स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

स्वामीनारायण के मूलधाम वड़ताल पहुंचे 21 गांव के श्रद्धालु

Shyam Kumar Awasthi

Publish: Oct 21, 2019 23:10 PM | Updated: Oct 21, 2019 23:10 PM

Dhar

दो पहिया वाहनों से आए निमाड़ सतसंग समाज के भक्त



कुक्षी. नगर से पहली बार बाइक यात्रा गुजरात के वडताल धाम पहुंची। यात्रा को कुक्षी के स्वामीनारायण मंदिर से पूज्य गोविंद स्वामी (मेतपुर वाले), प्रेमनंदन स्वामी (उज्जैन वाले) व नगर के विभिन्न समाजों के वरिष्ठजनों ने हरी झंडी दिखाकर रवाना किया। यात्रा नगर के विभिन्न मार्गों से होते हुए विजय स्तंभ पहुंची।
सिलकुआ सतसंग समाज द्वारा पुष्पों से स्वागत किया गया। यात्रा के आलीराजपुर नगर प्रवेश पर माली समाजजनों ने पुष्प वर्षा कर यात्रा का स्वागत कर मंगलमय यात्रा के लिए भगवान से प्रार्थना की। यात्रा के अगले पढ़ाव पावी जेतपुर गुजरात में हरिभक्त डॉ. साके द्वारा जलपान की व्यवस्था की गई। हालोल पहुंचने पर कुल 400 हरि भक्तों को गोंविद स्वामी व प्रेम नंदन स्वामी के आज्ञानुवर्ती शिष्य व हरि भक्त निलेश पटेल परिवार के द्वारा भोजन की थाल महाप्रसादी स्वरूप परोसी गई। सभी भक्त वडताल धाम की ओर बढ़े। जैसे ही यात्रा वडताल पहुंची संत असिकोठारी स्वामी संत स्वामी, गोंविद स्वामी, आनंद स्वामी, सत्यप्रकाश स्वामी, सूर्यप्रकाश स्वामी, प्रेम नंदन स्वामी व घनश्याम भगत की उपस्थिति में हरि भक्तों का आइसक्रीम खिलाकर स्वागत किया गया। इसके पश्चात सभी भक्त भगवान के दर्शन लाभ प्राप्त कर शयन आरती हेतु मंदिर परिसर पहुंचे। भोजन स्वररूप महाप्रसादी ग्रहण कर सभी भक्तों को उपरोक्त उल्लेखित संतो द्वारा विश्राम स्थल पर सतसंग सभा कर प्रवचन स्वरूप आशीर्वचन प्रदान किए गए। रविवार प्रात: महाआरती व प्रभुदर्शन लाभ प्राप्त कर सभी हरि भक्तों ने वडताल धाम को स्वच्छता अभियान से जोड़ा । वडताल धाम की सभी गलियों को संत परिवार की उपस्थिति में प्लास्टिक मुक्त अभियान से जोडने का संकल्प लिया गया। सभी हरि भक्तों ने आचार्य राकेश प्रसाद स्वामी के दर्शन कर आशीर्वाद प्राप्त किया। महाराजश्री से आज्ञा लेकर सभी भक्त सकुशल स्वामीनारायण मंदिर कुक्षी पहुंचे। समिति के अध्यक्ष महेन्द्र जीराती, लोकेश सरदार, मयंक (दादू) मनोज पाटीदार, मुकेश पाटीदार, सुखदेव पाटीदार, सुनील पाटीदार, निकेश पाटीदार ने जलपान व भोजन के यजमानों को धन्यवाद प्रदान कर उनका आभार माना गया।