स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

विद्यालयीन पत्रिकाएं विद्यालय की विशिष्ट पहचान होती है- व्यास

sarvagya purohit

Publish: Jul 19, 2019 11:06 AM | Updated: Jul 19, 2019 11:06 AM

Dhar

विद्यालयीन पत्रिकाएं विद्यालय की विशिष्ट पहचान होती है- व्यास


धार.
विद्यालयीन पत्रिकाएं विद्यालय की विशिष्ट पहचान होती है। इससे छात्रों का सर्वागींण विकास होता है। ऐसी स्वस्थ परंपरा जिले के ओर विद्यालयों में भी होना चाहिए। उक्त बात मुख्य अतिथि शिक्षा विभाग सहायक संचालक मंगलेश व्यास ने कही।
गुरुवार को स्थानीय शासकीय उत्कृष्ट स्कूल की शालेय पत्रिका अभिव्यक्ति के ३९ वें अंक का विमोचन किया गया। कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहे शिक्षाविद् जंयत जोशी ने बताया कि शालेय पत्रिकाओं के प्रकाशन से विद्यार्थियों को विचारों को व्यक्त करने का एक मंच मिलता है। यही से विद्यार्थियों की रचनाधर्मिता को निखरने का अवसर भी प्राप्त होता है। समारोह में विशेष अतिथि प्राचार्य विजयकुमार मालवीया, प्राचार्य दिनेश दुबे एवं अतिरिक्त जिला परियोजना समन्वयक केशव शर्मा थे। संचालन श्याम शर्मा ने किया। आभार डॉ श्रीकांत द्विेदी ने माना।

----------

नर्मदा पुराण कथा कलश यात्रा के साथ शुरु
धामनोद.
गुलझरा के हनुमान मंदिर परिसर में स्थित नर्मदा परिक्रमा धर्मशाला में होने वाली नर्मदा पुराण कथा का शुभारंभ कलश यात्रा के साथ शुरू हुआ। कलश यात्रा इंदिरा नगर में स्थित सिंगाजी मंदिर से शुरू होकर कथा स्थल पहुंची। कलश यात्रा का कई स्थानों पर पुष्प वर्षा से स्वागत किया गया। कलश यात्रा में मां नर्मदा की झांकी भी बनाई गई थी। कलश यात्रा में मुख्य यजमान अजय बाबूलाल पटेल सपत्नीक नर्मदा पुराण सिर पर रखकर चल रहे थे। कथा प्रतिदिन 12 से 4 बजे तक होगी। प्रथम दिन मां नर्मदा के उद्गम का बखान कथावाचक पंडित भरत बिल्लोरे के मुखारविंद से विस्तारपूर्वक पूर्वक बताया गया। कथा का समापन 24 जुलाई को होगा।