स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

नागरिक आपूर्ति निगम व वेयर हाउस में अनिश्चित कालीन हड़ताल

Rajkumar Yadav

Publish: Sep 13, 2019 10:15 AM | Updated: Sep 12, 2019 21:06 PM

Dindori

लंबित मांगो को लेकर पूर्व में की गई थी सांकेतिक हड़ताल

डिंडोरी. मध्य प्रदेश राज्य नागरिक आपूर्ति निगम एवं एमपी वेयरहाउसिंग एंड लॉजिस्टिक कार्पोरेशन कर्मचारी अधिकारी संयुक्त संघर्ष समिति के तत्वधान में अधिकारी कर्मचारियों की मांगों एवं समस्याओं के निराकरण ना किए जाने के कारण अनिश्चित कालीन हड़ताल प्रारंभ हो गई है। ज्ञात हो कि विगत माह में भी उक्त संस्थानों ने लंबित मांगों को लेकर सांकेतिक हड़ताल कर विरोध प्रदर्शन किया था। दोनों कारपोरेशन के अधिकारी और कर्मचारी 28 अगस्त को प्रदेश व्यापी हड़ताल कर प्रबंधन को आगाह किया था। कार्पोरेशन के जिले में कार्यरत अधिकारी और कर्मचारियों ने बताया कि संघ द्वारा अनेक बार कार्पोरेशन प्रबंधन को अपनी मांगों के निराकरण हेतु निवेदन किया गया था। प्रबंधन द्वारा समय-समय पर चर्चा भी की गई एवं मांगों को पूरा करने का आश्वासन भी दिया गया था किंतु इसके उपरांत भी संघ की मांगों पर कोई सकारात्मक निर्णय नहीं हो सका।
दिया गया था आश्वासन
हड़ताली अधिकारी और कर्मचारियों ने बताया है कि संघ के द्वारा पूर्व में भी अपनी मांगों एवं समस्याओं के निराकरण के लिए आंदोलन किए गए थे। उस समय भी कार्पोरेशन प्रबंधन के द्वारा आश्वासन दिया गया था। प्रबंधन के आश्वासन के बाद संघ के द्वारा आंदोलन स्थगित किए गए थे ताकि मांगों पर सकारात्मक निर्णय लिए जा सकें एवं कार्पोरेशन का कार्य भी सौहार्दपूर्ण वातावरण में संपादित होता रहे किंतु कार्पोरेशन प्रबंधन द्वारा मांगो एवं समस्याओं का निराकरण तो दूर दोनों कार्पोरेशन के कर्मियों को अनावश्यक रूप से प्रताड़ित किया जा रहा है ।
यह है प्रमुख मांगे
दोनों कारपोरेशन में सेवानिवृत्ति आयु सीमा में शासन के समान वृद्धि किए जाने, कर्मियों को सातवें वेतनमान का 27 माह का एरियर भुगतान किए जाने, गेहूं उपार्जन कार्य में कर्मियों को प्रति वर्ष की भांति 1 माह के वेतन के मान से प्रोत्साहन राशि का भुगतान, आकस्मिक दैनिक वेतन भोगी श्रमिक, स्थाई कर्मी का नियमितीकरण, आउटसोर्स कर्मियों की मांगों एवं समस्याओं का निराकरण कर आउटसोर्स कर्मियों को कार्पोरेशन कर्मी मानकर कार्पोरेशन स्तर से वेतन भुगतान एवं रिक्त पदों के विरुद्ध उनको नियमित किए जाने, संघ द्वारा समय-समय पर दिए गए मांग पत्र पर प्रबंधन द्वारा चर्चा में दिए गए आश्वासनों के अनुसार आदेश जारी किए जाने सहित अन्य मांगे रखी गई है। उक्त मांगों एवं समस्याओं के निराकरण होने तक दोनों कार्पोंरेशन के कर्मी आंदोलनात्मक कार्रवाई के लिए बाध्य हैं जिसकी समस्त जवाबदेही कार्पोरेशन प्रबंधन एवं प्रशासकीय विभाग की होगी।