स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

स्वर्ग के सारे देवता 12 नवंबर को एक दिन के लिए यहां आने वाले हैं

Shyam Kishor

Publish: Nov 11, 2019 17:18 PM | Updated: Nov 11, 2019 17:18 PM

Dharma Karma

dev diwali festival kashi varanasi : स्वर्ग के सारे देवता 12 नवंबर को एक दिन के लिए यहां आने वाले हैं

12 नवंबर 2019 दिन मंगलवार को कार्तिक मास की पूर्णिमा तिथि है, इस दिन देव दिवाली मनाई जाएगी। शास्त्रोंक्य मान्यता है कि कार्तिक मास की पूर्णिमा तिथि को स्वर्ग लोक से भगवान शंकर सहित सभी देवी देवता धरती पर देव दिवाली का पर्व मनाने के लिए आते हैं । देवताओं से आशीर्वाद की कामना से हिन्दुस्तान ही नहीं दुनिया भर से लाखों श्रद्धालु भी इस दिन इस पवित्र नगरी में आते हैं। जानें आखिर स्वर्ग के सभी देवी-देवता धरती पर किस जगह आने वाले हैं।

[MORE_ADVERTISE1]स्वर्ग के सारे देवता 12 नवंबर को एक दिन के लिए यहां आने वाले हैं[MORE_ADVERTISE2]

कार्तिक मास की पूर्णिमा तिथि को देव भूमि भारत में गंगा मैया के तट पर काशी नगरी में स्वर्ग लोक से भगवान शंकर के साथ सभी की देवी-देवता देव दिवाली का पर्व मनाने के लिए आते हैं। देव दिवाली का पर्व कार्तिक मास की पूर्णिमा को पुण्य काशी नगरी में गंगा मैया के अर्धचंद्राकार घाटों पर लाखों दीपकों का अद्भुत जगमगाता हुआ प्रकाश से 'देवलोक' के जैसा वातावरण दिखाई देता है। काशी नगरी में हर साल कार्तिक मास की पूर्णिमा तिथि को देश ही दुनिया के कई देशों के श्रद्धालु भी देव दिवाली का पर्व मनाया जाता है।

[MORE_ADVERTISE3]स्वर्ग के सारे देवता 12 नवंबर को एक दिन के लिए यहां आने वाले हैं

भगवान शिव की पवित्र नगरी काशी में लगभग 3 कि.मी. में फैले अर्धचंद्राकार गंगा मैया के घाटों पर लाखों दीपकों की रोशनी से गंगा की धारा में इठलाते-बहते दीपक एक अलौकिक आनंदमय दृश्य दिखाई देता है। शाम होते ही गंगा मैयै के सभी घाट दीपों की रोशनी में जगमगा उठते हैं। कार्तिक पूर्णिमा के दिन शाम के समय सायंकाल गंगा पूजन के बाद काशी के 80 से अधिक घाट दीपकों के दिव्य प्रकाश ऐसा दिखाई देता है मानों ये दीपकों का प्रकाश नहीं बल्कि स्वर्ग के देवी-देवताओं का दिव्य आभा प्रकाश अपनी रोशनी फैला रहे हो।

स्वर्ग के सारे देवता 12 नवंबर को एक दिन के लिए यहां आने वाले हैं

इस दिन गंगा घाटों के अलावा गंगा किनारे बने मंदिर, भवन सभी प्रकाश से जगमगाते हैं। आकाश की ओर उठती दीपों की लौ यानी आकाशदीप के माध्यम से देवाराधन और पितरों की अभ्यर्थना तथा मुक्ति-कामना की यह बनारसी पद्धति है मानी जाती है। शंकराचार्य की प्रेरणा से प्रारंभ किया गया दीप-महोत्सव पहले केवल पंचगंगा घाट की शोभा थी, लेकिन अब काशी के सभी घाटों पर मनाया जाता है। विश्वास-आस्था और उत्सव के इस दृश्य को आंखों में भर लेने के लिए देश-विदेश से लाखों श्रद्धालु देव दिवाली मनाने के लिए कार्तिक पूर्णिमा के दिन काशी नगरी में आकर अपनी कामनाएं पूरी करते हैं।

********************

स्वर्ग के सारे देवता 12 नवंबर को एक दिन के लिए यहां आने वाले हैं