स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

पैसे के लिए शिक्षक ने मासूम हत्या कर शव नाले में फेंका

Mahesh Gupta

Publish: Nov 20, 2019 12:34 PM | Updated: Nov 20, 2019 12:34 PM

Dholpur

बसेड़ी थाना इलाके के नयावास मोहल्ले में एक शिक्षक ने अपने ही एक छात्र का अपहरण कर गला घोंटकर हत्या कर दी। आरोपित शिक्षक ने हत्या के बाद शव प्लास्टिक के कट्टे में रखकर मंगलवार को नाले में फेंक दिया। मृतक छात्र के परिजन को गुमराह करने के लिए आरोपित ने झूठी कहानी भी रची, लेकिन आरोपित की झूठी कहानी पर गंभीरता दिखाई तो सच सामने आ गया।

बसेड़ी थाना इलाके का मामला
पुलिस व मृतक के परिजन को गुमराह करने के लिए रची झूठी कहानी
बसेड़ी. बसेड़ी थाना इलाके के नयावास मोहल्ले में एक शिक्षक ने अपने ही एक छात्र का अपहरण कर गला घोंटकर हत्या कर दी। आरोपित शिक्षक ने हत्या के बाद शव प्लास्टिक के कट्टे में रखकर मंगलवार को नाले में फेंक दिया। मृतक छात्र के परिजन को गुमराह करने के लिए आरोपित ने झूठी कहानी भी रची, लेकिन आरोपित की झूठी कहानी पर गंभीरता दिखाई तो सच सामने आ गया। पुलिस ने आरोपित शिक्षक व उसके एक साथी को गिरफ्तार पूछताछ की तो छात्र की हत्या का राज खुल गया। पुलिस ने आरोपितों से पूछताछ कर हत्या के कारणों की जानकारी जुटाना शुरू कर दिया है। वहीं, प्रारंभिक पड़ताल में हत्या तीन करोड़ की फिरौती मांगे जाने की बात पर किया जाना सामने आ रहा है।
प्राप्त जानकारी के अनुसार कस्बे के नयावास मोहल्ला निवासी बृज किशोर जायसवाल का 11 वर्षीय पुत्र लव जायसवाल गत 17 नवम्बर को घर से बाहर खेलने कह कर निकला था। देर शाम तक लव के घर नहीं लौटने पर परिजनों ने उसकी तलाश भी की, लेकिन कोई जानकारी नहीं हो सकी। इस दौरान लव की बड़ी बहन गीता देवी के मोबाइल पर फोन आया और बालक को छोडऩे के एवज में तीन करोड़ रूपए की फिरौती मांगी गई। पुलिस को सूचना देने पर बालक की हत्या करने की धमकी भी दी गई। इसके बाद बालक के परिजन ने पुलिस अधीक्षक मृदुल कच्छावा से संपर्क किया और पूरे घटनाक्रम के बारे में जानकारी दी। एसपी कच्छावा ने मामले को गंभीरता से लेते हुए पुलिस की विशेष टीमों का गठन कर पड़ताल शुरू कर दी।
झूठी कहानी से हुआ सच का खुलासा
हुआ यूं कि लव जायसवाल के अपहरण होने जाने और तीन करोड़ की फिरौती मांगने को लेकर जब परिजन घर पर बातें कर रहे थे, इस दौरान उसके यहां लव को एक-डेढ़ वर्ष पहले ट्यूशन पढ़ाने वाला नितिन कुश्वाह नाम का युवक आया और परिजन को लव के धौलपुर में जगदीश चौराहे पर बोलेरो में कुछ लोगों के साथ बैठा होने की बात कही।
इस संबंध में पुलिस को सूचना दी। पुलिस ने अभय कमाण्ड में लगे सीसीटीवी कैमरों को खंगाला तो इस प्रकार का कोई भी वाहन बताए जा रहे समय पर गुजरना नहीं पाया गया। साथ ही शिक्षक का भी धौलपुर में नहीं आने की बात सामने आई। इस पर पुलिस ने शिक्षक नितिन को हिरासत में ले लिया और पूछताछ की, जिसके बाद लव की हत्या की घटना का खुलासा हो गया।
17 नवम्बर को ही कर दी थी हत्या
पुलिस की गिरफ्त में आरोपित नितिन कुश्वाह ने बताया कि बालक जब घर के बाहर खेल रहा था, इस दौरान उसे अपहरण करके कस्बे में एक किराए के मकान में ले आए थे। यहां गला घोंटकर उसकी हत्या कर और शव को प्लास्टिक के थैले में रखकर कस्बे के ही पोस्ट ऑफिस के पास स्टेशन रोड नाले में फेंक दिया। पुलिस आरोपित की निशानदेही पर शव को बरामद कर लिया है।
पैसा वाला बनना चाहता थे आरोपित
