स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

विधानसभावार भाजपा ने किया धरना प्रदर्शन

sarvagya purohit

Publish: Sep 21, 2019 10:58 AM | Updated: Sep 21, 2019 10:58 AM

Dhar


विधानसभावार भाजपा ने किया धरना प्रदर्शन


धार.
अतिवृष्टि के कारण किसानों की फसलों को भारी नुकसान के बाद प्रदेश की कमलनाथ सरकार का रवैया किसानों और लोगों के प्रति उदासीन होने के कारण भारतीय जनता पार्टी द्वारा जिले के सभी विधानसभा मुख्यालय पर धरना प्रदर्शन किया गया। धरना प्रदर्शन मे राज्य सरकार द्वारा सर्वे कराकर शीघ्र मुआवजा राशि दिए जाने के साथ ही राज्य में बिजली एवं सड़क व्यवस्था चौपट होने के बाबद राज्य सरकार को जगाने के लिए इस आंदोलन की को जरूरी बताया।स भी विधानसभा मुख्यालय पर धरना देकर राज्यपाल के नाम 21 सूत्री मांगों का ज्ञापन सौंपें गए।
शुक्रवार को धार विधानसभा क्षेत्र का धरना प्रदर्शन स्थानीय अभिव्यक्ति स्थल त्रिमूर्ति नगर पर विधायक नीना वर्मा के नेतृत्व में किया गया। इस दौरान पूर्व केंद्रीय मंत्री विक्रम वर्मा भी विशेष रुप से शामिल हुए। यहां अपर कलेक्टर शैलेंद्रसिंह सोलंकी को विधायक नीना वर्मा द्वारा ज्ञापन सौंपकर किसानों के हितार्थ अभिलंब कार्रवाई की मांग की। इसी प्रकार बदनावर में पूर्व भाजपा जिला अध्यक्ष विनोद शर्मा, मनावर में पूर्व विधायक रंजना बघेल, धरमपुरी में युवा नेता गोपाल कन्नौज, सरदारपुर में पूर्व विधायक करणसिंह पंवार व संजय बघेल, गंधवानी में पूर्व सांसद सावित्री ठाकुर व सरदारसिंह मेड़ा तथा कुक्षी सांसद छतरसिंह दरबार व वीरेंद्रसिंह बघेल के नेतृत्व में धरना आंदोलन किया गया।
कांग्रेस सरकार कर रही जनता के हितों की अनदेखी-वर्मा
प्रदेश की कांग्रेस सरकार एक ऐसी गूंगी-बहरी सरकार है जिसे जनता के हितों से कोई लेना-देना नहीं है। पूरे प्रदेश में अतिवृष्टि से जनता और किसान परेशान है, लेकिन कहीं भी सरकार और प्रशासन की मौजूदगी नहीं दिखाई देती है। सरकार का एक भी नुमाइंदा ऐसा नहीं है जिसने बाढ़ पीडितों के बीच पहुंचकर उन्हें संबल देने का काम किया हो।किसानों का हमदर्द बनकर सत्ता में आई कांग्रेस का जनता के दुख-दर्द से कोई लेना.देना नहीं है। इस दौरान पूर्व केंद्रीय मंत्री विक्रम वर्मा ने कहा कि मध्य प्रदेश के कमलनाथ सरकार हर मोर्चे पर विफल हो चुकी है। कांग्रेस ने अपने वचन पत्र को भी नहीं निभाया है प्रदेश की जनता व किसान समस्याओं से जूझ रहे हैं। किसानों फसल बर्बाद हो चुकी है बाढ़ के अतिरिक्त सोयाबीन की फसल अवकलन का शिकार हुई है फसलों में कीट व्याधि से भी नुकसान हुआ है सभी फसलों को शतप्रतिशत नुकसान मानकर किसानों को प्रति हेक्टर रुपए 40000 की मुआवजा राशि दी जावे ताकि किसान रवि की फसल में जुड़ सकें। इस दौरान पूर्व जिलाध्यक्ष प्रभु राठौर व दिलीप पटोदिया, श्याम नायक, शरद विजयवर्गी अन्य कार्यकर्तागण मौजूद थे। संचालन पार्षद विपिन राठौर ने किया।