स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

अफसरों की लापरवाही के कारण दिव्यांग परिवार खा रहा दर दर की ठोकर

Rajkumar Yadav

Publish: Jul 18, 2019 10:28 AM | Updated: Jul 17, 2019 22:56 PM

Dindori

सरपंच ने भवन खाली करने जारी किया नोटिस

शहपुरा. जिले के मेंहदवानी जनपद मुख्यालय में अफसरों की लापरवाही और मनमानी के कारण गरीब परिवार जर्जर सामुदायिक भवन में गुजर बसर करने के लिये मजबूर है। हैरत की बात तो यह है कि ग्राम पंचायत के सरपंच पीडि़त परिवार की मदद करने की बजाय सामुदायिक भवन खाली करने नोटिस जारी किया है। इस मामले में जनपद पंचायत के सीईओ जे पी मिश्रा से बात की गई तो वह भड़क गये और मीडिया कर्मियों के खिलाफ एफ आईआर दजऱ् कराने की धौंस देने लगे। देश व प्रदेश की सरकार गरीब लोगो के लिए तमाम तरह की योजनाओ में करोडो अरबो रूपयें सिर्फ इसलिए खर्च कर रही है ताकि गरीब परविार को सहारा मिल सके और इन योजनाओ की मदद से आगे बढ सके पर अधिकारियो की लापरवाही से ऐसा हो नहीं रहा है ।
क्या है पूरा मामला
मेंहदवानी जनपद पंचायत मुख्यालय में आवास के लिये एक परिवार पिछले पांच वर्षों से ग्राम पंचायत एवं सरकारी दफ्तरों के चक्कर काटने को मजबूर है। पीडि़त परिवार कलेक्टर से लेकर प्रदेश के मुख्यमंत्री तक से अपनी गुहार लगा चुका है लेकिन अब तक किसी भी ने उनकी सुध नहीं ली है। आर्थिक तंगी से जूझ रहे इस बेघर परिवार का मुखिया दिव्यांग है जो अपनी पत्नी के साथ मजदूरी कर जैसे तैसे अपने परिवार का पालन पोषण करता है। दूसरों घर बर्तन मांजकर मजदूरी करने वाली पीडि़त परिवार की सदस्य अनीता ने बताया कि बेघर होने के बाद पेड़ के नीचे दो दिन गुजारा और करीब 15 दिन जानवरों के साथ कांजी हाउस में भी रहना पड़ा है। स्थानीय लोगों की मदद से उन्हें सामुदायिक भवन में रहने की इजाजत दी गई थी,पीडि़त परिवार करीब डेढ़ साल से जर्जर हो चुके सामुदायिक भवन में रह रहे हैं। जिन्हें जवाबदार आवास योजना का लाभ दिलाने के बजाय भवन खाली करने का दबाव बना रहा है। जनपद मुख्यालय जहां सभी बड़े अधिकारी रहते हैं वहां पात्र होते हुये भी एक परिवार आवास योजना के लिये दर दर की ठोकरें खाने को मजबूर है ऐसे में ग्रामीण इलाकों में सरकारी योजनाओं के क्या हाल होंगे जिसका अंदाजा बड़ी आसानी से लगाया जा सकता है।
जर्जर सामुदायिक भवन में मै किसी तरह अपने परिवार के साथ रह रहा हूं तो वहां से भी निकालने के लिए सरपंच नोटिस दे रहा है। मै पैरो से विकलांग हूं इस बरसात के मौसम में कहा जाउं,मैने सभी से आवास के लिए गुहार लगाई पर कहीं पर भी किसी ने नहीं सुना।
श्याम दास, ग्रामीण।