स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

निर्माण कार्य की प्रगति के आधार पर होगा वेतन का भुगतान

Rajkumar Yadav

Publish: Sep 22, 2019 09:58 AM | Updated: Sep 21, 2019 22:41 PM

Dindori

पलायन रोकने के लिए लोगों को गांव में ही रोजगार उपलब्ध कराया जायेगा

डिंडोरी. कलेक्टर बी.् कार्तिकेयन ने कहा कि जिले में स्वच्छ भारत मिशन और मनरेगा के कार्यां में प्रगति लाई जाए और लोगों को रोजगार उपलब्ध कराया जाए। जिससे जिले में पलायन की स्थिति न हो और लोगों को ग्राम पंचायत में ही रोजगार उपलब्ध हो सके। मनरेगा के कार्यां में सहायक यंत्री और उपयंत्रियों के निर्माण कार्यां की प्रगति के आधार पर उनका वेतन भुगतान किया जायेगा या उनकी सेवा समाप्त की जायेगी। कलेक्टर कार्तिकेयन शनिवार को कलेक्ट्रेट सभाकक्ष में स्वच्छ भारत मिशन और मनरेगा के कार्यांे की समीक्षा कर रहे थे। इस अवसर पर जिला पंचायत सीईओ एम एल वर्मा, जनपद पंचायतों के सीइओ सहित कार्यपालन यंत्री, सहायक यंत्री एवं उपयंत्री मौजूद थे। इसके अलावा कहा कि ग्राम पंचायतों में वित्तीय वर्ष 2017-18 एवं 2018-19 के लंबित निर्माण कार्यां को पूरा कर उपयोगिता प्रमाणपत्र जारी करें। सहायक यंत्री और उपयंत्री उक्त लंबित निर्माण कार्यां की सूची प्रस्तुत करेंगे। जिससे लंबित निर्माण कार्यों की मॉनीटरिंग की जा सके। ग्राम पंचायतों के निर्माण कार्यां की प्रगति के आधार पर कार्यां का मूल्यांकन करें और वसूली योग्य राशि की वसूली की जाए। ग्राम पंचायतों में प्रधानमंत्री आवास योजना और मेढ बंधान के कार्यां में प्रगति लाई जाए। यह सुनिश्चित करें कि उक्त निर्माण कार्य गुणवत्तापूर्वक निर्धारित समय- सीमा में पूरा होना चाहिए। ग्राम पंचायतों में जल संरक्षण, नदी, पुनर्जीवन, आंगनबाडी केन्द्र, पंचायत भवन, विद्यालय, सार्वजनिक भवन, सहकारी उचित मूल्य की दुकानों तक पहुंच मार्ग के कार्यां को प्राथमिकता दी जाए। कलेक्टर कार्तिकेयन ने कहा कि मनरेगा के कार्यां में की जाने वाली व्यय राशि को निश्चित अनुपात में ही खर्च करें, लेबर बजट का सदुपयोग करें। ग्राम पंचायतों में जॉब कार्डधारियों को नियमित रूप से रोजगार उपलब्ध कराएं और उन्हें मजदूरी का भुगतान भी करें। गांव में चौपाल कार्यक्रमों का आयोजन कर निर्माण कार्यां के लिए मांगे आमंत्रित करें। इसी आधार पर ग्राम पंचायतों में मनरेगा और विकास कार्यां की सूची बनाकर कर प्लॉन तैयार करें। ग्राम पंचायतों में तैयार प्लान के आधार पर कार्य करें। कलेक्टर श्री ने निर्देश दिए कि सहायक यंत्री और उपयंत्री नियमित रूप से अपने क्षेत्रों का भ्रमण करेंए निर्माण कार्यां को गुणवत्तापूर्वक पूरा करें। निर्माण कार्य गुणवत्ताहीन होने पर सहायक यंत्री और उपयंत्रियों पर कार्यवाही की जायेगी और उनका वेतन काटा जायेगा। उपयंत्री रोजाना कार्यां की प्रगति के बारे में अवगत करायेंगे। उन्हें यह भी बताना होगा कि किन ग्राम पंचायतों के सचिव और रोजगार सहायक निर्माण कार्यां में लापरवाही बरत रहे हैं। प्रस्तुत रिपोर्ट के आधार पर पंचायत सचिव व रोजगार सहायक पर कार्यवाही की जायेगी। उनका वेतन भी काटा जायेगा या सेवा समाप्त की जायेगी।