स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

मंसूरी निलंबित, एडीओ का काटा वेतन

Rajkumar Yadav

Publish: Jul 17, 2019 10:32 AM | Updated: Jul 16, 2019 22:35 PM

Dindori

कलेक्टर ने की विभिन्न विभागो के कार्यों की समीक्षा
किसानों की आय को दोगुनी करने विस्तृत योजना बनाने के निर्देश

डिंडोरी. कलेक्टर बी. कार्तिकेयन ने डॉ. एम. मसंूरी वीईओ पश चिकित्सा विभाग को निलंबित करने के निर्देश दिए हैं। डॉ. मंसूरी मंगलवार को कलेक्टर न्यायालय में आयोजित विभागीय बैठक में अनुपस्थित थे। इसके पूर्व पशु चिकित्सा सेवा कार्यालय करंजिया के निरीक्षण के दौरान भी अनुपस्थित पाये गए थे। कलेक्टर कार्तिकेयन ने डा. मंसूरी द्वारा विभागीय कार्यों में की जा रही लापरवाही को गंभीरता से लेते हुए उन्हें निलंबित करने को कहा है।
कलेक्टर कार्तिकेयन कलेक्टर न्यायालय में आयोजित मत्स्य, कृषि, उद्यानिकी एवं पशु चिकित्सा सेवाएं विभाग की समीक्षा बैठक ले रहे थे। इस अवसर पर जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी दिलीप कुमार यादव सहित जिला एवं जनपद स्तरीय अधिकारी-कर्मचारी उपस्थित थे। कलेक्टर कार्तिकेयन ने कृषि विभाग के एडीओ के द्वारा विभागीय कार्यों एवं योजनाओं का प्रभावी ढंग से क्रियान्वयन नहीं करने के कारण उनका भी सात दिवस का वेतन काटने को कहा है। कलेक्टर कार्तिकेयन ने कहा कि किसानों की आय को दोगुना करने के लिए उन्हें आधुनिक पद्धति से खेती करने की सलाह दी जाए। शासन द्वारा संचालित योजनाओं से किसानों को लगातार लाभांवित किया जाए। जिससे किसान कृषि उत्पादन बढाकर अपनी आय को दोगुना कर सकें। कलेक्टर कार्तिकेयन ने कहा कि कृषि विभाग का अमला नियमित रूप से किसानों के खेतों तक सम्पर्क करें। किसानों को समय पर खाद, बीज, कृषि उपकरण और शासन की योजनाओं से लाभांवित करें। किसानों को उन्नत किस्म की बीज एवं खाद उपलब्ध कराकर कृषि उत्पादन को बढाने का कार्य करें। किसानों को मक्का, धान, कोदो कुटकी की उन्नत खेती के बारे में बताये और रोगोपचार के बारे में भी लगातार सलाह दें। कलेक्टर श्री कार्तिकेयन ने बैठक में जय किसान फसल ऋण माफी योजना की प्रगति एवं किसान पंजीयन की स्थिति के संबंध में समीक्षा की। उन्होंने कहा कि कृषि विभाग का अमला किसानों से सम्पर्क करें और उन्हें लाभांवित करने का काम करें।
कृषि विभाग का अमला किसानों के द्वारा खेती करने की पद्धति का नियमित रूप से परीक्षण करें। किसानों को खेती किसानी की नई-नई तकनीकों के बारे में जानकारी दें। किसानों को नियमित रूप से बीज, खाद, कृषि उपकरण के बारे में बताएं। किसानों को खाद, बीज उपलब्ध कराने वाली दुकानों से सेम्पल लेकर परीक्षण करें, जिससे किसानों को उत्तम क्वालिटी के बीज एवं खाद उपलब्ध हो सके। आयोजित बैठक में यशवंत सोनवानी प्रबंधक तेजस्विनी ग्रामीण महिला सशक्तिकरण कार्यक्रम ने बताया कि जिले में कोदो-कुटकी का उत्पादन करने की आपार संभावनाएं हैं। किसानों को कोदो-कुटकी का उत्पादन बढाने के लिए विस्तार से जानकारी दी जाती है। उन्होंने कहा कि किसानों के खेतों को सामूहिक रूप से मिलाकर खेती करने की कार्य योजना बनाई जा रही है। इससे खेतों में समय पर खाद, बीज, पानी उपलब्ध होगा और फसल की उत्पादन क्षमता बढेगी। कलेक्टर कार्तिकेयन ने इसी प्रकार से मत्स्य विभाग, पशु चिकित्सा सेवाएं विभाग के कार्यों की भी समीक्षा की। उन्होंने मत्स्य पालन एवं दुग्ध उत्पादन को बढाने के लिए विस्तृत कार्य योजना बनाने को कहा।