स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

दिवाली के पहले ही पहाड़ी क्षेत्रो में हो रहे धमाके

Rajkumar Yadav

Publish: Oct 23, 2019 09:24 AM | Updated: Oct 22, 2019 21:24 PM

Dindori

खनन कारोबारियों के लिए चारागाह बना डिंडोरी
नक्सल संभावित जिले में हर रोज हो रही दगानी

डिंडोरी. आदिवासी बाहुल्य डिंडोरी जिला नक्सल संभावित जिलों की सूची में शामिल है। इसके बावजूद हर रोज धमाकों से दहल रहा है। जिसे लेकर न तो पुलिस प्रशासन इस ओर ध्यान दे रहा है और न ही जिला प्रशासन। खनन कारोबारियों ने जिले को चारागाह बना रखा है। प्रशासनिक मौन स्वीकृति से करोड़ों की खनिज संपदा का दोहन कर शासन के राजस्व को नुकसान पहुंचाया जा रहा है। ऐसा ही मामला विकासखंड अमरपुर के ग्राम लालपुर का प्रकाश में आया है जहां सड़क निर्माण कंपनी द्वारा बड़े पैमाने पर बारूद का प्रयोग कर निर्माण कार्य के लिये गिट्टी निकाली जा रही है। यह वही कंपनी है जिसने गाड़ासरई के आगे रत्ना में के्रशर लगा रखा है और बेखौफ हो धमाके पर धमाके कर बड़ी मात्रा में खनिज संपदा का दोहन कर रही है।
स्वीकृति पुलिया की प्रयोग के्रशर में
जानकारी अनुसार उक्त कंपनी द्वारा 5 स्थानों पर बारूद का प्रयोग किये जाने संबंधी स्वीकृति ली गई है। लेकिन यदि झांकी को छोंड़ दिया जाये तो शेष सभी जगह पुल पुलिया बनाये जाने के नाम पर विस्फोटक का प्रयोग किये जाने की स्वीकृति है। लेकिन कंपनी द्वारा प्रशासन की आंखों में धूल झोंक कर लालपुर में बड़े पैमाने पर बारूद का प्रयोग किया जा रहा है।
चलित क्रेशर भी अवैध
खनिज विभाग में बैठे अधिकारियों की अनदेखी का अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि जिले में एक भी चलित क्रेशर की स्वीकृति नही है। फिर भी रत्ना एवं लालपुर में चलित क्रेशर लगाकर 85 करोड़ की सड़कें तैयार की जा रही है। अनेको दफा मामला प्रकाश में आने के बाद भी विभागीय अधिकारियों द्वारा किसी भी प्रकार की कार्रवाई नहीं की गई।
इनका कहना है .
इनका कहना है
मेरे द्वारा अनेको दफा इस संबंध में शिकायतें की गई हैं, लेकिन जिम्मेदारों द्वारा कोई कार्यवाही नही की जा रही है।
श्यामकुमारी धुर्वे, जनपद सदस्य अमरपुर जनपद
आपके माध्यम से मामला संज्ञान में आया है, जिसकी जांच कर उचित कार्यवाही की जायेगी।
रमेश सिंह, एडीएम डिंडोरी