स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

बिजली चोरों के कारण चली जाती दो लोगों की जान

atul porwal

Publish: Sep 19, 2019 11:09 AM | Updated: Sep 19, 2019 11:09 AM

Dhar

बिजली के खंबे लगाने वालों को लगा करंट, दो गंभीर घायल

धार.
आईपीडीएस योजना के तहत बिजली के नए खंबे लगाने वाली यूबीटेक कंपनी के कामगारों को करंट लग गया। घटना मांडव रोड पर गुलाब चक्कर के पास बुधवार दोपहर को घटी, जब बिजली का खंबा खड़ा करते वक्त कर्मचरियों को करंट लग गया। घटना में घायल दो गंभीर कर्मचारियों को तत्काल जिला अस्पताल लाया गया, जिन्हें भर्ती कर लिया गया। करंट लगने का कारण जमीन पर बिजली का खुला तार पड़ा होना बताया जा रहा है, जो पास में लगे ट्रांसफार्मर से बिजली चोरी के लिए लगाया गया था। नजर नहीं आने की स्थिति में घास के नीचे दबा करंट से भरा खुला तार लोगों की जान के साथ खिलवाड़ कर सकता था। करंट लगने से खंडवा जिले के पुनासा गांव के प्रदीप (१९)पिता तुलसीराम तथा बुरहानपुर का पूनमचंद पिता बाबू सिंह गंभीर घायल हैं, जिन्हें जिला अस्पताल में भर्ती किया गया।
इधर ठेकेदार कंपनी यूबी टेक के प्रोजेक्टर मैनेजर विनय पांडे के अनुसार काम करने वाले कर्मचारियों के मुताबिक जहां पोल खड़ा कर रहे थे, वहां जमीन पर उगी घास के नीचे बिजली का तार खुला पड़ा था। पांडे के अनुसार बुधवार को पोल खड़े करने के लिए ५ कम्रचारी काम कर रहे थे, जिनमें से दो को ज्यादा करंट लगा। कीचड़ में लथपथ कर्मचारियों को जिला अस्पताल लाया गया, जिनमें से दो गंभीर को भर्ती कर लिया गया। इधर घायल हुए कर्मचारियों के साथियों ने बिजली कंपनी के लाइन मेन को जमकर कोसा। उनका कहना था कि कागज में लिखा है कि जब वे काम करें तो उनके साथ लाइनमेन होना जरूरी है, जबकि घटना के समय वो था ही नहीं। जबकि लाइन मेन महेश यादव का कहना है कि उसे बताए बगैर ठेकेदार कंपनी के कर्मचारी काम करने चले गए। इसमें उसकी कोई गलती नहीं। इधर बिजली कंपनी के जेई गोकुल चौहान ने यह कहते हुए पल्ला झाड़ लिया कि निजी कंपनी का मामला है उनसे ही बात करो।