूमि रजगढ़ी टेकरी सारसडोली एक दर्शनीय स्थल के साथ साथ कई खूबियों से भरा पड़ा है । हरे भरे जंगलों से ढके पहाडयि़ों की सबसे ऊंची चोटी पर बहुत ही सुंदर स्थान जहां से ३०-३५ गांव नजर आते हैं। सिद्ध टेकरी में कई देवी देवताओं के मंदिर स्थापित हैं जिनमें हनुमान मंदिर, नर्मदा जी, सती माता, भैरों बाबा, सुखदेव गिरी, ब्रम्हरिषि महाराज, शिव परिवार, नागा निर्माणी सिद्ध आदि के मंदिर तथा प्रतिमाएँ स्थापित हैं। इस स्थल से मां नर्मदा का बहुत ही सुंदर स्वरुप दिखाई देता है। रजगढ़ी टेकरी से मां नर्मदा नदी 25-30 किमी दूर तक नजर आती हैं। जिसे दर्शन करने भी श्रद्धालु यहां आते हैं। हर शनिवार की रात्रि यहां भक्तों की भीड़ रहती हैं, क्योंकि इस दिन सिद्ध महाराज प्रगट होते हैं और लोगों की समस्याओं के साथ साथ बीमारियों से भी छुटकारा मिलता है।30-35 वर्षों से प्रतिवर्ष इस स्थान पर पंचमी तिथी को मां काली की प्रतिमा स्थापित किया जाता है जो पूर्णिमा के दिन विसर्जित किया जाता है। वर्तमान में काली की प्रतिमा स्थापित है, जहां पूजा पाठ का दौर चल रहा है।
स्थल तक पहुंचने के लिए मेंहदवानी शहपुरा मुख्य मार्ग से पैदल सीढिय़ों के रास्ते तथा वाहन से जाने वाले श्रद्धालुओं के लिए कच्चा सड़क मार्ग से मंजिल तक पहुंचा जा सकता हैं ।
जाने के लिए हैं कच्चा मार्ग
रजगढ़ी तपोभूमि तक पहुंच मार्ग मुख्य मार्ग से मात्र 1 किमी की दूरी है। जहां वर्तमान में कच्चा मार्ग है। जिसे सीमेंट कांक्रीट मार्ग निर्माण शासन द्वारा कराया जाना चाहिए। इसी तरह पैदल जाने वाले श्रद्धालुओं के लिए लगभग 100 सीढय़ों का निर्माण किया जा चुका है। जहां लगभग 300 सीढिय़ों का निर्माण किया जाना चाहिए। टेकरी अत्याधिक ऊंचाई पर है। जिससे पानी की समस्या है। पाईप लाईन द्वारा पानी पहुंचाया जाना चाहिए।