स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

शहर में आए दिन लगता है जाम, आखिर कब बनेगा रिंग रोड

mahesh gupta

Publish: Sep 16, 2019 12:45 PM | Updated: Sep 16, 2019 12:45 PM

Dholpur

न से शहरी क्षेत्रों में बढ़ती जनसंख्या व वाहनों की अपेक्षा संकरे रास्तों पर लगने वाले जाम से परेशान लोगों ने अब इसे अपनी दिनचर्या का हिस्सा भले ही मान लिया हो लेकिन जरूरत आज इसके स्थाई समाधान की है। इसके लिए बाड़ी शहर के चारों और रिंगरोड की काफी पुरानी मांग आज के हालात में बलवती होती जा रही है।

12 किलोमीटर व 18 करोड़ की लागत का था अनुमान
4 वर्ष पूर्व भेजा था प्रस्ताव
बाड़ी. मूलभूत सुविधाओं के अभाव में ग्रामीण क्षेत्रों से लगातार हो रहे पलायन से शहरी क्षेत्रों में बढ़ती जनसंख्या व वाहनों की अपेक्षा संकरे रास्तों पर लगने वाले जाम से परेशान लोगों ने अब इसे अपनी दिनचर्या का हिस्सा भले ही मान लिया हो लेकिन जरूरत आज इसके स्थाई समाधान की है। इसके लिए बाड़ी शहर के चारों और रिंगरोड की काफी पुरानी मांग आज के हालात में बलवती होती जा रही है। हालांकि सार्वजनिक निर्माण विभाग के जयपुर मुख्यालय को इस संबंध में प्रस्ताव बनाकर करीब 4 वर्ष पूर्व भेजा गया था। धौलपुर-करौली राष्ट्रीय राजमार्ग 11 बी बनने के बाद अब केवल उत्तर दिशा की ओर के आधे हिस्से के निर्माण की ही आवश्यक्ता है। सार्वजनिक निर्माण विभाग के तत्कालीन अधिशासी अभियंता आरबी मंगल द्वारा 3 जून 2015 को शहर में बढ़ रहे यातायात दबाव की समस्या के समाधान के लिए रिंग रोड का प्रस्ताव मुख्यालय को भेजा था। इसमें धौलपुर-करौली राष्ट्रीय राजमार्ग 11 बी के रूप करीब 5 किलोमीटर के बाईपास का निर्माण पूर्ण हो चुका बताया गया था। इससे जोडऩे के लिए शहर के उत्तरी हिस्से के बसेड़ी व सैपऊ रोड होते हुए धौलपुर रोड तक के शेष भाग पर रिंगरोड के निर्माण का ही प्रस्ताव था। इसकी लंबाई करीब 12 किलोमीटर और निर्माण लागत 18 करोड़ रुपए की अनुमानित बताई गई थी। लोगों का कहना है कि वर्तमान में इस क्षेत्र से विधायक भी सत्तरूड़ दल कांग्रेस से हैं। उनकी मांग है कि विधायक प्रभावी तरीके से विधान सभा में इस मामले को उठाएं और शीघ्र पूरा कराएं।