स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

लडक़ी वालों को शादी में रुपए देने के लिए ये लोग डालते हैं डकैतियां, मजदूर बनकर करते हैं रेकी

Reena Sharma

Publish: Dec 07, 2019 16:30 PM | Updated: Dec 07, 2019 16:30 PM

Dhar

बोरडाबरा गैंग की हकीकत

  • 23 से 30 वर्ष की हैं डकैती डालने वालों की उम्र
  • डकैती के दौरान हिंसा करने से भी नहीं डरते

धार. जिले की कुख्यात बोरडाबरा की गैंग का आतंक जिला सहित प्रदेश के कई हिस्सों में है। गिरोह के सदस्य डकैती के पहले मजदूर बनकर रेकी करते हैं। वहीं डकैती के दौरान हिंसा करने से भी नहीं कतराते हैं। गैंग के सदस्य आधुनिक व पारंपरिक हथियारों से लैस हैं। जो गैंग पकड़ी है, उसमें अधिकांश 23 से 30 वर्ष के युवा है, जो शादी में लडक़ी वालों को पैसा देने के लिए डकैती डाल रहे हैं। पैसा देने के बाद ही इनकी शादी हो पाती है। जिले सहित अन्य जिलों व राज्यों में चोरी करने वाले इस गिरोह को पकडऩे के लिए क्राइम ब्रांच और जिले की अलग-अलगे थानों की पुलिस को करीब दो माह तक मेहनत करना पड़ी।

must read : आज ही के दिन इंदौर में लैंड हुआ था पहला प्लेन, जेआरडी टाटा लेकर आए थे विमान

इस दौरान उन्होंने ग्रामीणों क्षेत्रों में जाकर वहां के लोगों को विश्वास में लिया और उनसे सूचना मिलते ही एक के बाद एक कड़ी को जोडक़र इस गिरोह को पकडऩे में सफलता हासिल की है। बुधवार को बोरडाबरा की गैंग का खुलासा करने के बाद पुलिस ने 14 सदस्यों को कोर्ट में पेश किया और यहां से इनका रिमांड मांगा। पुलिस और क्राइम ब्रांच ने जब सदस्यों से पूछताछ की तो कई बात भी इस दौरान उन्होंने बताई।

must read : VIDEO : ई-रिक्शा में बैठकर मंच तक पहुंचे सीएम कमल नाथ, महिलाओं को सौंपी चाबी

मिलती थी सूचना, फिर करते थे डकैती
पूछताछ में बात यह भी सामने आई कि धार व अन्य जिलों में भी इनके परिचित मजदूरी के दौरान रेकी करते थे और घर की भौगोलिक स्थिति का पता भी लगाते थे। फिर गैंग को सूचना देते थे। सूचना मिलते ही सदस्य इन्हीं परिजन के घर सुबह से आ जाते व रात को डकैती करते थे। वारदात के बाद गैंग निकल जाता था व मामला शांत पर डकैती की राशि-जेवरात आपस में बांटते थे। एक हिस्सा सूचना देने वाले अपने परिचित को भी देते थे।

must read : एक रुपए यूनिट बिजली देने में इंदौर नंबर-1, दूसरे और तीसरे स्थान पर हैं ये शहर

खंडवा में पकड़ाया था पिकअप वाहन
पूछताछ में पता चला कि इनके पास एक पिकअप वाहन भी थी। घटना के समय इसका इस्तेमाल करते थे। खंडवा में इस वाहन को पुलिस ने जब्त कर लिया था। इस दौरान कुछ सदस्य खंडवा पुलिस ने भी पकड़े थे। बाद छूट गए। इसके बाद एक बोलेरो चोरी किया। इस बोलेरो में मप्र शासन का स्टीकर लगा था। बताया जा रहा था कि यह वाहन पहले जिला प्रशासन में अटैच था। इसके साथ ही इसका अनुबंध भी समाप्त हो गया था। इसके बावजूद वाहन पर स्टीकर नहीं निकला था।

[MORE_ADVERTISE1]