स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

डायरी में रहता है अवैध शराब के कारोबार का रिकार्ड

Amit S mandloi

Publish: Sep 22, 2019 12:08 PM | Updated: Sep 22, 2019 12:08 PM

Dhar

डायरी में रहता है अवैध शराब के कारोबार का रिकार्ड


- ग्रामीण क्षेत्रों में छुटभैये नेता बने पार्टनर,जिससे पकड़ में नहीं आ रहे है वाहन
धार.
शहर के चार पहिया वाहनों में जमकर अवैध शराब गांव-गांव पहुंचाई जा रही है। गांव-गांव में शराब पहुंचाकर चंद पैसों के लालच में ये लोग युवा पीढ़ी को बर्बाद कर रहे है। उधर दिन दहाडे गाडियां भराने के बाद भी आबकारी अमला नींद में सो रहा है।
नगर की शराब दुकानें खुलते ही चार पहिया वाहनों में शराब भरी जाती है। ये शराब के वाहन आसपास के गांवों में दिन में कई बार जाकर शराब परोस रहे है। दरअसल ये जिस रूट पर चलते है, वहां के छुटभैये नेता इनके पार्टनर बन जाते है। जिसके चलते गांवों में खुलेआम छोटी-छोटी दुकानों पर आसानी से शराब पहुंच रही है। ये नेता ठेकेदार के साथ सांठगांठ कर लेते है, जिसके चलते ये वाहनों को रोकते नहीं है।
बकायदा मेंटेंन होती है डायरी
वाहन जब शराब भरकर चलते है। उसमें दो पहलवान जैसे लोग मौजूद रहते है। जिन्हें देखकर ही कोई सामान्य व्यक्ति गाडी रोकने की हिम्मत नहीं करता है। वहीं इस कारोबार में वर्षों से कई हिस्ट्रीशीटर भी जुड गए है, जो वारे-न्यारे हो चुके है। गाडी में शराब परिवहन करने वाले युवक के हाथ में एक रजिस्टर होता है। जिसमें बकायदा किस दुकान पर कितनी शराब दी जारही है, इसका लेखा जोखा रहता है। वहीं दुकानों को उधारी की सुविधा भी दी जाती है। ये सारी बातें आबकारी अमले को पता है, लेकिन ये जानकर भी अनजान बने हुए है।
बात नहीं बनी तो रोक लेते है वाहन
अवैध शराब का कारोबार करने वाले नेताओं को सेट कर लेते है। पहले नेता शराब की गाडियां पकड़कर वाहवाही लूटते है।बाद में हाथ मिल जाने पर पलटकर देखते नहीं है कि गांव में गाडी आई है। गाडी आने पर ये भी आंखें मूंद लेते है।