स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

लाल मिर्च नीलामी प्रक्रिया से असंतुष्ट किसानों ने कर दिया चक्काजाम

Binod Singh

Publish: Nov 06, 2019 00:45 AM | Updated: Nov 06, 2019 00:45 AM

Dhar

कुक्षी मंडी में सुबह अनाज खरीदी तो दोपहर बाद लाल मिर्च नीलामी प्रक्रिया से किसानों ने हंगामा किया

कुक्षी.कृषि उपज मंडी मे मंगलवार को दो बार किसानों ने हंगामा कर दिया एक सुबह और दूसरी बार दोपहर को तो किसानों ने ***** जाम ही कर दिया। मंगलवार दोपहर को कुक्षी की मिर्ची मंडी में किसानों ने मिर्ची नीलामी प्रक्रिया से असंतुष्ट होकर ***** जाम कर दिया ।तकरीबन एक घंटे तक लगे जाम में लोग परेशान होते रहे। इस दौरान पुलिस भी मौके ओर पहुंच गई थी। किसानों की मांग थी कि नीलामी की बजाए खुली प्रक्रिया से मिर्ची की खरीद बिक्री की जाए।
इस मामले से व्यापारी भी सहमत दिखाई दिए , परंतु मंडी सचिव मानने को तैयार नहीं होने के चलते लगातार व्यापारी किसान और मंडी सचिव के बीच बातचीत होती रही । इस दौरान किसान आक्रोशित भी दिखाई दिए। सुबह से शुरू हुई मंडी में मिर्ची नीलामी शाम तक चलती रही कापसी के किसान विनोद रामाजी, जगदीश भायल देशवाल्या ने बताया कि वे दोनों बीती रात से यहां अपनी मिर्ची के वाहन लेकर आए थे, परंतु दूसरे दिन मंगलवार की शाम को 4 बजे तक भी नीलामी नहीं हो सकी। इसी तरह अन्य जगह के किसानों ने भी अपनी इस व्यथा को बताया। सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि इस मंडी में मिर्ची की खरीदी के लिए बीते वर्ष गुजरात महाराष्ट्र और राजस्थान के साथ मध्यप्रदेश के दूर-दूर से भी व्यापारी लाल मिर्च की खरीदी करने के लिए आते थे, परंतु जब से मंडी में बोली लगाए जाना शुरू हुआ तब से बिना लाइसेंस धारी व्यापारी मंडी में आना बंद हो गए ।
व्यापारियों का कहना है कि बिना बोली के भी व्यापार वहीं हो सकता है जो बोली लगाकर होता है। वहीं किसान दिन भर भूखे रहने के बाद शाम तक अपने नंबर का इंतजार करते हुए जब अपनी उपज का कम मूल्य देखते आने पर भड़क गए और आक्रोशित होकर चक्काजाम करने पर उतारू हो गए।
यहां मंडी में मंगलवार को कोई पंद्रह सौ क्विंटल से अधिक मिर्ची बिक्री के लिए आई, इसमें ज्वाला 12 नंबर ,सानिया 720 किस्म की मिर्ची आ रही है । मंगलवार को मंडी में 14 हजार 600 रुपए अधिकतम भाव रहे वहीं न्यूनतम भाव 15 सौ रुपए जबकि अब तक मंडी में 16 हजार रुपए तक मिर्ची के भाव किसान को मिल चुके हैं।
किसानों ने शाम को खुली नीलामी प्रक्रिया रोकने को लेकर एक आवेदन मंडी सचिव मंडलोई को दिया और मांग की कि लाल मिर्च के नीलामी प्रक्रिया को खुली की जाए।

[MORE_ADVERTISE1]