स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

अब ई-मित्रों पर मिलेगी अस्पताल की रोगी पर्ची

Mahesh Gupta

Publish: Nov 21, 2019 11:32 AM | Updated: Nov 21, 2019 11:32 AM

Dholpur

जिले के सबसे बड़े अस्पताल में रोज दिखाने आने वाले मरीजों और उनके परिजनों के लिए बुधवार का दिन किसी आश्चर्य से कम न था। प्रतिदिन लगभग दौ हजार से ज्यादा मरीज न केवल जिले से बल्कि सीमावर्ती जिलों से भी धौलपुर के जिले अस्पताल में दिखाने आते है।

जिला कलक्टर की पहल पर शुरू हुआ राजस्थान में पहला और अभिनव प्रयोग
धौलपुर. जिले के सबसे बड़े अस्पताल में रोज दिखाने आने वाले मरीजों और उनके परिजनों के लिए बुधवार का दिन किसी आश्चर्य से कम न था। प्रतिदिन लगभग दौ हजार से ज्यादा मरीज न केवल जिले से बल्कि सीमावर्ती जिलों से भी धौलपुर के जिले अस्पताल में दिखाने आते है।
अस्पताल में घुसते ही सबसे पहले उनका सामना एक ऐसी परिस्थिति से होता है। जिसके लिए न तो वो मानसिक रूप से तैयार होते है और न ही शारीरिक रूप से सक्षम। चिकित्सक को दिखाने के लिए पर्ची बनवाने के लिए लाइन में खड़े होकर अपनी बारी का इंतजार करना। इन हालातों का सामना मरीज या उनके साथ आने वाले परिजनों को रोज करना पड़ता है। यह इंतजार मौसमी बीमारियों के समय भीड़ ज्यादा होने से और भी बढ जाता है। अस्पताल में आने वाले वृद्धजन, महिलाओं को भी यही सब सहना पड़ता है। ऐसे ही हालतों को देखने जब जिला कलक्टर राकेश कुमार जायसवाल कुछ दिन पहले अस्पताल पहुंचे तो आने वाले मरीजो ने अपना दर्द बयां किया।
इस पर जिला कलक्टर ने अस्पताल के पी.एम.ओ डॉ. समरवीर सिंह से चर्चा कर इसका कोई समाधान निकाला। इसके बाद अब शहर में 10 जगह पर ई मित्र केन्द्रों पर मरीजों के रजिस्ट्रेशन करने का विचार किया गया। कलक्टर ने लुपिन फाउंडेशन के अधिशासी निदेशक सीताराम गुप्ता ने 10 प्रिंटर उपलब्ध करवाए। कलक्टर ने कहा कि अपने घर के आसपास के ई मित्र केन्द्रों पर जाकर अपनी पर्ची बनवा कर अस्पताल में दिखा पाएंगे। अभियान की शुरुआत बुधवार को जगन तिराहे से की गई है।
शहर में 10 स्थानों पर मिलेगी यह सुविधा
शहर में जगन तिराहे के अलावा, जगदीश तिराहा, गुलाब बाग, ओडेला रोड, सिटी कोतवाली, राजाखेड़ा बायपास, सागर पाडा, पुराना शहर, फूटा दरवाजा चिन्हित किये गए है। इन शहर के विभिन्न स्थानों से अस्पतालों में दिखवाने के लिए पर्ची बनवा सकेंगे। यह पर्ची सात दिवस के लिए मान्य होगी। ई मित्र केन्द्रों का काम प्रभावित न हो इसके लिए पर्ची बनवाने का टाइम भी निर्धारित किया जाएगा। ओर प्रति रेजिस्ट्रेशन एक निर्धारित शुल्क भी उसको दिया जाएगा। इस मौके पर अस्पताल के पी.एम.ओ डॉ. स्मरवीर सिंह, एसीपी बलभद्र सिंह आदि उपस्थित रहे।

[MORE_ADVERTISE1]