प्रारंभिक पूछताछ में सामने आया है कि आरोपित शिक्षक व उसके साथियों ने जल्द से जल्द पैसा वाला बनने के लिए इस प्रकार की वारदात को अंजाम दिया। आरोपित ने बताया कि वह जब मृतक छात्र लव के घर में ट्यूशन पढ़ाने के लिए जाता था, इस दौरान उसे यह जानकारी हो गई थी कि उसका चाचा संजय जायसवाल पत्थर व्यवसाई है और करोड़ों का लेन देन होता है। अपहरण के बाद बालक के परिजन से तीन करोड़ रुपए की फिरौती की डिमांड की थी।
बेरोजगार चल रहा था आरोपित
प्रारंभिक पड़ताल में सामने आया है कि वारदात का मुख्य आरोपित नितिन कुश्वाह निजी स्कूल व ट्यूशन पढ़ाकर अपना गुजारा करता था, लेकिन कुछ माह से वह बेरोजगार चल रहा था। इस दौरान उसने पैसा बनने के लिए बालक के अपहरण की योजना तैयार की। आरोपित नितिन को पता था कि बालक लव का चाचा संजय जयसवाल पुत्र रामजीलाल पिछले करीब 27 साल से पत्थर व्यवसाय से जुड़ा हुआ है, करीब पांच से सात करोड़ का पर साल का पत्थर सप्लाई का बिजनेस है।
बाजार बंद
नाबालिक मासूम शव स्टेशन रोड पर पोस्ट ऑफिस के पास एक नाले में मिलने की सूचना जैसे ही कस्बे के लोगों के पास पहुंची तो बड़ी संख्या में लोग एकत्र होकर मौके पर पहुंच गए। इस दौरान कस्बे का बाजार भी बंद हो गया। हर कोई घटनाक्रम को लेकर जानकारी जुटाता हुआ नजर आया। आरोपित के खिलाफ सख्त कार्रवाई को लेकर लोगों में आक्रोश नजर आया और पूरे दिन कस्बे का बाजार बंद रहा।
आरोपित के भाई ने बनाया था बालिका को बंधक
पुलिस पड़ताल में सामने आया है कि बालक की हत्या के मामले में गिरफ्तार आरोपित शिक्षक का बड़ा भाई भी निजी विद्यालय में शिक्षक है और उसे भी पुलिस ने गत सितम्बर माह में स्थानीय एक बालिका को घर पर बंधक बनाने के आरोप में गिरफ्तार किया था।
मौके पर पहुंचे एसपी, डीआईजी
सूचना मिलने पर भरतपुर रेंज डीआईजी लक्ष्मण गौड़ व जिला पुलिस अधीक्षक मृदुल कच्छावा कस्बा बसेड़ी पहुंचे और थाना पुलिस से घटनाक्रम के संबंध में विस्तृत जानकारी जुटाई। साथ ही मौके पर मौजूद लोगों को मामले में गंभीरता से अनुसंधान कर आरोपित के खिलाफ सख्त से सख्त कार्रवाई किए जाने का आश्वासन दिया।
अनुसंधान के हर पहलू पर एसपी की निगाह
एसपी कच्छावा ने बताया कि बसेड़ी में बालक के अपहरण और फिरौती की डिमांड की जानकारी जब परिजन ने उन्हें दी तो वे स्वयं के स्तर पर मामले के अनुसंधान में जुट गए। इस दौरान बसेड़ी सर्कल पुलिस की एक विशेष टीम का गठन किया गया। जब उन्हें इस बात की जानकारी मिली कि अपह्रत बालक के धौलपुर में होने की जानकारी मिली तो इस पर जानकारी देने वाले शिक्षक को पुलिस के जरिए धौलपुर लाया गया और घटना स्थल का मौका मुआयना कराते हुए बताए गए समय के अनुसार सीसीटीवी कैमरों को खंगाला गया। इस घटनाक्रम के बाद सच सामने आ गया। एसपी ने बताया के मामले में अन्य लोगों के शामिल होने की जानकारी मिली है, जिस पर आरोपित के साथ एक साथी भी हिरासत में लिया गया है, जबकि दो अन्य की तलाश की जा रही है। वहीं, घटनाक्रम को लेकर मृतक बालक के परिजन ने जिला कलक्टर राकेश कुमार जायसवाल से भी संपर्क साधा था। इस दौरान कलक्टर जायसवाल ने मामले में आरोपित के जल्द से जल्द गिरफ्तार किए जाने का आश्वासन दिया।
तत्परता पर थपथपाई पीठ
बालक के अपहरण के मामले को गंभीरता से लेने को लेकर भरतपुर रेंज डीआईजी लक्ष्मण गौड़ व जिला एसी मृदुल ने मामले में अनुसंधान करने वाली पुलिस टीम की सराहना करते हुए पीठ थपथपाई है। टीम ने सरमथुरा पुलिस उपाधीक्षक हरीराम मीणा, थाना प्रभारी लल्लूराम, सबइंस्पेक्टर गजानंद, हैड कांस्टेबल नंदराम, शिवचरण शर्मा, रामवीर, विक्रम, अनिल कुमार आदि शामिल रहे।

[MORE_ADVERTISE1]