स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

मेरे ससुराल वालों में मेरे बेटे को देखने नहीं दिया

sarvagya purohit

Publish: Jul 20, 2019 11:01 AM | Updated: Jul 20, 2019 11:01 AM

Dhar


मेरे ससुराल वालों में मेरे बेटे को देखने नहीं दिया


पत्रिका लाईव
धार.
मेरे ससुराल वालों में मेरे बेटे को देखने नहीं दिया और उसे श्मशान में दफनाके आ गए, दो साल से मेरे ससुराल वाले मेरे साथ मारपीट करते थेे, मैंने रिपोर्ट इसलिए नहीं लिखाई क्योंकि मैं नहीं चाहती थी कि घर टूटे। कुछ इसी तरह की शिकायत एक महिला ने एडिशनल एसपी को की।
शुक्रवार को एसपी कार्यालय में एडिशनल एसपी रुपेशकुमार द्विेदी से मिलने के लिए पूजा परमार व उसके परिजन शिकालय लेकर पहुंचे। यहां पर पूजा ने एडिशनल एसपी द्विेदी को बताया कि मेरे पति राहुल सेन, मेरे ससुर गोपाल और मेरी सास विवाह के बाद से ही मुझे दहेज कम लाने की बात को लेकर मारपीट करते रहते थे। महाजन हॉस्पिटल धार में छह माह मे ही डिलेवरी हुई, जिसमें एक पुत्र को मैंने जन्म दिया था। बच्चा कमजोर होने से उसका इलाज चला और महाजन से बच्चे को इंदौर रैफर कर दिया, जिसे मेरे ससुराल वाले ले गए। इंदौर में इलाज के कुछ समय बाद धार के जिला चिकित्सालय लेकर आए और यहां पर आईसीयू में भर्ती किया। १९ जलुाई शुक्रवार को मेरे बच्चे की मृत्यु हो गई। मेरे ससुराल वाले मेरे पति राहुल, सास पुनी बाई व ससुर गोपाल आए और बच्चे की लाश को अस्पताल से लेकर चले गए और उसे जमीन में गाड़ दिया। मुझे मेरे बच्चे को देखने भी दिया। मेरा निवेदन है कि मेरे पति राहुल, ससुर गोपाल और सास पुनी बाई को तत्काल गिरफ्तार किया जाए। एडिशनल एसपी द्विेदी ने महिला की बात सुनी और तुरंत कोतवाली थाने पर फोन लगाकर मामला दर्ज करने की बात कही।