स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

ना परमिट ना जमा किया टैक्स फिर भी दौड़ रही थी बस

atul porwal

Publish: Sep 20, 2019 12:10 PM | Updated: Sep 20, 2019 12:10 PM

Dhar

आरटीओ ने बस स्टैंड से पकड़ी दो बसें, कार्रवाई देख फरार हो गई दो बसें

धार.
ना तो टैक्स जमा किया और ना ही रूट का परमिट। बावजूद इसके काफी समय से बस सडक़ों पर दौड़ लगाती रही। गुरुवार को आरटीओ ने जब बस स्टैंड पर कार्रवाई के दौरान बसों की जांच की तो दो बसों के फिटनेस भी नहीं मिले। इस पर कार्रवाई करते हुए आरटीओ ने दो बसों को जप्ती में लेकर थोन पर खड़ी करवा दी। जबकि आरटीओ की कार्रवाई देखते हुए दो बसें मौके से फरार हो गई, जिन्हें दबोचने के लिए आरटीओ ने उनके पीछे गाड़ी दौड़ाई। हालांकि कार्रवाई के दौरान बस स्टैंड पर और भी परमिट वाली कई खटारा बसें खड़ी थी, लेकिन अफसर की उन पर नजर नहीं पड़ी।
गौरतलब है कि पूरी बारिश सडक़ों पर दौड़ती रही खटारा बसों पर अब तक किसी की नजर नहीं पड़ी, जबकि गुरुवार को आरटीओ विक्रमसिंह कंग ने बस स्टैंड पर कार्रवाई के दौरान दो बसें जप्त की। सबसे पहले बस एमपी-11-E-5677 पकड़ में आई, जो धार से दौलतपुर के रूट पर चलती है। इसके कागज जांचे तो मई 2018 के बाद से ही इसका टैक्स बकाया है। जबकि 21 अगस्त 2017 के बाद इसका फिटनेस भी कराया गया। इसके अलावा गाड़ी का परमिट भी नहीं था, जिस पर आरटीओ ने इसक पंचनामा बनाकर इसे जप्ती में लिया। इसके अलावा एक और बस के आगे नंबर प्लेट नहीं मिली, जिसके पीछे लगी आधी मिटी नंबर प्लेट से उसकी जांच की गई। हालांकि इसके ड्रायवर के पास बस के कोई कागज नहीं थे और ना ही बस की कंडिशन फिटनेस जैसी लगी तो इसे भी जप्त कर थोन पर खड़ा कर दिया।

ड्रायवर के पास लायसेंस ही नहीं
बसे के कागज पूछने पर ड्रायवर महेंद्र पिता शांतिलाल कुछ नहीं बता सका जबकि उसके पास लायसेंस भी नहीं मिला। इस पर आरटीओ कंग ने उसे जमकर लताड़ लगाई। बस की हालत काफी खराब थी, जिसके कांच भी टेप से अटका रखे थे। ऐसे में बारिश के दिनों में इसकी हालत का अंदाजा लगाया जा सकता है।

दौड़ लगाकर पकड़ी बस पर 6 हजार का जूर्माना
कार्रवाई के दौरान भागी बस एमपी-45-P-०१०२ को पकडऩे के लिए आरटीओ कंग ने गाड़ी से दौड़ लगाई। कागज की जांच की तो इसका फिटनेस और प्रदूषण नियंत्रण प्रमाण पत्र नहीं मिला। बस पर 6 हजार का जूर्माना किया गया। हालांकि इसी के साथ एक और बस एमपी-45-P-0799 भी भाग निकली, जिसका आरटीओ को पता भी नहीं चल सका।

काफी टैक्स बाकी है
कार्रवाई के दौरान जिन बसों को जप्त किया गया उन पर लगभग 4 लाख रुपए का टैक्स बाकि है। दोनों के पास ना तो परमिट मिला और ना ही इनका फिटनेस था। दोनों बसों को जप्त कर लिया गया है, जिन पर सख्त कार्रवाई होगी। किस बस की क्या हालत है इसके लिए लगातार जांच पड़ताल कर कार्रवाई चलती रहेगी।
-विक्रमसिंह कंग, अतिरिक्त क्षेत्रीय परिवहन अधिकारी