स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

धौलपुर में लगी सावन-सी झड़ी तो सैपऊ में झमाझम बारिश

mahesh gupta

Publish: Sep 08, 2019 12:29 PM | Updated: Sep 08, 2019 12:29 PM

Dholpur

जिले भर में शनिवार को भादौ में सावन की झड़ी सी लग गई। अलसुबह से ही शुरू हुआ बारिश का दौरान दोपहर बारह बजे तक चलता रहा। इस दौरान लोग घरों में ही कैद रहे।

अलसुबह से लेकर दोपहर तक बरसे मेघा
धौलपुर. जिले भर में शनिवार को भादौ में सावन की झड़ी सी लग गई। अलसुबह से ही शुरू हुआ बारिश का दौरान दोपहर बारह बजे तक चलता रहा। इस दौरान लोग घरों में ही कैद रहे। दुकानदार व लोग बाजार जाने के लिए बारिश थमने का इंतजार करते रहे। करीब साढ़े नौ बजे कुछ देर बारिश हल्की पड़ी तो लोग बाजारों में दिखाई दिए, लेकिन बाद में फिर तेज हो गई। इस दौरान कभी तेज तो कभी धीमी गति से बारिश होती रही। इससे लोगों को परेशानी हुई। वहीं बारिश के कारण शहर के प्रमुख स्थल जगन चौराहा, हरदेव नगर चौराहा, तलैया आदि स्थानों पर जलभराव हो गया।
सैंपऊ. क्षेत्र में शनिवार को सुबह से ही हुई झमाझम बारिश से लोगों को उमस भरी गर्मी से राहत मिली लेकिन कस्बे के प्रमुख बाजारों, कॉलोनियों व मोहल्लों में जलभराव होने से घरों में पानी घुस जाने से भारी परेशानी से जूझना पड़ा। शहर के नाली और नाले बंद होने से कस्बा में लोगों के घरों में पानी घुस गया जिससे असुविधा हुई। इससे स्थानीय ग्राम पंचायत के खिलाफ लोगों का आक्रोश भी देखा गया। वर्षा से कुछ क्षेत्रों में खरीफ फसल लाभ हुआ है तो कुछ जगह नुकसान भी। उमस भरी गर्मी ने लोगों को बुरा हाल बना हुआ था। क्षेत्र में शनिवार को सुबह से ही आसमान में बादलों की काली घटाएं छाने लगीं और सुबह 9 बजे के बाद हल्की बूंदाबांदी शुरू हुई और कुछ ही देर बाद मूसलाधार बारिश होने लगी जो करीब एक घंटे से अधिक समय तक हुई। कस्बे के नालों की सफाई सही नहीं कराए जाने से बाजार में जलभराव हो गया। इससे लोगों में स्थानीय ग्राम पंचायत प्रशासन के खिलाफ रोष है। उधर किसानों ने बताया कि इस बारिश से लाभ भी है और हानि भी। किसानों का कहना है कि जिले में प्रमुख रूप से खरीफ में बाजरा, दलहन व तिलहन की बुवाई ही होती है। इन में बाजरा और तिली की फसलें लगभग पकाव पर हंै जिन्हें नुकसान की संभावना है। खेतों में जलभराव होने से दानेदार पौधा वजन नहीं झेल सकता है और वह खेतों में ही पसर जाएगा। इससे नुकसान की संभावना दिखाई दे रही है। वहीं उड़द, मूंग व ग्वार अभी पकाव पर नहीं है जिससे इनको फायदा होगा। समीपवर्ती गोपालपुरा गांव की पोखर में उफान आने से आस-पास के घरों में पानी भर गया। ग्रामीणों का आरोप है कि इसके पानी की निकासी के लिए नाले की मंजूरी मिल चुकी है लेकिन गांव के ही कुछ लोग नाले का निर्माण नहीं होने दे रहे हंै।