स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

हर संकट हरेंगे हनुमान, आज जरूर करें ये काम

Devendra Kashyap

Publish: Nov 04, 2019 17:43 PM | Updated: Nov 05, 2019 10:22 AM

Dharma Karma

मंगलवार का संबंध जहां मंगल ग्रह से है, वहीं इसे हनुमान जी का दिन भी कहा जाता है।

मान्यता के अनुसार, मंगलवार का संबंध जहां मंगल ग्रह से है, वहीं इसे हनुमान जी का दिन भी कहा जाता है। इतना ही नहीं मंगल को ऊर्जा का कारक भी माना जाता है। कहा जाता है कि संकट या परेशानी के वक्त मनुष्य की ऊर्जा में हानि होती है।


कहा जाता है कि अगर संकटग्रस्त व्यक्ति मंगलवार के दिन हनुमान जी को प्रसन्न करने के लिए कुछ खास उपाय करे तो कुछ ही समय में उसकी परेशानी दूर हो सकती है और किस्मत भी बदल सकती है।


मंगलवार को जरूर करें ये काम


हनुमान जी के श्री रूप के मस्तक का सिंदूर दाहिने हाथ के अंगुठे से लेकर सीता माता के श्री रूप के श्री चरणों में लगा दें और अपनी मनोकामना पूर्ण करने के लिए प्रार्थना करें।

शनिवार या मंगलवार के दिन सुबह धागे में चार मिर्च नीचे, तीन मिर्च ऊपर और बीच में नींबू पिरोकर घर और व्यवसाय के दरवाजे पर लटका दें। इससे नकारात्मकता समाप्त हो जाती है और सकारात्मकता का संचार होता है।

काले तिल, जौ का आटा और तेल मिला कर आटा गूंथ लें। इस आटे से एक रोटी बना कर उस पर तेल और गुड़ चुपड़ कर जिस को नजर लगी हो उस पर से सात बार उतारकर भैंसे को खिला दें। यह उपाय शनिवार अथवा मंगलवार को ही करें।

अगर छोटा बच्चा अधिक रोता है तो रविवार या मंगलवार के दिन नीलकंठ का पंख लेकर जिस पलंग पर बच्चा सोता है, उसमें लगा दें। शीघ्र ही बच्चे का रोना समाप्त हो जाएगा।

अगर छोटा बच्चा सोते समय डर जाता हो तो मंगलवार या रविवार के दिन फिटकरी का एक टुकड़ा बच्चे के सिरहाने रख दें।

शनिवार के दिन हनुमान जी के मन्दिर में जाएं और उनके श्री रूप के कंधों पर से सिंदूर लाकर नजर लगे व्यक्ति के भाल-प्रदेश पर लगा दें। ऐसा करने से नजर का प्रभाव समाप्त हो जाता है।

मंगलवार को शाम के समय हनुमान जी को केवड़े का इत्र व गुलाब की माला चढ़ाएं। हनुमान जी को खुश करने का यह सबसे सरल उपाय है।

जीवन की समस्त समस्याओं के निवारण के लिए हनुमान जी के मंदिर में जाएं और राम रक्षा स्त्रोत का पाठ करें।

मंगलवार की शाम को हनुमान मंदिर में जाएं और एक सरसों के तेल का और एक शुद्ध घी का दीपक जलाएं, उसके बाद वहीं पर बैठकर हनुमान चालीसा का पाठ करें।

[MORE_ADVERTISE1]