स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

लगातार बारिश से मेला प्रांगण में फैला कीचड़

sarvagya purohit

Publish: Sep 23, 2019 11:00 AM | Updated: Sep 23, 2019 11:00 AM

Dhar


लगातार बारिश से मेला प्रांगण में फैला कीचड़


-६ दिन में कैसे सुधार होगा नवरात्र में देवीजी मंदिर पर लगेगा भक्तों का तांता

पत्रिका ग्राउंड रिपोर्ट
धार.
आगामी २९ सितंबर से नौ दिवसीय शारदीय नवरात्री शुरू होने जा रही है। वहीं देवीजी मंदिर पर अभी नगर पालिका द्वारा अभी तक कुछ काम नहीं किया गया है। देवीजी मंदिर में 9 दिवसीय मेले का भी आयोजन किया जाएगा। ६ दिन के कम समय में मेले ग्राउंड को तैयारी करने के लिए किसी भी प्रकार का कुछ कार्य नपा द्वारा शुरू नहीं किया गया है। ६ दिन बाद प्रारंभ होने वाले शारदीय नवरात्र मेले को लेकर चिंता होने लगी है। बारिश का दौर यदि नहीं थमा तो मेले की व्यवस्था बिगड़ सकती है। नगर पालिका द्वारा मेले में कौनसी सांस्कृतिक गतिविधियां संचालित होगी यह भी अभी नहीं पता है। इतने कम समय कैसे तैयारी होगी यह तो समझ से परे नजर आ रहा है।
बारिश में यदि देवीसागर तालाब फिर से ओवर फ्लो होता है तो मेला भी प्रभावित होगा। बताया जा रहा है कि मेला प्रांगण का नक्शा देखकर 300 दुकानें लगने की व्यवस्था की गई है। २९ सितंबर तक आवेदन और दुकान शुल्क जमा करवाया जा सकता है। इस दौरान बड़े झूले और मनोरंजन के स्थल पर कीचड़ गंदगी की संभावनाओं के चलते मुरम बिछाने की भी चर्चा की गई है। इसी के साथ आगामी दिनों में होने वाली पीआईसी बैठक में मेले और सांस्कृतिक आयोजन से संबंधित सभी जरूरी निर्णय प्रस्ताव के रूप में रखने के लिए बात हुई।
सर्वे में लगा अमला
मेले में 40 से ५० हजार लोग धार एवं आसापास के क्षेत्रों से दर्शन के लिए आते है। अंतिम चौराहे के दोनों ओर से भक्तगणों का नौ दिन तक आना लगा रहता है। इसके चलते यहां पर प्रकाश की स्थाई पर्याप्त व्यवस्था भी नहीं है। ६ दिन बाद मेला शुरु होने वाला है। ऐसी स्थिति में भी निकाय के अधिकांश कर्मचारी विभिन्न प्रकार के सर्वे में लगा दिए गए है। मेला स्थल पर काम करवाने के लिए आऊट सोर्स के कर्मचारियों के भरोसे होना पड़ रहा है। इधर अभी तक सांस्कृतिक कार्यक्रम तय नहीं हो पाए है। उल्लेखनीय है कि पिछली परिषद ने कार्यकाल के अंतिम साल में नवरात्र मेले पर ३५ से ४० लाख रुपए खर्च किए थे। इधर शासन वित्तीय संकट से जूझ रहा है। ऐसे में कांग्रेस काबिज नगर पालिका परिषद राशि खर्च को लेकर किस तरह के कदम उठाती है यह भी देखना होगा।
रोड भी खराब
हटवाड़ा से लेकर नित्यानंद आश्रम तक का मार्ग सीमेंट क्रांकीट का बना हुआ, लेकिन देवीजी सागर तालाब से लेकर देवीजी मंदिर तक पहुंच मार्ग में बड़े-बड़े गड्ढे हो गई है। वहीं तिरला से आने वाले मार्ग की बात करें तो भक्तांबर से लेकर देवीजी मंदिर तक भी कई बड़े गड्ढे हो गए है। अभी इन दोनों मार्ग के सुधार का कार्य नहीं किया गया है, जिसके चलते यहां पर लोगों को बड़ी मशक्कत के साथ दर्शन के नवरात्री में आना पड़ेगा। इस ओर किसी भी जिम्मेदार अधिकारियों का ध्यान नहीं है।