स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

ऐप से यह युवक बन जाता था SP, DM और MLA, इनके असली नंबरों से फोन कर करवाए चाचा-बहन के काम

Muneshwar Kumar

Publish: Oct 12, 2019 13:41 PM | Updated: Oct 12, 2019 13:41 PM

Dhar

बड़े अफसरों और नेताओं के शासकीय नंबर से छोटे अधिकारियों को कॉल कर निकलवाता था अपना काम


धार/ किसी भी अधिकारी के फोन पर उसके बड़े अफसर का कॉल आए और उधर से कोई सिफारिश की जाए तो कैसे नहीं किसी का कोई काम करेगा। पुलिस के कब्जे में खड़ा यह युवक एक ऐप से कभी एसपी, कभी डीएम तो कभी विधायक बन सरकारी अधिकारियों को इन बड़े लोगों के असली नंबर से कॉल करता था। और उनसे चाचा, बहन या फिर किसी और के लिए सिफारिश करता कि इनका काम कर दो।

लेकिन एक दारोगा की सजगता की वजह से इसकी कलई खुल गई। पहले यह जिले के एसपी, क्षेत्र के विधायक या फिर अन्य अधिकारियों की असली नंबर पता करता था। फिर उसे फेंक कॉल करने वाले ऐप में फीड कर, दारोगा, तहसलीदार या अन्य लोगों को फोन करता था। लेकिन एक दारोगा ने एसपी के नाम से आए कॉल को रिसीव तो जरूर किया। लेकिन उसे आवाज पर शक हुआ तो उसने कॉल रिकॉर्ड कर उसे कई बार सुना। उसके बाद साइबर सेल से इसकी जांच शुरू करवाई तो पूरे मामले का खुलासा हुआ।

ऐसे हुआ खुलासा
शुक्रवार को एसपी आदित्यप्रताप सिंह और एएसपी देवेंद्र पाटीदार ने इस मामले का खुलासा किया। उन्होंने बताया कि सागौर थाना प्रभारी प्रतीक शर्मा के मोबाइल पर एसपी धार के शासकीय मोबाइल से एक कॉल आया। कॉलर ने शर्मा को आदेशित किया कि राजपाल सिंह हैं सागौर के, इनका जो भी काम हो फोन पर ही हो जाना चाहिए। थाना प्रभारी को संदेह हुआ कि कॉलर की आवाज में भिन्नता है।

po.jpg

चाचा की फाइल दिखवा लेना
एसपी ने बताया कि थानेदार के पास इस आरोपी का अगले दिन एक अक्टूबर को फिर फोन आता है। राजपाल सिंह ने अपने मोबाइल नंबर से थाना प्रभारी शर्मा से संपर्क किया। उसने कहा कि मेरे चाचा दिलीप सिंह पंवार की 12 बोर की बंदूक खराब हो जाने से आपके थाने पर शस्त्र क्रय-विक्रय की फाइल आई हैं, दिखवा लेना। थाना प्रभारी ने तस्दीक कर उक्त फाइल दो अक्टूबर में दिलीप सिंह निवासी ग्राम पिपलिया का आवेदन मिला। लेकिन थाना प्रभारी को जब शंका हुआ तो थाना प्रभारी ने आवेदन फाइल अपने कब्जे में ले ली।

po1.png

फिर किया थाना प्रभारी को फोन
आरोपी राजपाल सिंह ने थाना प्रभारी को फिर एसपी के सरकारी नंबर से कॉल कर कहा कि दिलीप सिंह का काम कर दो। थाना प्रभारी ने इसके बाद कॉल रिकॉर्ड कर लिया। जांच करने पर राजपाल की आवाज और एसपी के नंबर से बात कर रहे कॉलर की आवाज समान होने पर फेंक कॉलिंग एप्लीकेशन से कॉल का संदेह हुआ। इसकी गोपनीय तरीके से तस्दीक की गई और सायबर शाखा क्राइम ब्रांच जिला धार के माध्यम से मोबाइल नंबरों की सीडीआर और सिम की जानकारी ली। इस पर मोबाइल नंबर से राजपाल द्वारा कॉल किया गया। वह मोबाइल नंबर राजपाल सिंह निवासी पिपलिया थाना सागौर के नाम पर दर्ज निकला।

po2.png

घर से पकड़ा गया आरोपी
थाना प्रभारी सेक्टर पीथमपुर चंद्रभान सिंह चडार ने थाना प्रभारी सागौर और उनकी टीम के साथ मिलकर आरोपी राजपाल सिंह को उनके घर से पकड़ा। आरोपी के मोबाइल फोन को कब्जे में लिया। जांच में मोबाइल फोन में फेक कॉल ऐप इंस्टाल मिला। पूछताछ में खुलासा हुआ कि आरोपी की एक कंस्ट्रक्शन फर्म हमेंद्र सिंह पटेल कंस्ट्रक्शन है। उसने पुलिस को बताया कि हम टेंडर से शासकीय कांट्रैक्ट लेते हैं। कई बार दफ्तरों में फाइल पास कराने में दिक्कत आती थी। ऐसे में बड़े अधिकारी के नाम से कर्मचारियों को फोन लगाते थे और काम जल्दी हो जाता था।

विधायक मेंदोला के नाम से भी किया फोन
एसपी ने बताया कि नपा पीथमपुर के सीएमओ को भी इंदौर के विस क्षेत्र-2 के विधायक रमेश मेंदोला के मोबाइल नंबर का दुरुपयोग कर राजपाल पंवार ने ग्राम राधानगर स्थित एमपीईबी ग्रिड पर इंजीनियर जैन को कॉल किया। पटवारी, आरआई के कर्मचारियों को भी आरोपी ने अधिकारी बनकर फाइलें पूरा करने के निर्देश दिए थे। राजपाल ने बंदूक के लाइसेंस के लिए धार कलेक्टर को भी विधायक मेंदोला के नंबर का दुरुपयोर कर कॉल किया। राजपाल एक साल से ऐप के जरिए फेंक अधिकारी बन अपना काम निकालता था। वह थर्ड ईयर इंजीनियरिंग का छात्र है।