स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

इस बैंक की मनमानी, दुखी हैं पेंशनधारी

mahesh gupta

Publish: Sep 20, 2019 11:22 AM | Updated: Sep 20, 2019 11:22 AM

Dholpur

उपखण्ड क्षेत्र में सेवानिवृत्त कर्मचारियों व उनके आश्रितों को मिलने वाली पेंशन व परिलाभों के लिए बैंक से पत्रावलियां समय पर उप कोषाध्किारी कार्यालय नहीं पहुंचने से पेंशनर्स को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। पेंशनरों का आरोप है कि कई बार बैंक अधिकारियों को इस संबंध में शिकायत करने के बावजूद कोई सुधार नहीं हो रहा है।

बाड़ी. उपखण्ड क्षेत्र में सेवानिवृत्त कर्मचारियों व उनके आश्रितों को मिलने वाली पेंशन व परिलाभों के लिए बैंक से पत्रावलियां समय पर उप कोषाध्किारी कार्यालय नहीं पहुंचने से पेंशनर्स को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। पेंशनरों का आरोप है कि कई बार बैंक अधिकारियों को इस संबंध में शिकायत करने के बावजूद कोई सुधार नहीं हो रहा है।
पेंशनर्स ने बताया कि उपकोष कार्यालय से पेंशन भुगतान के लिए पीपीओ फाइल बैंक भेजी जाती है। किसी पेंशनर की मृत्यु होने पर उसकी पारिवारिक पेंशन के लिए पत्रावली बैंक से उप कोष कार्यालय आती है, जहां से संशोधन के बाद फिर भुगतान के लिए बैंक जाती है। पेंशनर्स का आरोप है कि बाड़ी एसबीआई बैंक से कई बार पत्रावली मंगाने के लिए आदेश भेजे जाने के बावजूद उप कोष कार्यालय को पत्रावलियां नहीं भेजी जा रही हैं। इसके चलते विधवा महिलाएं व बुजुर्ग पेंशन एरियर के लिए परेशान हो रहे हैं।
पेंशनर समाज ने बताया कि ओमवती अग्रवाल पत्नी संतोष अग्रवाल की पारिवारिक पेंशन की पत्रावली मूल पेंशनर की मृत्यु मार्च में होने के बावजूद अब तक उप कोष कार्यालय नहीं पहुंची है। हालांकि बैंक को पत्र भेजे हुए हैं लेकिन पत्रावली अभी तक कार्यालय नहीं पहुंची है। इसी प्रकार आंगई गांव निवासी पेंशनर ओम प्रकाश शर्मा की मृत्यु करीब एक वर्ष पूर्व हुई थी, उनकी पत्नी अनुसूया के नाम से पारिवारिक पेंशन बननी है लेकिन उनकी पत्रावली भी बैंक में कई बार पत्र भेजने के बावजूद उप कोष कार्यालय नहीं भेजी जा रही है। किडी मोहल्ला निवासी वरिष्ठ पेंशनर रामस्वरूप महावर का आरोप है कि उनके एरियर का मामला है, जिसके लिए बैंक से पत्रावली उप कोष कार्यालय नहीं भेजी जा रही है ऐसे में वे परेशान हैं और उनका पैसा नहीं मिल रहा है।
उप कोष कार्यालय में संशोधन के बाद ही पत्रावली बैंक भेजी जाती है तब ही पेंशनर को भुगतान होता है। कई बार लिखित में पत्र भेजा जा चुका है, लेकिन बैंक से पत्रावली समय पर नहीं आ पाती है जिसके चलते पेंशनरों को परेशानी होती है।
राजेन्द्र प्रसाद, उप कोषाधिकारी, बाड़ी