स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

बिखरा आशियाना, उजड़ी फसल

mahesh gupta

Publish: Sep 21, 2019 10:48 AM | Updated: Sep 21, 2019 10:48 AM

Dholpur

बाढ़ का कहर भले ही खत्म हो गया, लेकिन बिखरे आशियाने, उजड़ी फसल बर्बादी की कहानी बयां कर रही है। अब भी कई गांवों में पानी भरा हुआ है और जहां पर पानी उतर गया है, वहां पर मलबा इस कदर है कि लोग तो बहुत दूर की बात वाहन भी आसानी से नहीं निकल पा रहे हैं।

बयां कर रही बाढ़ पीडि़तों की बर्बादी कहानी
रास्तों में पड़ा है मलबा
चम्बल का जलस्तर 131.40 मीटर पर, खतरे के निशान से मात्र दो मीटर ऊपर
धौलपुर. बाढ़ का कहर भले ही खत्म हो गया, लेकिन बिखरे आशियाने, उजड़ी फसल बर्बादी की कहानी बयां कर रही है। अब भी कई गांवों में पानी भरा हुआ है और जहां पर पानी उतर गया है, वहां पर मलबा इस कदर है कि लोग तो बहुत दूर की बात वाहन भी आसानी से नहीं निकल पा रहे हैं। जिला मुख्यालय के नजदीक ही भमरौली, मारौली के बाढ़ प्रभावित गांवों में बाढ़ की तबाही का मंजर दिखाई देता है। लोगों के घरों का सामान का अता-पता नहीं हैं। कइयों के पशु ही बाढ़ में बह गए। धन की बबार्द की अलावा खेतों पकाव पर खड़ी फसल तहस-नहस हो गई है। अब मौसमी बीमारियों ने पैर पसार लिए हैं। किसानों के पास अपना कहने को कुछ नहीं बचा है। कई गांवों में तो लोग घरों की लौट कर जीवन बसर करने की स्थिति में नहीं है। न तो आशियाना रहने लायक बचा है और ना खेत दो जून की रोटी के लिए खेतों में लहलहाती फसल। लोग अब सरकार के आसरे पर ही टिके हैं। हालांकि सबसे बड़ी गनीमत यह रही कि बाढ़ में कोई जनहानि नहीं हुई। लोगों ने हिम्मत से काम लिया और घरों को रामभरोसे छोडकऱ जीवन बचाया। जो लोग बाढ़ में फंसे या बीमार हो गए, उनको राहत दलों ने बाहर निकाला।
प्रशासन जुटा राहत कार्यों में
बाढ़ से हुई बर्बादी के बाद लोगों को राहत देने में प्रशासन जुट गया है। प्रशासन की ओर से मौसमी बीमारियों से निपटने के लिए 24 चिकित्सा दलों का गठन किया गया है।
वहीं ग्राम पंचायतों में चारा डिपो का संचालन शुरू कर दिया है। सार्वजनिक निर्माण विभाग की ओर से मलबा हटवाया जा रहा है। वहीं भोजन व पानी की व्यवस्था लगातार की जा रही है।
एक दर्जन गांवों में बिजली सुचारू करवाई
जिले के बाढ़ प्रभावित इलाकों में विद्युत हादसों से बचाव के कारण बंद की गई बिजली को फिर से सुचारू करवाया जा रहा है। निगम के अधीक्षण अभियंता बीएल वर्मा ने बताया कि राजाखेड़ा क्षेत्र के ग्राम गडराई, कठुमरी, गुनपुर, टीकतपुरा, गोपालपुरा, सामोर, चीलपुरा, बक्सपुरा, महदपुरा, कठूमरा, मुरपुरा, शंकरपुरा, करीमपुरा, भूडा, गुरइया खेड़ा, चटीकरा, झोरिया, कमरियाकापुरा, मोर बइया, धौलपुर क्षेत्र के गांव राजघाट, पाटोर, घेर, शानपुर, भमरौली, तिघरा, भैसेना, बसई नीम, नबाब का अड्डा, वाले का पुरा, कामरे का पुरा, बिछिया, छिद़्दी की टेक, पायलेनकापुरा, नथुआ का पुरा, देव का पुरा, भीखापुरा, मोरोली, सरमथुरा क्षेत्र के गांव कालीतीर, खिला टाडा, सेवरिया कापुरा, शंकरपुर, बाड़ी क्षेत्र के गांव मुरहनकापुरा, धनावली, व्यासपुरा बरपुरा, कस्बा नगर में विद्युत आपूर्ति सुचारू कर दिया गया है।