स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

सरदार सरोवर का पानी गांवों में घुसने लगा

Amit S mandloi

Publish: Aug 18, 2019 11:49 AM | Updated: Aug 18, 2019 11:49 AM

Dhar

मौके पर पहुंचे प्रशासनिक अधिकारी

मनावर.
सरदार सरोवर बांध का बैक वाटर मनावर क्षेत्र के गांव में घुसने लग गया है । 17 अगस्त को 132 मीटर तक जलस्तर भरने से मनावर तहसील के गोपालपुरा जहूर ,गांगली ,कवठी,
अछोदा , सेमल्दा के नर्मदा तट के पास की बस्तियों में पानी घुसने लगा है । लगातार बढ़ रहे जलस्तर को देखते हुए प्रशासन ने पूरी तैयारी कर रखी है।

डूब क्षेत्र में तैनात सभी प्रशासनिक अधिकारियों के दल द्वारा पानी घुस रहे उक्त ग्रामों की बस्तियों में रह रहे लोगों को हटने के लिए प्रेरित किया जा रहा है । वैसे लगभग लगभग डूब प्रभावित पुनर्वास स्थलों पर अथवा अन्य स्थानों पर अपने रहने की व्यवस्थाएं कर ली बताई जा रही है । इस मामले में एसडीएम सत्यनारायण दर्रा ने बताया कि लगभग डूब प्रभावित ग्रामों के डूबने वाले मकान के रहवासी पुनर्वास स्थलों पर शिफ्ट हो चुके हैं इनमें से मछुआरे परिवार के लोग नर्मदा के पास में अपने पुराने आशियाना में रुके हैं । उन्हें वहां से जैसे ही पानी घरों में आएगा। वह वहां से स्वयं हटेंगे अथवा उन्हें हटाया जाएगा डूब प्रभावित ग्राम गोपालपुरा में सिर्फ चार परिवार तथा कुछ परिवार कवठी में रह रहे हैं वैसे यह लोग स्थाई रूप से पुनर्वास स्थलों पर ही रहते हैं दिन में यह सब पुराने मूल गांव के घरों में अगर रह रहे हैं इन्हें समझाइश देकर हटाया जा रहा है ग्राम सेमल्दा अछोदा के डूब क्षेत्र पर निगरानी कर रहे दल प्रमुख अजय मुवेल ने बताया कि अछोदा ग्राम के 25 डूब परिवारों में से 16 परिवार पुनर्वास स्थलों पर शिफ्ट हो गए हैं तथा 8 बचे परिवारों के पुनर्वास स्थलों पर मकान के कार्य प्रगति पर है। वहीं ग्राम सेमल्दा के भी प्रभावित 90 परिवारों में से 46 परिवार पुनर्वास स्थल पर चले गए हैं । शेष लोग अभी डूब स्थलों पर रहे हैं।

उन्हें समझाईश दी जा रही है कि वह पुनर्वास स्थल पर आ जाएं । 21 अगस्त तक जलस्तर 134 मीटर तक पहुंच जाएगा ऐसी स्थिति में बैक वाटर इन स्थानों पर पहुंच जाएगा।

कोटेश्वर तीर्थ के सभी घाट हुए जलमग्न
कोटेश्वर .
तीर्थ के सभी घाट जलमग्न हो गए है। बढ़ते जलस्तर से प्रसिद्ध तीर्थ कोटेश्वर के सभी घाट शनिवार को जलमग्न हो गए । वहीं श्री श्री 1008 श्री कमलदास जी महाराज के आश्रम की ओर भी बैक वाटर का पानी पहुंच गया है । कोटेश्वर में हजारों श्रद्धालु प्रतिदिन स्नान पूजन अर्चन के लिए पहुंचते हैं लेकिन बैक वाटर का पानी कोटेश्वर से 1 किलोमीटर पहले नाले में से रोड पर आ जाने के कारण मार्ग पूरी तरह कोटेश्वर जाने के लिए बंद हो गया है । जिससे श्रद्धालु अब कोटेश्वर नहीं पहुंच पा रहे हैं।