स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

पुष्य नक्षत्र में खरीदारी के अलावा करें ये 6 काम, मिलेगी सुख-समृद्धि और धन

Tanvi Sharma

Publish: Oct 21, 2019 11:40 AM | Updated: Oct 21, 2019 11:40 AM

Dharma Karma

यह नक्षत्र धन तेरस और चैत्र प्रतिप्रदा के समान शुभ माने जाते हैं, इस दिन करें ये काम

हिंदू धर्म में पुष्य नक्षत्र का बहुत अधिक महत्व है। शास्त्रों के अनुसार इस योग में खरीदारी करना बहुत ही लाभदायी होता है। इस बार पुष्य नक्षत्र 21 अक्टूबर सोमवार शाम से शुरु होकर 22 अक्टूबर मंगलवार शाम तक रहेगा। पंडित रमाकांत मिश्रा के अनुसार सोमवार के दिन सोम पुष्य नक्षत्र है और मंगलवार के दिन भौम पुष्य नक्षत्र, दोनों की नक्षत्र बहुत शुभ माने जा रहे हैं।

 

पढ़ें ये खबर- इस बार चार दिन में मनानें होंगे आठ पर्व, जानें किस दिन कौन सा त्योहार

यह नक्षत्र धन तेरस और चैत्र प्रतिप्रदा के समान शुभ माने जाते हैं, इस दिन करें ये काम

पुष्य नक्षत्र में खरीदारी के अलावा भी कुछ काम ऐसे हैं जो की पुष्य नक्षत्र में करना बहुत शुभ होते हैं। कहा जाता है इस दिन शुभ धातु या संपत्ति खरीदी जाती है। जिससे की मां लक्ष्मी प्रसन्न होती हैं। लेकिन अगर आप खरीदारी किये बिना ही मां लक्ष्मी को प्रसन्न करना चाहते हैं तो पुष्य नक्षत्र में 6 ऐसे शुभ कार्य कर सकते हैं जो की लक्ष्मी, धन-संपत्ति के साथ समृद्धि भी लाएगा।


पढ़ें ये खबर- कार्तिक मास में खा ली ये सब्जी तो तुरंत हो सकते हैं बीमार, करें परहेज

यह नक्षत्र धन तेरस और चैत्र प्रतिप्रदा के समान शुभ माने जाते हैं, इस दिन करें ये काम

इस बार अहोई अष्टमी तिथि के साथ पुष्य नक्षत्र की युति होने से इसका महत्व अधिक बढ़ गया है। शास्त्रों के अनुसार बताया गया है की यह नक्षत्र धन तेरस और चैत्र प्रतिप्रदा के समान शुभ माने जाते हैं। इस दिन करें ये काम

1. इस अतिशुभ नक्षत्र के समय घर में आयी संपत्ति या समृद्धि चिरस्थायी रहती है।
2. यह दिन ज्ञान और विद्याभ्यास के लिए बहुत महत्वपूर्ण और शुभ माना जाता है।
3. इस दिन आध्यात्मिक कार्य किए जाते हैं।
4. मंत्रों, यंत्रों, पूजा, जाप और अनुष्ठान के लिए भी दिन शुभ है।
5. पुष्य नक्षत्र के दिन मां लक्ष्मी की उपासना और श्री यंत्र की खरीदी करके जीवन में ला सकते हैं समृद्धि।
6. अतिशुभ पुष्य नक्षत्र के दौरान हर तरह के धार्मिक और आर्थिक कार्यों किया जा सकते हैं। विवाह छोड़कर सभी कार्य करें।